राहुल गांधी के विरोध के बावजूद ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने भी किया अनुच्‍छेद-370 हटाने का समर्थन

जम्‍मू-कश्‍मीर से अनुच्‍छेद-370 (Article-370) हटाकर सूबे को दो केंद्रशासित राज्‍यों में बांटने के मोदी सरकार के फैसले का कांग्रेस की ओर से दीपेंद्र हुड्डा, मिलिंद देवड़ा, जनार्दन द्विवेदी समेत कई नेताओं ने समर्थन किया है. हालांकि, राहुल गांधी समेत कांग्रेस नेतृत्‍व ने इसका विरोध किया है.

News18Hindi
Updated: August 6, 2019, 10:20 PM IST
राहुल गांधी के विरोध के बावजूद ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने भी किया अनुच्‍छेद-370 हटाने का समर्थन
ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अनुच्‍छेद-370 हटाने के फैसले को भारत में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख का पूर्ण विलय करार दिया है.
News18Hindi
Updated: August 6, 2019, 10:20 PM IST
जम्मू-कश्मीर (jammu-Kashmir) से अनुच्छेद-370 (Article-370) हटाने और सूबे के पुनर्गठन को लेकर कांग्रेस दो-फाड़ हो गई है. राहुल गांधी (Rahul Gandhi) समेत कांग्रेस नेतृत्व ने मोदी सरकार (Modi Government) के इस फैसले का विरोध किया है. इसके बावजूद कांग्रेस के कई युवा और वरिष्‍ठ नेताओं ने सरकार के फैसले को सही ठहराया है‌. राहुल गांधी के करीबी ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने इसे जम्मू-कश्मीर और लद्दाख का भारत में पूर्ण विलय करार दिया है.

लंबी हो रही है समर्थन करने वाले कांग्रेसी नेताओं की सूची

ऐसे कांग्रेसी नेताओं की सूची लंबी होती जा रही है जो मोदी सरकार के इस फैसले का समर्थन कर रहे हैं. ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) से पहले कांग्रेस (Congress) की ओर से हरियाणा के दीपेंद्र हुड्डा (Deependra hudda), महाराष्ट्र के मिलिंद देवड़ा (Milind Deora), वरिष्‍ठ नेता जनार्दन द्विवेदी (janardan Dwivedi) समेत कई नेताओं ने अनुच्छेद-370 (Article-370) हटाने का समर्थन किया है. वहीं, असम से कांग्रेस के राज्यसभा सदस्‍य भुबनेश्वर कलिता ने पार्टी के रुख से नाराज होकर इस्तीफा दे दिया है.

कांग्रेस संसद में कर रही थी विरोध, सिंधिया ने किया ट्वीट

कांग्रेस लोकसभा (Lok Sabha) में जम्‍मू-कश्‍मीर से अनुच्‍छेद-370 (Article-370) हटाकर सूबे के पुनर्गठन के विधेयक का विरोध कर रही थी. ठीक उसी समय कांग्रेस नेता और पार्टी में अध्‍यक्ष पद के दावेदार माने जाते रहे ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने फैसले के पक्ष में ट्वीट (Tweet) कर दिया. उन्‍होंने लिखा कि मैं जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के भारत में पूर्ण विलय के कदम का समर्थन करता हूं. हालांकि यह भी कहा कि सांविधनिक प्रक्रिया पूरी की जाती तो कोई सवाल नहीं उठता. फिर भी यह फैसला देश के हित में है और मैं इसका समर्थन करता हूं.

राहुल गांधी ने विरोध में कहा, फैसला संविधान का उल्‍लंघन

अनुच्छेद-370 (Article-370) हटाने का कांग्रेस नेतृत्व ने विरोध किया है‌. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने विधेयक का विरोध करते हुए कहा कि जम्मू-कश्मीर को एकतरफा फैसले के चलते टुकड़ों में बांटा गया है. यह संविधान का उल्लंघन है. इस बीच कांग्रेस (Congress) के वरिष्ठ नेता जनार्दन द्विवेदी (janardan Dwivedi) ने भी कहा कि अनुच्‍छेद-370 हटाने के फैसले के साथ ही देश ने पुरानी गलती सुधार ली है. वहीं, दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि 21वीं सदी में अनुच्छेद-370 का कोई मतलब नहीं है. इसे हटाया ही जाना चाहिए था.

देवड़ा ने कहा, वैचारिक मतभेद किनारे कर सोचें सभी दल

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के करीबी मिलिंद देवड़ा ने भी फैसले का समर्थन किया है. मिलिंद देवड़ा (Milind Deora) ने ट्वीट कर कहा कि दुर्भाग्य से अनुच्‍छेद-370 के मसले को अलग-अलग तरह की बहस में उलझाया जा रहा है. सभी राजनीतिक दलों को अपने वैचारिक मतभेदों को किनारे कर भारत की संप्रभुता, कश्मीर में शांति, युवाओं को रोजगार और कश्मीरी पंडितों के लिए न्याय के लिहाज से सोचना चाहिए.

ये भी पढ़ें: 

जम्‍मू-कश्‍मीर से Article-370 हटने के बाद Pok से भी उठी भारत में शामिल करने की मांग

इमरान खान की गीदड़ भभकी, अनुच्‍छेद-370 हटाने के फैसले के कारण भारत में होंगी पुलवामा जैसी घटनाएं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 6, 2019, 8:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...