लाइव टीवी

आतंकवाद का आरोपी नहीं हूं, लगातार हिरासत में रखने का कोई तुक नहीं है: डीके शिवकुमार

भाषा
Updated: September 18, 2019, 8:52 PM IST
आतंकवाद का आरोपी नहीं हूं, लगातार हिरासत में रखने का कोई तुक नहीं है: डीके शिवकुमार
कर्नाटक के कांग्रेस नेता डी के शिवकुमार ने अदालत में कहा कि धन शोधन मामले में उन्हें लगातार हिरासत में रखने का कोई तुक नहीं है (फाइल फोटो)

कर्नाटक (Karnataka) के कांग्रेस नेता डी के शिवकुमार (DK Shivakumar) ने दिल्ली की एक अदालत में बुधवार को कहा कि धन शोधन मामले (Money Laundering Case) में उन्हें लगातार हिरासत में रखने का कोई तुक नहीं है क्योंकि वह ‘आतंकवाद’ (Terrorism) जैसे किसी अन्य जघन्य अपराध के आरोपी नहीं हैं.

  • भाषा
  • Last Updated: September 18, 2019, 8:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कर्नाटक (Karnataka) के कांग्रेस नेता डी के शिवकुमार (DK Shivakumar) ने दिल्ली की एक अदालत में बुधवार को कहा कि धन शोधन मामले (Money Laundering Case) में उन्हें लगातार हिरासत में रखने का कोई तुक नहीं है क्योंकि वह ‘आतंकवाद’ (Terrorism) के किसी मामले या किसी अन्य जघन्य अपराध के आरोपी नहीं हैं.

डी के शिवकुमार के वकील ए एम सिंघवी और मुकुल रोहतगी ने अदालत को बताया कि उन्होंने अपने चुनावी हलफनामे (Election Affidavit) में पहले ही करीब 800 करोड़ रुपये की संपत्ति के बारे में जानकारी दी थी और ‘‘अगर उन्होंने गलत सूचना दी तो अभियोग चलाया जा सकता है.’’

ईडी के अनुरोध पर 19 सितंबर तक टाली गई सुनवाई
विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहाड़ ने मामले पर सुनवाई 19 सितंबर तक के लिए टाल दी. सुनवाई टालने का अनुरोध प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) ने किया था.

एजेंसी ने अदालत को बताया कि अतिरिक्त सॉलिसीटर जनरल केएम नटराज मौजूद नहीं हैं इसलिए मामले की सुनवाई गुरुवार तक के लिए स्थगित की जाए. एजेंसी का प्रतिनिधित्व विशेष लोक अभियोजक एन के माट्टा और नीतेश राणा ने भी किया.

'पूर्वजों की जमीन को मनी लॉन्ड्रिंग में दिखाया गया'
संक्षिप्त सुनवाई के दौरान शिवकुमार के वकील ने अदालत को बताया कि उन्होंने अपने चुनावी हलफनामे में सबकुछ बता दिया था.
Loading...

वकील ने बताया कि शिवकुमार की बेटी ऐश्वर्या के बैंक खाते में भेजे गए 108 करोड़ रुपये में से 40 करोड़ उनसे लिया कर्ज था जिसे भी धन शोधन के तौर पर दिखाया गया है.

शिवकुमार ने अपने वकील के जरिए कहा, ‘‘वोक्कालिगा समुदाय (Vokkaliga Community) खेती में काफी महत्वपूर्ण है, उसके पास बड़ी कृषि भूमि है. मेरे परिवार की भी जमीन है जो मुझे पूर्वजों से मिली. उसे भी धन शोधन (Money Laundering) के तौर पर दिखाया गया है.’’

'मुझ पर आतंकवाद जैसे आरोप नहीं, निरंतर हिरासत का तुक क्या?'
डी के शिवकुमार ने कहा, ‘‘मुझे पर आतंकवाद (Terrorism) जैसे जघन्य अपराध के आरोप नहीं हैं. उन्हें निरंतर हिरासत में रखने का क्या तुक है.’’

मंगलवार को शिवकुमार को एक अक्टूबर तक 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था. कनकपुर विधानसभा सीट से विधायक शिवकुमार को तीन सितंबर को ईडी (Enforcement Directorate) ने गिरफ्तार किया था.

यह भी पढ़ें: अब हिंदी का विरोध कर रहे चिदंबरम एक समय बनाना चाहते थे इसे राष्ट्रभाषा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 18, 2019, 8:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...