LIVE NOW

NRC LIVE: फाइनल NRC से 19 लाख लोग बाहर, वेबसाइट हुई क्रैश

एनआरसी की ये फाइनल लिस्ट (NRC Final List) 31 जुलाई को प्रकाशित होनी थी, लेकिन राज्य में बाढ़ के कारण एनआरसी अथॉरिटी ने इसे 31 अगस्त तक के लिए बढ़ा दिया था.

Hindi.news18.com | August 31, 2019, 12:41 PM IST
facebook Twitter Linkedin
Last Updated August 31, 2019

हाइलाइट्स

12:24 pm (IST)

असम से लोकसभा सांसद गौरव गोगोई सोनिया गांधी से मिले. से बैठक में राहुल गांधी भी थे शामिल गौरव गोगोई ने कहा,NRC को लेकर हमने अपनी रिपोर्ट कांग्रेस अध्यक्ष, पूर्व अध्यक्ष को सौंप दी है. जल्द ही कांग्रेस इसपर अपना औपचारिक बयान देगी.

 

11:51 am (IST)
सरकारी सूत्रों के अनुसार, राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति शांतिपूर्ण है. गृह मंत्रालय राज्य के DGP और मुख्य सचिव के साथ नियमित संपर्क में है. अभी तक किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है. अंतिम सूची से 19 लाख लोगों को बाहर करने पर, सूत्रों ने कहा कि इसके प्रभाव पर टिप्पणी करना जल्दबाजी होगी. सूत्रों ने कहा, 'हमें जमीनी प्रतिक्रिया देखनी होगी. जिलेवार निष्कासन की जानकारी अभी तक उपलब्ध नहीं है. इसका आकलन भी करना होगा.'

11:42 am (IST)

असम के बारपेटा के दृश्य जहां लोगों ने सेवा केंद्र पर अंतिम एनआरसी सूची में अपने नाम की  देखने के लिए लाइन लगाई है.

 


11:12 am (IST)

कांग्रेस नेता हरीश रावत ने कहा कि ' बोले बड़ी संख्या में लोगों का नाम एनआरसी  की लिस्ट से बाहर है. यह बड़ी चिंता की बात है  मैं पहले से कह रहा था कि कोई भी  सिटीजन न छूटे.  प्रशासन ने ठीक ढंग से एनआरसी सिस्टम के साथ काम नहीं किया.'

11:02 am (IST)

NRC की आखिरी सूची के मुद्दे पर 10 जनपथ में बैठक करेगी कांग्रेस.

10:56 am (IST)

विदेशी ट्रिब्यूनल की कुल संख्या को पहले के 100 से बढ़ाकर 300 कर दिया गया है.अस्वीकृत 19 लाख आवेदक इन न्यायाधिकरणों से 120 दिनों के भीतर अपील कर सकते हैं.

10:42 am (IST)

 स्टेट कोऑर्डिनेटर, NRC प्रतीक हजेला ने कहा कि  कुल 3,11,21,004 व्यक्तियों को अंतिम NRC में शामिल करने के योग्य पाया गया, जिसमें 19,06,657 व्यक्ति शामिल थे, जिन्होंने अपने दावे प्रस्तुत नहीं किए थे. इसके परिणाम से संतुष्ट होने के बाद विदेशी ट्रिब्यूनल के समक्ष अपील दायर कर सकते हैं.

10:38 am (IST)
एनआरसी सेवा केंद्रों (एनएसके), उपायुक्त के कार्यालयों और सर्कल ऑफिसर के कार्यालयों में जनता के लिए पूरक सूची की हार्ड कॉपी उपलब्ध होगी. ऑनलाइन, इन्क्लूजन और निष्कासन दोनों की स्थिति एनआरसी की वेबसाइट में ऑनलाइन देखी जा सकती है. लोग आवेदन रसीद संख्या (ARN) का उपयोग करके ऑनलाइन अपना नाम देख सकते हैं.

10:35 am (IST)
30 जुलाई, 2018 को प्रकाशित ड्राफ्ट NRC में 2,89,83,677 व्यक्तियों को शामिल किए जाने के लिए योग्य पाया गया. इसके बाद, 36,26,630 लोगों  के  दावे प्राप्त हुए. नागरिकता की अनुसूची (नागरिकों का पंजीकरण और राष्ट्रीय पहचान पत्र जारी करना) नियम, 2003 की धारा 4 (3) के तहत ड्राफ्ट एनआरसी में शामिल व्यक्तियों का सत्यापन किया गया था.

1,6,633 व्यक्तियों के खिलाफ आपत्तियां प्राप्त की गई थीं जिनके नाम कम्पलीट ड्राफ्ट में दिखाई दिए.एक और अतिरिक्त ड्राफ्ट निष्कासन सूची 26 जून, 2019 को प्रकाशित की गई थी, जिसमें 1,02,462 व्यक्तियों को बाहर रखा गया था.

क्लॉज 4 (3) के तहत सभी दावों और आपत्तियों और कार्यवाही के निपटान के बाद पहले से ही शामिल सभी लोगों को ध्यान में रखते हुए, यह पाया गया है कि कुल 3,11,21,004 व्यक्ति अंतिम एनआरसी में शामिल होने के योग्य पाए गए हैं. 19,06,657 व्यक्तियों में से उन लोगों की संख्या शामिल है जिन्होंने दावा प्रस्तुत नहीं किया.

10:30 am (IST)

NRC एप्लीकेशन फॉर्म की प्राप्ति की प्रक्रिया मई 2015 के अंत के दौरान शुरू हुई और 31 अगस्त 2015 को समाप्त हुई. कुल 3,30,27,661 सदस्यों ने 68,37,660 अनुप्रयोगों के माध्यम से आवेदन किया. एनआरसी में उनके शामिल होने  की पात्रता निर्धारित करने के लिए आवेदकों द्वारा जमा किए गए विवरणों की जांच की गई.  NRC अपडेट की प्रक्रिया  में लगभग 52,000 राज्य सरकार के अधिकारी लंबे समय तक काम करते हैं.

LOAD MORE
असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) की अंतिम सूची जारी कर दी गई है. लोग nrcassam.nic.in पर जाकर अपना नाम चेक कर सकते हैं. इसके अलावा assam.mygov.in और assam.gov.in पर लोग अपना नाम देख सकते हैं.इस लिस्ट में असम के 41 लाख से ज्यादा लोगों के भाग्य का फैसला होगा कि वे देश के नागरिक हैं या नहीं. फिलहाल इन लोगों का भविष्य अधर में लटका हुआ है. असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल (CM Sarbananda Sonowal) ने लोगों से शांति और भाईचारा बनाए रखने की अपील की है.

गृह मंत्रालय (Home Ministry) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जिनके पास इंटरनेट (Internet) नहीं है, वे लोग राज्य सरकार (Assam Govt) द्वारा स्थापित किए गए सेवा केंद्रों में जाकर अपना स्टेटस चेक कर सकते हैं. वहीं, किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए राज्य में सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद कर दी गई है. बड़ी संख्या में सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है. सरकार के अनुरोध पर 51 कंपनियों को तैनात किया गया है.

ताज़ा अपडेट्स के लिए हमारे साथ बने रहें

Loading...