Home /News /nation /

नई पार्टी बनाने से गुलाम नबी आजाद का इनकार, कहा- कौन जाने भविष्‍य में क्‍या होगा?

नई पार्टी बनाने से गुलाम नबी आजाद का इनकार, कहा- कौन जाने भविष्‍य में क्‍या होगा?

जम्मू कश्मीर में वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने नई पार्टी बनाने से किया इनकार. (फ़ाइल फोटो)

जम्मू कश्मीर में वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने नई पार्टी बनाने से किया इनकार. (फ़ाइल फोटो)

Ghulam Nabi Azad: पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह की बगावत के बाद अब ऐसा लग रहा है कि जम्मू कश्मीर (Jammu-Kashmir) में वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) ने भी पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. आज़ाद इन दिनों जम्मू-कश्मीर में ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे हैं. खास बात ये है कि इन रैलियों में वो कांग्रेस (Congress) के खिलाफ बयानबाज़ी कर रहे हैं. राजनीति गलियारों में ऐसी खबरें हैं कि गुलाम नबी आज़ाद खुद अपनी पार्टी लॉन्च कर सकते हैं. हालां‍कि आजाद ने कहा वह अपनी अभी कोई पार्टी नहीं बना रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...

    श्रीनगर. कांग्रेस (Congress) के असंतुष्ट नेताओं में शामिल गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) ने जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu-Kashmir) में नई पार्टी बनाने से इंकार कर दिया है हालांकि उन्‍होंने इशारो ही इशारो में ये भी कह दिया है कि कौन जानता है कि भविष्‍य में क्‍या होगा. दरअसल आजाद लगातार जम्मू-कश्मीर में रैलियों को संबोधित कर रहे हैं, जिससे अटकलें लगाई जा रही हैं कि वह एक नई पार्टी बना रहे हैं. गुलाम नबी आजाद के लगातार रैली करने और उनके 20 वफादारों के एक के बाद एक इस्‍तीफे ने कांग्रेस की चिंता बढ़ा दी है. हालांकि उन्होंने कहा है कि रैलियां जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक गतिविधियों को दोबारा शुरू करने के लिए की जा रही हैं. उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाने और राज्य का दर्जा खत्म करने के बाद जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक गतिविधियां ठंडे बस्ते में चली गई हैं.

    पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह की बगावत के बाद अब ऐसा लग रहा है कि जम्मू कश्मीर में वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने भी पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. आज़ाद इन दिनों जम्मू कश्मीर में ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे हैं. खास बात ये है कि इन रैलियों में वो कांग्रेस के खिलाफ बयानबाज़ी कर रहे हैं. राजनीति गलियारों में ऐसी खबरें हैं कि गुलाम नबी आज़ाद खुद अपनी पार्टी लॉन्च कर सकते हैं. हालां‍कि आजाद ने कहा वह अपनी अभी कोई पार्टी नहीं बना रहे हैं. उन्होंने कहा, कोई नहीं कह सकता कि राजनीति में आगे क्या होगा, जैसे कोई नहीं जानता कि वह कब मर जाएगा. राजनीति में आगे क्या होगा इसकी भविष्यवाणी कोई नहीं कर सकता, लेकिन पार्टी बनाने का मेरा कोई इरादा नहीं है.

    गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस के आलाकमान पर निशाना साधते हुए कहा कि अब कोई आलोचना सुनना नहीं चाहता है और बोलने पर दरकिनार कर दिया जाता है. आजाद ने कहा कि कोई भी नेतृत्व को चुनौती नहीं दे रहा है. एक समय में जब पार्टी के अंदर सब कुछ सही नहीं चल रहा था उस वक्‍त इंदिरा गांधी और राजीव गांधी ने मुझे बहुत अधिक स्वतंत्रता दी थी. वे आलोचनाओं का कभी बुरा नहीं मानते थे. वे इसे आक्रामक रूप में भी नहीं देखते थे लेकिन आज का नेतृत्व इसे आक्रामक रवैये के रूप में देखता है.

    इसे भी पढ़ें :- कांग्रेस को लेकर निराश गुलाम नबी आजाद, कहा- मुझे नहीं लगता 2024 में पार्टी जीत पाएगी 300 सीटें

    लगातार इस्तीफा दे रहे हैं आज़ाद के करीबी नेता
    जम्मू-कश्मीर कांग्रेस में राजनीतिक तस्वीर तेज़ी से बदल रही है. गुलाम नबी आजाद के करीब 20 करीबी नेताओं ने पिछले दो हफ्तों में पार्टी के अलग-अलग पदों से इस्तीफा दे दिया है. अपने इस्तीफे में नेताओं ने गुलाम अहमद मीर को राज्य इकाई के प्रमुख के पद से हटाने सहित कांग्रेस में व्यापक बदलाव की मांग है. इन नेताओं ने आरोप लगाया है कि उन्हें प्रदेश कांग्रेस नेतृत्व के ‘शत्रुतापूर्ण रवैये’ के चलते ये कदम उठाना पड़ा.

    इसे भी पढ़ें :- Jammu and Kashmir: संभाले नहीं संभल रही कांग्रेस! अब बगावत पर उतारू हुए ये दिग्गज नेता

    J&K कांग्रेस के कई नेता नाराज़
    जम्मू और कश्मीर में कांग्रेस के उपाध्यक्ष जीएन मोंगा ने कहा, ‘हमने पार्टी आलाकमान से अनुरोध किया है कि पार्टी के भीतर कुछ समस्याएं हैं. लिहाज़ा उन्हें दूर किया जाए. जहां तक ​​आजाद साहब का सवाल है, वो लंबे समय से हमारे नेता हैं.’ मोंगा ने चिट्ठी में जम्मू-कश्मीर कांग्रेस प्रमुख को हटाने के लिए भी कहा है.

    Tags: Article 370, Congress, Ghulam nabi azad, Jammu and kashmir, Rahul gandhi, Sonia Gandhi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर