लाइव टीवी

काला धन कानून: IT विभाग ने 12,000 करोड़ रुपये के 422 मामलों में जारी किया नोटिस

भाषा
Updated: February 11, 2020, 10:38 PM IST
काला धन कानून: IT विभाग ने 12,000 करोड़ रुपये के 422 मामलों में जारी किया नोटिस
आयकर विभाग की बड़ी कार्रवाई

वित्त राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर (Anurag Singh Thakur) ने कहा कि आयकर विभाग (Income Tax Department) काला धन और कर अधिनियम अधिरोपण के तहत निरंतर और ठोस कार्रवाई कर रहा है.

  • भाषा
  • Last Updated: February 11, 2020, 10:38 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आयकर विभाग ने दिसंबर 2019 तक विदेशी काला धन कानून के तहत गैर-कानूनी संपत्ति और 12,600 करोड़ रुपये से अधिक की आय के 422 मामलों में नोटिस जारी किए हैं. यह जानकारी मंगलवार को संसद को दी गई. वित्त राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने कहा कि आयकर विभाग ने काला धन (अघोषित विदेशी आय और संपत्ति) और कर अधिनियम अधिरोपण के एक जुलाई 2015 से लागू होने के बाद निरंतर और ठोस कार्रवाई की है.

422 मामलों में नोटिस जारी
राज्यसभा को एक लिखित जवाब में उन्होंने कहा, 'इसके परिणामस्वरूप, 31 दिसंबर, 2019 तक, इस अधिनियम के तहत 422 मामलों में नोटिस जारी किए गए हैं. जिसमें अघोषित विदेशी संपत्ति और 12,600 करोड़ रुपये की आय शामिल है.' एचएसबीसी मामलों में बिना लाइसेंस वाले विदेशी बैंक खातों में जमा राशि के संबंध में, अब तक 8,460 करोड़ रुपये से अधिक की अघोषित आय को 1,290 करोड़ रुपये से अधिक के कर और जुर्माने के दायरे में लाया गया है. करीब 204 अभियोजन की शिकायतें दर्ज की गई हैं.

विदेशी खातों में जमा कराए गए 11,010 करोड़: अनुराम ठाकुर

अनुराग सिंह ठाकुर ने कहा, 'इंटरनेशनल कंसोर्टियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (आईसीआईजे) द्वारा खुलासा किये गये, मामलों में की गई निरंतर जांच से अब तक अज्ञात विदेशी खातों में 11,010 करोड़ रुपये से अधिक धन जमा होने का पता चला है. लगभग 99 अभियोजन शिकायतें दर्ज की गई हैं.' पनामा पेपर लीक जांच में, 1,550 करोड़ रुपये से अधिक के अघोषित विदेशी निवेश का पता चला है. उन्होंने कहा कि लगभग 38 अभियोजन शिकायतें इनमें दायर की गई हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 11, 2020, 10:38 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर