लाइव टीवी

नोबेल पुरस्कार नहीं, अव्वल दर्जे की वैज्ञानिक संस्कृति होनी चाहिए भारत का लक्ष्य : रामकृष्णन

भाषा
Updated: February 3, 2020, 4:22 PM IST
नोबेल पुरस्कार नहीं, अव्वल दर्जे की वैज्ञानिक संस्कृति होनी चाहिए भारत का लक्ष्य : रामकृष्णन
वेंकटरमण रामकृष्णन ने कहा कि देश का लक्ष्य ऐसी वैज्ञानिक संस्कृति विकसित करना हो, जो लोगों की समस्याओं का समाधान करे.

रामकृष्णन ने कहा, 'नोबेल पुरस्कार अच्छे विज्ञान का फल है. वह अच्छे विज्ञान का लक्ष्य नहीं है. अगर अगले कुछ साल में भारत को एक नोबेल मिल भी जाता है, तो इसका मतलब यह नहीं होगा कि अचानक भारत में विज्ञान बेहतर हो गया है.'

  • Share this:
नई दिल्ली. वैज्ञानिक अनुसंधानों और विकास पर ज्यादा से ज्यादा खर्च करने की वकालत करते हुए रसायन शास्त्र में नोबेल पुरस्कार पाने वाले वैज्ञानिक वेंकटरमण रामकृष्णन (Venkatraman Ramakrishnan) ने कहा कि भारत का लक्ष्य नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) पाना नहीं, बल्कि देश में अव्वल दर्जे की ऐसी वैज्ञानिक संस्कृति विकसित करना होना चाहिए, जो लोगों की समस्याओं को सुलझा पाए.

रामकृष्णन ने कहा, 'नोबेल पुरस्कार अच्छे विज्ञान का फल है. वह अच्छे विज्ञान का लक्ष्य नहीं है. अगर अगले कुछ साल में भारत (Bharat) को एक नोबेल मिल भी जाता है, तो इसका मतलब यह नहीं होगा कि अचानक भारत में विज्ञान बेहतर हो गया है. इसका सिर्फ इतना मतलब होगा कि नोबेल पाने वाले सर सी. वी. रमण की तरह किसी एक व्यक्ति ने तमाम अवरोधों को पार कर यह मुकाम हासिल किया है.'

उन्होंले आगे कहा कि 'अगर भारत को 15-20 नोबेल पुरस्कार मिल जाएं तो अलग बात होगी.' यह पूछने पर कि क्या उन्हें लगता है कि अगले 10 साल में भारत को विज्ञान के क्षेत्र में कोई नोबेल मिल सकता है, स्ट्रक्चरल बायोलॉजी के वैज्ञानिक ने कहा, 'मुझे नहीं लगता कि नोबेल पुरस्कार लक्ष्य होना चाहिए. अ

गर वैज्ञानिक संस्थाएं प्रगति करती हैं और बेहतर करती हैं तो वह अच्छा रहेगा. ऐसे में लक्ष्य अव्वल दर्जे की ऐसी वैज्ञानिक संस्कृति विकसित करना होना चाहिए जो लोगों की महत्वपूर्ण समस्याओं का समाधान करे.' भारतीय मूल के रामकृष्णन अब ब्रिटिश-अमेरिकी नागरिक हैं. रॉयल सोसायटी के प्रेसिडेंट रामकृष्णन का कहना है कि भारत जिन क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित कर सकता है, वे हैं, एंटी माइक्रोबियल रेजिस्टेंस (Antimicrobial Resistance), कीटाणु नियंत्रण, जैव विविधता, पर्यावरण और उसमें आ रही समस्याएं, पर्यावरण संरक्षण, गैर-संक्रामक बीमारियां.

राइबोसोम (Ribosome) के स्ट्रक्चर और कामकाज पर अनुसंधान को लेकर रामकृष्णन को 2009 में उनके दो अन्य साथियों सहित रसायन विज्ञान के क्षेत्र का नोबेल पुरस्कार दिया गया था. रामकृष्णन ने अनुसंधान एवं विकास के लिए किए गए बजट प्रावधानों की आलोचना करते हुए कहा कि पिछले 10 साल से इसे जीडीपी (GDP) का बहुत छोटा हिस्सा मिल रहा है.

वैज्ञानिक का कहना है कि भारतीय संविधान वैज्ञानिक विचार की बात करता है, लेकिन बजट और संविधान की बातों में कोई मेल नहीं है. संविधान में विज्ञान की बात की गई है, लेकिन किसी भी सरकार ने वर्षों से आरएंडडी का बजट जीडीपी का 2.4 प्रतिशत से ज्यादा नहीं रखा है. जब तक भारत चीन और अन्य देशों जितना धन निवेश नहीं करता, वह प्रतिस्पर्धा नहीं कर सकता. उन्होंने चेताया कि ऐसा ही चलता रहा, तो भविष्य में भारत सिर्फ दूसरे देशों के स्तर तक पहुंचने का प्रयास करता रहेगा.

ये भी पढ़ें- हेगड़े पर बोले तुषार गांधी-बापू का नाटक इतना सच्चा,अंग्रेजों ने छोड़ दिया भारत           

           मस्जिद में एंट्री, खतना, दूसरे धर्म में शादी-इन मुद्दों पर होगी सुप्रीम सुनवाई

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 3, 2020, 4:21 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर