'1700 करोड़ के भजियावाले' पर ईडी का छापा, अब मिले 50 किलो चांदी के बर्तन!

गुजरात के सूरत में चायवाले से फाइनेंसर बने किशोर भजियावाला के घर और दफ्तर से रोज लाखों का माल बरामद हो रहा है। न्यूज 18 इंडिया को आयकर विभाग के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अभी तक उसकी 1700 करोड़ की संपति का पता चला है।

News18India
Updated: December 18, 2016, 4:33 PM IST
News18India
Updated: December 18, 2016, 4:33 PM IST
सूरत। गुजरात के सूरत में काले कारोबारी किशोर भजियावाला पर पड़ रहे छापे में एक से बढ़कर एक खुलासे हो रहे हैं। छापे में अब किशोर भजियावाला की दुकान से चांदी के बर्तन मिले हैं। इन बर्तनों का वजन करीब 50 किलो है। ये बर्तन दुकान के बेसमेंट में 8 फीट लंबी संदूक में छिपाकर रखे गए थे। दुकान की चाबी नहीं देने पर आयकर विभाग के अधिकारी शटर तोड़कर दुकान में घुसे और बर्तनों को जब्त किया।


इससे पहले न्यूज 18 इंडिया को आयकर विभाग के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अभी तक उसकी 1700 करोड़ की संपति का पता चला है। आयकर विभाग के सूत्रों के मुताबिक अभी तक भजियावाला के पास से 150 से ज्यादा प्रॉपर्टी के दस्तावेज मिले हैं, जिसकी बाजार कीमत 1500 से 1700 करोड़ के आसपास बताई जा रही है। पुलिस अब ये पता लगाने में जुटी है कि ये प्रॉपर्टी किसने नाम है? आयकर विभाग को शक है कि किशोर भजियावाला ने अलग-अलग नाम से ये प्रॉपर्टी खरीदी है।

आयकर विभाग के अफसर पिछले 5 दिन से किशोर भजियावाला के घर तलाशी में जुटे हैं। सूत्रों के मुताबिक अभी तक की जांच में किशोर के पास से 150 करोड़ की नकदी मिली है। बरामद रकम में से 90 लाख नई करेंसी में है। शनिवार को भजियावाला का एक पुराना दफ्तर खोला गया जो लंबे वक्त से बंद पड़ा था। इस दफ्तर से आयकर विभाग ने 2 किलो सोने के गहने जब्त किए। पहले घर, फिर बैंक और फिर दफ्तर में लगातार तलाशी जारी है। शुक्रवार को खोले गए 8 लॉकर में 13 किलो सोना मिला है। इसके अलावा चांदी और 5 लाख की नकदी भी मिली है। गुरुवार को खोले गए 8 बैंक लॉकर में एक करोड़ 8 लाख रुपये मिले थे। इसके अलावा 75 लाख कीमत के गहने भी बरामद हुए हैं।

इतना ही नहीं सूत्रों के मुताबिक किशोर भजियावाला के लॉकर से आयकर विभाग को जो दस्तावेज मिले हैं उसमें और भी चौंकाने वाली जानकारी है। इनकम टैक्स को शक है कि किशोर फर्जी दस्तावेज के सहारे किसान बना है और उसने एक साल के भीतर ही 300 बीघा जमीन खरीदी है। बताया जा रहा है कि एक जाने माने निजी बैंक ने इलाके में अपनी ब्रांच का उद्घाटन किशोर के हाथों करवाया था। पहले दिन आयकर विभाग किशोर भजियावाला के यहां छापा मारा था तो उसके घर से 23 लाख रुपये की नई करेंसी मिली थी।

बताया जा रहा है कि 30 साल पहले किशोर भजियावाला सूरत के उधना इलाके में ठेले पर चाय पकौड़ी बेचता था। इसके बाद उसने ऊंची ब्याजदर पर लोगों को पैसा देने का धंधा शुरू किया। इनकम टैक्स की छापेमारी में 14 बिल्डर के नाम का भी खुलासा हुआ है जो किशोर से ब्याज पर पैसा लेते थे। किशोर भजियावाला की महीने की कमाई साढ़े सात करोड़ बताई जा रही है। मगर आयकर विभाग में वो सालाना सिर्फ डेढ़ करोड़ ही टैक्स भरता है।

आरोप है कि काले धन को सफेद बनाने के लिए किशोर ने भगवान को भी नहीं बख्शा। सूरत के उधना इलाके में उसने एक मंदिर भी बनवाया था और पत्नी कमल भजियावाला के नाम पर एक एनजीओ भी रजिस्टर्ड है, जहां करोड़ों का काला धन सफेद किया जा चुका है। आयकर विभाग अब इन तमाम आरोपों की जांच कर रहा है।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 18, 2016, 9:42 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...