COVID Vaccine FAQ: अब आप तय करेंगे कब लेना है वैक्सीन का दूसरा डोज, सरकार ने जारी किए नए नियम

रोजा रखने के बाद डायबिटीज की जांच कराई जा सकती है.  (सांकेतिक तस्वीर)

रोजा रखने के बाद डायबिटीज की जांच कराई जा सकती है. (सांकेतिक तस्वीर)

Vaccination in India: सरकार ने कहा है कि लोग खुद तय कर सकते हैं कि वैक्सीन का दूसरा डोज कब लेना है. हालांकि, यह अवधि कोवैक्सीन (Covaxin) के मामले में 4-6 हफ्ते और कोविशील्ड (Covishield) के लिहाज से 4-8 हफ्ते हो सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 24, 2021, 8:25 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार के वैक्सीन कार्यक्रम के अनुसार, आगामी 1 अप्रैल से 45 साल से ज्यादा उम्र के लोग टीका लगवा सकेंगे. साथ ही मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Health Ministry) ने यह भी साफ कर दिया है कि लोग अपने हिसाब से तय कर सकते हैं कि उन्हें वैक्सीन का दूसरा डोज कब लेना है. साथ ही मंत्रालय ने लोगों से न घबराने की अपील की है. सरकार ने बताया है कि वैक्सीन स्टॉक की कोई कमी नहीं है.

सरकार ने कहा है कि लोग खुद तय कर सकते हैं कि वैक्सीन का दूसरा डोज कब लेना है. हालांकि, यह अवधि कोवैक्सीन के मामले में 4-6 हफ्ते और कोविशील्ड के लिहाज से 4-8 हफ्ते हो सकती है. देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच सरकार ने नागरिकों से शांत रहने की अपील की है. इस दौरान सरकार ने टीकाकरण से जुड़े कई आम सवाल उनके जवाबों की एक सूची जारी की.

  • कितने अंतराल में वैक्सीन के दोनों डोज लिए जा सकते हैं.
    कोविशील्ड के मामले में दो डोज के बीच समयावधि को 4-6 हफ्ते से 4-8 हफ्ते तक बढ़ाया गया है. पहले डोज के 4-8 हफ्तों बाद अगर दूसरा डोज लिया जाता है, तो नोवल कोरोना वायरस से और बेहतर सुरक्षा मिलेगी. हालांकि, यह सलाह दी जाती है कि दूसरा डोज लेने में 8 हफ्तों से ज्यादा की देरी न करें. क्योंकि इससे लाभार्थी फिर जोखिम में आ जाता है. वहीं, कोवैक्सी के मामले में पहले डोज के बाद लाभार्ती 4-6 हफ्तों में दूसरा डोज ले सकता है.

  • मैं दूसरे डोज के लिए कैसे रजिस्टर करा सकता हूं?

    नए लाभार्थी CoWIN पोर्टल या आरोग्य सेतु ऐप के जरिए रजिस्टर कर सकते हैं. वैक्सीन को लेकर उनके स्लॉट 1 अप्रैल से शुरू हो जाएंगे. पहले वैक्सीन लगवा चुके और नए लाभार्थी चुनाव कर सकेंगे कि उन्हें दूसरा डोज कब लेना है. कोविशील्ड वैक्सीन के लिए ऑटो शेड्यूल फीचर हटा दिया गया है. अब ऐसे भी लाभार्थी, जिन्हें अपने आप ही दूसरे डोज की तारीख मिल गई थी. वे भी www.cowin.gov.in पर जाकर अपनी सुविधा के हिसाब से दूसरे डोज का समय और तारीख तय कर सकते हैं.


  • यह भी पढ़ें: कोविशील्ड के 2 डोज के बीच 2 महीने का अंतराल, समझिए सरकार ने क्यों किया ऐसा

  • इस चरण में किसे वैक्सीन लगेगी?

    1 अप्रैल से शुरू होने जा रहे वैक्सीन के नए चरण में 45 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोग टीका लगवा सकेंगे . इस दौरान कट ऑफ डेट 1 जनवरी 1977 होगी यानि अगर आपकी जन्मतिथि इस तारीख से पहले की है, तो आप टीका लगवा सकते हैं. पहले चरण में केवल स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया गया था. वहीं, दूसरे चरण में 60 साल से ज्यादा और गंभीर बीमारियों से जूझ रहे 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाई गई थी. अब तीसरे चरण में सरकार ने बीमारियों वाली शर्त को हटाकर प्रक्रिया आसान बना दी है.


  • वैक्सीन लगने के बाद क्या होगा?

    वैक्सीन लगने के बाद अपना वैक्सिनेशन सर्टिफिकेट जरूर प्राप्त करें. यह सर्टिफिकेट हार्ड कॉपी या डिजिटल कॉपी के रूप में हो सकता है. सरकारी अस्पतालों में टीकाकरण और सर्टिफिकेट मुफ्त हैं. वहीं, प्राइवेट अस्पताल में टीकाकरण की कीमत 250 रुपए है. इसमें सर्टिफिकेट की कीमत शामिल है. ध्यान रखें कि बगैर सर्टिफिकेट के वैक्सीन सेंटर से बाहर न निकलें. अगर आपको प्रमाण पत्र नहीं दिया जा रहा है, तो 1075 पर शिकायत दर्ज कराएं.


  • क्या सभी के लिए पर्याप्त वैक्सीन उपलब्ध हैं?

    भारत में फिलहाल दो वैक्सीन उम्मीदवारों- कोविशील्ड और कोवैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा है. सरकार ने यह साफ किया है कि घबराने की बात नहीं है. वैक्सीन स्टॉक की कोई कमी नहीं है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज