Home /News /nation /

अब गुरुग्राम में स्‍कूल अपग्रेड कराने को लेकर 170 बेटियां धरने पर बैठीं

अब गुरुग्राम में स्‍कूल अपग्रेड कराने को लेकर 170 बेटियां धरने पर बैठीं

गुरुग्राम के कादरपुर सरकारी स्कूल के सामने धरने पर बैठी छात्राएं

गुरुग्राम के कादरपुर सरकारी स्कूल के सामने धरने पर बैठी छात्राएं

गांव वालों ने स्‍कूल पर ताला जड़ दिया है.

    रेवाड़ी की छात्राओं की तरह ही स्कूल अपग्रेड करवाने के लिए अब गुरुग्राम में धरना-प्रदर्शन शुरू हो गया है. गुरुग्राम के कादरपुर स्‍थित राजकीय उच्‍च विद्यालय को दर्जा बढ़ाने को लेकर उसमें पढ़ने वाली 170 छात्राएं धरने पर बैठ गई हैं. गांव वालों ने स्‍कूल पर ताला जड़ दिया है.

    इसकी सूचना गुरुग्राम के शिक्षा अधिकारियों को दे दी गई है. रेवाड़ी में बेटियों ने अनशन कर हरियाणा सरकार को झुकने पर मजबूर कर दिया था. इसी को देखते हुए कादरपुर के बच्‍चों ने भी धरने का सहारा लिया है.

    बताया गया है कि यह 10वीं तक का स्‍कूल है, जिसमें करीब आठ सौ बच्‍चे पढ़ते हैं. 12वीं की पढ़ाई के लिए उन्‍हें गांव से करीब पांच किलोमीटर दूर जाना पड़ता है. इसलिए इसी स्‍कूल को 12वीं तक करने की मांग हो रही है.

    बताया गया है मामले की सूचना गुरुग्राम के डिप्‍टी कमिश्‍नर हरदीप सिंह को मिल गई है. उन्‍होंने जिला शिक्षा अधिकारी नीलम भंडारी को मौके पर भेजा है. मामले की गंभीरता को देखते हुए वह भी गांव में जा सकते हैं.

    बता दें कि मनोहर सरकार के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा खुद दक्षिण हरियाणा से आते हैं और अब इसी इलाके में अपने स्‍कूल अपग्रेड करवाने की मांग को लेकर बेटियां मुखर हो रही हैं.

    मालूम हो कि हरियाणा के रेवाड़ी जिले के गांव गोठड़ा टप्पा में स्‍कूल 12वीं तक करने की मांग को लेकर 10 मई से छात्राएं अनशन पर बैठी थीं. सरकार ने सप्‍ताह भर के आंदोलन के बाद 17 मई को उनकी मांगें मान ली थीं.

    अब देखना यह है कि गुरुग्राम मामले में सरकार क्‍या फैसला लेती है. कादरपुर गांव के लोग और छात्राएं आश्‍वासन की बजाए स्‍कूल अपग्रेड करवाने का लिखित आदेश चाहते हैं.

    Tags: गुड़गांव

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर