लाइव टीवी

NSA डोभाल बोले- आतंकवाद को सिस्टम का हिस्सा मानता है पाकिस्तान, FATF की वजह से प्रेशर बढ़ा

News18Hindi
Updated: October 14, 2019, 1:55 PM IST

एनएसए अजित डोभाल (Ajit Doval) ने कहा, 'एनआईए ने कश्मीर में आतंकवाद (Terrorism) के खिलाफ जो प्रभाव गहरा डाला है, वह किसी भी अन्य एजेंसी की तुलना में ज्यादा है. अगर किसी अपराधी को देश का समर्थन मिलता है, तो यह बहुत बड़ी चुनौती बन जाता है. कुछ देशों को इसमें महारत हासिल है. हमारे मामले में पाकिस्तान ने इसे अपनी नीति का एक साधन बना लिया है.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2019, 1:55 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल (Ajit Doval) ने आतंकवाद को लेकर एक बार फिर से पाकिस्तान (Pakistan) को घेरा है. नई दिल्ली में हुई आतंकवाद विरोधी दस्ते (ATS) के प्रमुखों की एक बैठक को संबोधित करते हुए डोभाल ने कहा कि पाकिस्तान ने आतंकवाद के अपने सिस्टम का हिस्सा बना लिया है, जिसका इस्तेमाल वह भारत के खिलाफ कर रहा है. लेकिन, फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की वजह से पाकिस्तान पर अब बहुत दबाव है. अजित डोभाल ने कहा कि हम आतंकियों को खत्म करने में सफल हो रहे हैं, लेकिन अब हमारा अगला निशाना आतंकियों की विचारधारा को खत्म करना है.

एनएसए अजित डोभाल ने कहा, 'एनआईए ने कश्मीर में आतंकवाद के खिलाफ जो प्रभाव गहरा डाला है, वह किसी भी अन्य एजेंसी की तुलना में ज्यादा है. अगर किसी अपराधी को देश का समर्थन मिलता है, तो यह बहुत बड़ी चुनौती बन जाता है. कुछ देशों को इसमें महारत हासिल है. हमारे मामले में पाकिस्तान ने इसे अपनी नीति का एक साधन बना लिया है.'

FATF डाल रहा पाकिस्तान पर दबाव
उन्होंने आगे कहा, 'आज पाकिस्तान पर जो सबसे बड़ा दबाव है वह FATF के कारण है. FATF ने पाकिस्तान पर इतना दबाव बनाया है कि जो शायद किसी अन्य कार्रवाई से नहीं हो सकता था. आतंकवाद से लड़ने के लिए सबसे बड़ी बाधाओं में से एक केंद्रीय आतंकवाद निरोधी एजेंसी की कमी है.'

एनएसए अजित डोभाल ने कहा, 'आतंकवाद पर कई बार बातें हुई हैं, हर कोई आतंक के खिलाफ 3 दशक से लड़ रहा है. आतंकवाद से लड़ना हर किसी की सोच में है, लेकिन आप आतंकवाद से सीधा नहीं लड़ते हैं. क्योंकि आप सिर्फ आतंकियों को मारकर, हथियारों को खत्म कर, फंडिंग को रोकने पर ध्यान लगा रहे हैं और इसे ही लड़ाई का हिस्सा मान रहे हैं.'



पाकिस्तान जंग लड़ने की स्थिति में नहीं
पाकिस्तान की युद्ध की धमकी पर अजित डोभाल ने कहा, 'मौजूदा समय में कोई भी देश युद्ध करने की स्थिति में नहीं है, क्योंकि इसमें जानमाल का बड़ा नुकसान होगा और किसी की जीत भी सुनिश्चित नहीं होगी. उन्होंने कहा, 'पाकिस्तान के पास आतंकवाद एक सस्ता विकल्प है जो दुश्मनों को काफी हद तक नुकसान पहुंचा सकता है.'

आतंक से पहला सामना राज्यों का
डोभाल ने कहा कि आर्मी, राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी, इंटेलिजेंस ब्यूरो और रिसर्च एंड एनालिसिस विंग की अलग-अलग जिम्मेदारी हैं, लेकिन आतंक से पहला सामना राज्य की एजेंसियों का होता है. उन्होंने कहा कि जांच की शुरुआत इंटेलिजेंस के साथ ही होती है, लेकिन इस सभी को संभालकर चलना होता है. जांच एजेंसी में काम कर रहा हर व्यक्ति आतंक के खिलाफ लड़ाई लड़ रहा है.

FATF क्या कर रहा है?
बता दें कि पाकिस्तान और इमरान खान के लिए सोमवार बहुत मुश्किल भरा होने वाला है. दरअसल, टेरर फंडिंग और मनी लॉन्ड्रिंग पर नजर रखने वाली फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की एक अहम बैठक फ्रांस की राजधानी पेरिस में हो रही है. इसमें टेरर फंडिंग को रोकने में नाकाम पाकिस्तान पर बड़ा एक्शन लिया जाएगा.

हालांकि, रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान अपने तीन दोस्तों की मदद से खुद को ब्लैकलिस्ट होने से बचा ले जाएगा. FATF ज्यादा से ज्यादा पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में बरकरार रख सकता है. बता दें कि पाकिस्तान पहले से ही ग्रे लिस्ट में है. (PTI इनपुट के साथ)

FATF की बैठक जारी, पाकिस्तान के ब्लैकलिस्ट होने से बचने के लिए ये 3 दोस्त बन सकते हैं मददगार

दाऊद के करीबी शूटर को PAK को सौंपने से भारत-थाईलैंड के रिश्तों में आ सकती है खटास: रिपोर्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 1:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...