और घातक हो सकता है कोरोना वायरस, शरीर में प्रवेश का खोज लिया नया रास्‍ता

प्रोटीन के जरिये शरीर में घुस रहा कोरोना वायरस.
प्रोटीन के जरिये शरीर में घुस रहा कोरोना वायरस.

वैज्ञानिकों ने अपने शोध में पाया है कि कोरोना वायरस (Covid 19) अब एक प्रोटीन की मदद से शरीर में प्रवेश कर रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 27, 2020, 8:29 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश-विदेश में कहर बरपा रहा कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) अब और घातक हो सकता है. ऐसा इसलिए क्‍योंकि उसने अब मानव शरीर में प्रवेश का नया रास्‍ता खोज लिया है. वैज्ञानिकों ने अपने शोध में पाया है कि कोरोना वायरस (Covid 19) अब एक प्रोटीन की मदद से शरीर में प्रवेश कर रहा है. यह खास प्रोटीन इसके लिए कोरोना वायरस को रास्‍ता प्रदान करता है. यह शोध साइंस जर्लन में प्रकाशित हुआ है.

शोध में वैज्ञानिकों ने बताया है कि कोरोना वायरस के बाहरी हिस्‍से में नुकीला या स्पाइक रूप होता है. इनकी बाहरी सतह पर एक खास प्रोटीन होता है जो इंसान के शरीर में मौजूद कोशिकाओं के प्रोटीन एसीई-2 से जुड़ जाती हैं. इस तरह कोरोना वायरस उस इंसानी कोशिका के अंदर घुसकर संख्या बढ़ाता है. धीरे-धीरे यह जानलेवा वायरस इसके बाद पूरे शरीर पर कब्जा कर लेता है.

वैज्ञानिकों ने इस संबंध में दो शोध किए हैं. वैज्ञानिकों ने इस दौरान इंसानी कोशिकाओं में मौजूद न्यूरोपिलिन-1 नामक प्रोटीन का पता लगाया है. यह प्रोटीन भी शरीर में कोरोना वायरस के रिसेप्टर की ही तरह काम करता है. एक शोध में इंग्लैंड के ब्रिस्टल विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने न्यूरोपिलिन-1 प्रोटीन से कोरोना वायरस के शरीर में घुसने का पता लगाया है.

शोध में पता चला है कि कोशिका में मौजूद न्यूरोपिलिन-1 प्रोटीन के अंश वायरस पर मौजूद थे. वैज्ञानिकों का कहना है कि ऐसा तब ही संभव है जब यह वायरस इस प्रोटीन को संक्रमित करने की क्षमता रखता हो. वहीं जर्मनी और फिनलैंड के वैज्ञानिकों ने भी एकसमान मत जाहिर किया है कि शरीर में वायरस के प्रवेश का दूसरा रास्ता न्यूरोपिलिन-1 प्रोटीन नामक प्रोटीन के रूप में मौजूद है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज