Home /News /nation /

उत्‍तर प्रदेश के चुनावी मैदान में अयोध्‍या नहीं काशी होगी भाजपा की पिच

उत्‍तर प्रदेश के चुनावी मैदान में अयोध्‍या नहीं काशी होगी भाजपा की पिच

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 13-14 दिसंबर को दो दिन के लिए अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंच रहे हैं. (प्रतीकात्मक)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 13-14 दिसंबर को दो दिन के लिए अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंच रहे हैं. (प्रतीकात्मक)

वाराणसी (Varanasi) में होने वाले कार्यक्रम की भव्‍यता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के साथ भाजपा के सभी मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष, भाजपा के सभी वरिष्ठ नेता और उत्तर प्रदेश की पूरी मंत्रिपरिषद 13 दिसंबर से काशी में होंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नाव से ललिता घाट पहुंचेंगे. यहां से गंगा तट पर बने गेटवे ऑफ कॉरिडोर के रास्ते हाथ में गंगा जल लेकर काशी विश्वनाथ मंदिर में प्रवेश करेंगे. नेताओं का यह समूह 15 दिसंबर तक वाराणसी में ही रहेगा. इस दौरान पीएम के साथ 'सुशासन' पर सीएम और डिप्टी सीएम का दो दिवसीय सेमिनार होगा.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. इस बार के उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Assembly Elections) की शुरुआत अयोध्‍या (Ayodhya) से करने के लिए बीजेपी (BJP) नेताओं ने जब हामी भरी तो हर किसी को यही लगा कि इस बार के उत्‍तर प्रदेश चुनाव का केंद्र बिंदु अयोध्‍या होगा. लेकिन जिस तरह से प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) में बीजेपी नेताओं का हुजूम उमड़ रहा है, उससे लगता है कि बीजेपी के केंद्र में अब काशी आ गया है. इसका पता इसी बात से लगाया जा सकता है कि पिछले महीने गृहमंत्री अमित शाह राज्य भर के भाजपा नेताओं के साथ विचार-मंथन करने के लिए वाराणसी पहुंचे थे. अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 13-14 दिसंबर को दो दिन के लिए अपने संसदीय क्षेत्र पहुंच रहे हैं. पीएम मोदी के दौरे के साथ ही बीजेपी वाराणसी में एक महीने तक चलने वाले एक विस्तृत कार्यक्रम की तैयारी भी कर चुकी है.

    इस कार्यक्रम की भव्‍यता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भाजपा के सभी मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष, भाजपा के सभी वरिष्ठ नेता और उत्तर प्रदेश की पूरी मंत्रिपरिषद 13 दिसंबर से काशी में होंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नाव से ललिता घाट पहुंचेंगे. यहां से गंगा तट पर बने गेटवे ऑफ कॉरिडोर के रास्ते हाथ में गंगा जल लेकर काशी विश्वनाथ मंदिर में प्रवेश करेंगे. नेताओं का यह समूह 15 दिसंबर तक वाराणसी में ही रहेगा. इस दौरान पीएम के साथ ‘सुशासन’ पर सीएम और डिप्टी सीएम का दो दिवसीय सेमिनार होगा. 13 दिसंबर के उद्घाटन समारोह में देश के सभी प्रमुख संतों को आमंत्रित किया गया है. देश भर के सभी ज्योतिर्लिंगों में बड़े कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे, जबकि समारोह के लाइव प्रसारण के लिए 51,000 स्थानों पर विशाल एलईडी स्क्रीन लगाई जाएंगी.

    वाराणसी में होने वाले कार्यक्रम में बारे में जानकारी देते हुए भाजपा नेता तरुण चुग ने कहा, यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ ही हैं, जिन्होंने काशी विश्वनाथ मंदिर की महिमा को बहाल किया है. जहां भगवान शिव निवास करते हैं और इसे सबसे पवित्र स्थान बनाते हैं. ये बीजेपी के कार्यकाल में ही संभव था. यह जीवन में एक बार होने वाली ऐतिहासिक और अभूतपूर्व घटना है और देशभर के लोग इससे खुश हैं और इस पर गर्व कर रहे हैं. उत्तर प्रदेश बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि ऐसा नहीं है कि अयोध्या पार्टी के फोकस में नहीं है. मंच पर हमारे सभी नेता राम मंदिर के बारे में बात कर रहे हैं. मंदिर को बनने में अभी दो साल लगेंगे लेकिन काशी विश्वनाथ मंदिर का परिवर्तन अब एक वास्तविकता है और पार्टी इसे बड़े पैमाने पर प्रदर्शित करने की योजना बना रही है.

    इसे भी पढ़ें :- Varanasi News: रात के अंधेरे में और भव्य दिख रहा काशी विश्वनाथ धाम,रंग बिरंगे लाइटों से हुआ जगमग

    चुनाव वाले राज्य में संदेश पहुंचाने के लिए भाजपा कार्यकर्ताओं को यूपी के हर गांव में समारोह के सीधा प्रसारण की व्यवस्था करने के निर्देश जारी किए गए हैं. यूपी के कैबिनेट मंत्री 16 दिसंबर तक काशी में रह सकते हैं. यही नहीं यूपी सरकार नए कॉरिडोर परिसर के अंदर कैबिनेट की बैठक कर सकती है. भाजपा वाराणसी में 5 लाख से अधिक घरों में काशी मंदिर का प्रसाद और नई परियोजना पर एक पुस्तिका भी भेजेगी. भाजपा नेता तरुण चुग ने कहा कि हालांकि मुख्य कार्यक्रम 13 दिसंबर को है, लेकिन भाजपा कार्यकर्ता 8 और 9 दिसंबर को देश भर के सभी जिलों में ‘दिव्य काशी-भव्य काशी’ पर प्रभात फेरी निकालेंगे जबकि 10, 11 और 12 दिसंबर को देश भर के सभी मंदिरों, आश्रमों और धार्मिक स्थलों में स्वच्छता अभियान चलाया जाएगा, जिसमें भाजपा के सभी निर्वाचित प्रतिनिधि, विधायक, सांसद, मंत्री, मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री हिस्सा लेंगे.

    इसे भी पढ़ें :- CM योगी की सरकार में होने जा रहा खास काम, अगली कैबिनेट बैठक काशी विश्वनाथ मंदिर में, जानें कौन सी है तारीख

    चुग ने कहा कि वाराणसी में काशी में सभी मंदिरों, आश्रमों और महत्वपूर्ण चौराहों और सड़कों पर लेजर शो और विशेष रोशनी होगी और गंगा नदी पर सभी नावों को भी विशेष रोशनी से सजाया जाएगा. उत्तर प्रदेश सरकार ने काशी में निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए विशेष व्यवस्था की है. वहीं 17 दिसंबर को वाराणसी में महापौरों का सम्मेलन होगा. 23 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फिर से प्राकृतिक और जैविक कृषि को बढ़ावा देने के लिए वाराणसी में एक सेमिनार को संबोधित करेंगे, जिसमें देश भर के कृषि वैज्ञानिक, प्रगतिशील किसान और कृषि विशेषज्ञ भाग लेंगे. अगले साल 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद की जयंती के अवसर पर भाजपा द्वारा एक युवा सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा. वाराणसी में महीने भर चलने वाले इस कार्यक्रम का समापन मकर सक्रांति (14 जनवरी) को होगा.

    Tags: 2022 Uttar Pradesh Assembly Elections, Ayodhya, BJP, Narendra modi, Pm narendra modi, Uttar Pradesh Assembly Elections, Varanasi news, Yogi adityanath

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर