इनको भी है ताजमहल और मुग़लों से दिक्कत

इनको भी है ताजमहल और मुग़लों से दिक्कत
पिछले कुछ सालों से देश की पाठ्य पुस्तकों से मुगलों को मिटाने का जतन किया जा रहा है.

पिछले कुछ सालों से देश की पाठ्य पुस्तकों से मुगलों को मिटाने का जतन किया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 17, 2017, 8:26 AM IST
  • Share this:
बोधिसत्व सेन रॉय

मुगलों ने दो सौ से ज्यादा सदियों तक भारत के विशाल क्षेत्र पर राज किया. उन्होंने वास्तुकला के विरासत के रूप में ताज महल और लाल किला छोड़ा. लेकिन पिछले कुछ सालों से देश की पाठ्य पुस्तकों से मुगलों को मिटाने का जतन किया जा रहा है. इसके अलावा बीजेपी नेता भी लगातार ताजमहल की ऐतिहासिकता और महत्व पर हमला कर रहे हैं. इस सूची में ये नाम शामिल हैं-

महाराष्ट्र शिक्षा बोर्ड
महाराष्ट्र शिक्षा बोर्ड की सातवीं क्लास की पाठ्यपुस्तक के एक बड़े हिस्से से मुगल और इस्लामिक शासकों से जुड़ी सामग्री को हटा दिया गया. शिवाजी महाराज द्वारा स्थापित मराठा साम्राज्य पर ज्यादा जोर देते हुए नाम मात्र के लिए मुगल शासन का जिक्र किया गया.
राजस्थान विश्वविद्यालय


राजस्थान विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग ने अपने स्टडी बोर्ड की मीटिंग में इस बात पर जोर दिया कि छात्रों को महाराणा प्रताप और हल्दीघाटी की लड़ाई पर नवीनतम शोध जानने की आवश्यकता है जिससे वे युद्ध के परिणामों से परिचित हो सकें. चंद्र शेखर शर्मा की किताब राष्ट्र रत्न महाराणा प्रताप ने प्रताप को हल्दीघाटी के विजेता के रूप में घोषित किया, इस तथ्य को विषय की सिफारिश सूची में शामिल किया गया.

शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास 
आरएसएस संबद्ध इस संगठन ने दीनानाथ बत्रा की अध्यक्षता में एनसीईआरटी को अपनी पुस्तकों से 'आक्रामक' भागों को हटाने की सिफारिश भेजी है. इसमें कहा गया कि शासकों की लोगों के प्रति अत्यंत उदार नीति थी. सभी मुगल शासकों ने पूजा स्थलों के निर्माण और रखरखाव के लिए अनुदान दिया. यहां तक कि जब भी युद्ध के दौरान मंदिरें नष्ट हुईं, उसकी मरम्मत के लिए भी अनुदान दिया गया, इसे किताबों से हटाने की मांग की गई.

लक्ष्मीकांत वाजपेयी
बीजेपी उत्तर प्रदेश के पूर्व अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी के अनुसार ताजमहल के कुछ हिस्से प्राचीन मंदिर तेजो मलाया के भाग हैं. उन्होंने ये दावा किया कि ताजमहल जय सिंह के एक महल का हिस्सा था. शाहजहां ने जय सिंह से ये जमीन खरीदी थी और यहां उसने ताजमहल बनाने का फैसला लिया. ये मंदिर इसी जमीन का हिस्सा था जिसे शाहजहां ने जय सिंह से खरीदा था.

संगीत सोम
भाजपा विधायक संगीत सोम ने ताजमहल को लेकर काफी आपत्तिजनक टिप्पणी की. सोम ने ताजमहल को भारतीय संस्कृति पर एक धब्बा बताते हुए इसे धोखेबाज द्वारा बनाया गया कहा. उन्होंने कहा कि बहुत से लोग इस बात से चिंतित हैं कि ताजमहल को उत्तर प्रदेश टूरिज़्म बुकलेट में से ऐतिहासिक स्थानों की सूची से हटा दिया गया. किस इतिहास की बात कर रहे हैं हम? जिस इंसान ने ताजमहल बनवाया था, उसने अपने पिता को कैद कर लिया था. वह हिन्दुओं को खत्म करना चाहता था. अगर यही इतिहास है, तो यह बहुत दुःखद है, और हम इतिहास बदल डालेंगे. मैं आपको इसकी गारंटी देता हूं.

ये भी पढ़ें-
'तालिबान ने जो बुद्ध प्रतिमा के साथ किया वैसा ताजमहल के साथ क्यों नहीं?
ताजमहल पर संगीत सोम के बयान पर विरोध शुरू, सपा और कांग्रेस ने किया हमला
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading