Home /News /nation /

पुराने नोट बदलने को लेकर फिर आया सरकार का एक नया फरमान!

पुराने नोट बदलने को लेकर फिर आया सरकार का एक नया फरमान!

नोटबंदी का असर हर वर्ग के व्यक्ति पर पड़ा है. इस असर को कम करने के लिए सरकार ने बीते 50 दिनों में समय-समय पर अनेक कदम उठाए हैं. लोगों के मेहनत की कमाई को बैंकों तक पहुंचाने के लिए सरकार ने देश में रह रहे लोगों के साथ ही प्रवासी भारतीय (एनआरआई) का भी खास ख्याल रखा है.

नोटबंदी का असर हर वर्ग के व्यक्ति पर पड़ा है. इस असर को कम करने के लिए सरकार ने बीते 50 दिनों में समय-समय पर अनेक कदम उठाए हैं. लोगों के मेहनत की कमाई को बैंकों तक पहुंचाने के लिए सरकार ने देश में रह रहे लोगों के साथ ही प्रवासी भारतीय (एनआरआई) का भी खास ख्याल रखा है.

नोटबंदी का असर हर वर्ग के व्यक्ति पर पड़ा है. इस असर को कम करने के लिए सरकार ने बीते 50 दिनों में समय-समय पर अनेक कदम उठाए हैं. लोगों के मेहनत की कमाई को बैंकों तक पहुंचाने के लिए सरकार ने देश में रह रहे लोगों के साथ ही प्रवासी भारतीय (एनआरआई) का भी खास ख्याल रखा है.

अधिक पढ़ें ...
  • Bhasha
  • Last Updated :
    नोटबंदी का असर हर वर्ग के व्यक्ति पर पड़ा है. इस असर को कम करने के लिए सरकार ने बीते 50 दिनों में समय-समय पर अनेक कदम उठाए हैं. लोगों के मेहनत की कमाई को बैंकों तक पहुंचाने के लिए सरकार ने देश में रह रहे लोगों के साथ ही प्रवासी भारतीय (एनआरआई) का भी खास ख्याल रखा है.

    इन प्रयासों के तहत एनआरआई और दूसरे देशों में रहने वाले भारतीय तीन से छह महीने की ‘ग्रेस’ की अवधि में 25,000 रुपए तक के पुराने नोट जमा करा सकते हैं, लेकिन इसके लिए उन्हें हवाई अड्डे पर सीमा शुल्क अधिकारियों को ये नोट दिखाने होंगे और घोषणा-पत्र पर मुहर लगवानी होगी.

    वित्त मंत्रालय की एक अधिसूचना में कहा गया है कि इस घोषणा को पुराने नोट जमा कराते समय रिजर्व बैंक की शाखाओं में जमा कराना होगा.

    पुराने नोटों को जमा कराने की 50 दिन की समयसीमा 30 दिसंबर को समाप्त हो गई है. वहीं सरकार ने दूसरे देशों में रहने वाले लोगों को इसके लिए कुछ अतिरिक्त समय यानी ग्रेस अवधि दी है. ऐसे भारतीय जो विदेश गए हुए हैं उनके लिए यह समय सीमा 31 मार्च तक है, जबकि एनआरआई अपने पुराने नोट 30 जून, 2017 तक जमा करा सकते हैं.

    हालांकि, यह सुविधा विदेशी विनिमय प्रबंधन (करेंसी का निर्यात और आयात) नियमन, 2015 के दायरे में आएगी. इन नियमनों के तहत ऐसी करेंसी को देश में वापस लाने की प्रति व्यक्ति की सीमा 25,000 रुपए है. ऐसे लोग जो नेपाल और भूटान से लौट रहे हैं उन्हें 500 और 1,000 के पुराने नोट लाने की इजाजत नहीं होगी.

    अधिसूचना में कहा गया है कि 31 मार्च, 2017 से 30 जून, 2017 के दौरान भारत आ रहे निवासी और प्रवासी भारतीयों को एक घोषणा फार्म भरना होगा. इसके बाद ही वे कुछ निश्चित रकम रिजर्व बैंक शाखाओं में इन नोटों को जमा करा सकेंगे.

    Tags: Digital India, Digital payment

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर