NSA अजित डोभाल ने कल की थी चीनी विदेश मंत्री से बात, आज गलवान में पीछे हटे चीनी सैनिक

NSA अजित डोभाल ने कल की थी चीनी विदेश मंत्री से बात, आज गलवान में पीछे हटे चीनी सैनिक
अजित डोभाल ने की थी चीनी विदेश मंत्री से बात.

India China Tension: लद्दाख (Ladakh) की गलवान घाटी (Galwan Valley) में बीते दिनों हुई हिंसक झड़प के बाद आखिरकार भारत और चीन (India-China Faceoff) के सैनिक पीछे हट गए हैं.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. लद्दाख (Ladakh) में वास्‍तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत और चीन (India China Tension) के बीच तनाव जारी है. इस बीच सूत्रों के हवाले से जानकारी दी गई है कि भारत के राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल (Ajit Doval) ने रविवार को चीन के विदेश मंत्री वांग यी से इस मामले पर वीडियो कॉल के जरिये बात की थी. माना जा रहा है कि यह उन्‍हीं की बातचीत का नतीजा है कि सोमवार को चीनी सैनिक गलवान घाटी (Ladakh Galwan Valley) में पीछे हट गए हैं.

भारत सरकार द्वारा जारी की गई विज्ञप्ति के मुताबिक सीमा विवाद के मद्देनजर भारत की तरफ नियुक्त किए विशेष प्रतिनिधि अजित डोवाल और चीनी विदेश मंत्री के बीच रविवार को टेलिफोन पर बातचीत हुई. चीनी विदेश मंत्री को भी चीन की तरफ से इस मुद्दे पर विशेष प्रतिनिधि घोषित किया गया था. दोनों विशेष प्रतिनिधियों के बीच सीमा विवाद पर खुलकर गहराई के साथ बातचीत हुई.

बातचीत में इस बात पर सहमति बनी कि भारत चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा पर दोनों ही पक्ष अपनी सेनाएं पीछे लेंगे. सीमा पर शांति बनाए रखने को सबसे बड़ी प्राथमिकता माना गया. सीमा से सेनाएं पीछे करने का काम चरणबद्ध तरीके से किया जाएगा. वास्तविक नियंत्रण रेखा का सम्मान किया जाएगा. और भविष्य में भी इस तरह की स्थितियां उत्पन्न ने होने दी जाएं जिससे शांति को खतरा हो. साथ ही यह भी सहमति बनी कि दोनों देशों में सैन्य और राजनयिक स्तर पर बातचीत जारी करनी चाहिए.



समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से जानकारी दी है कि एनएसए अजित डोभाल और चीनी विदेश मंत्री वांग यी के बीच हुई यह बातचीत सौहार्दपूर्ण और दूरदर्शिता पर आधारित थी. सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि दोनों के बीच शांति की पूर्ण बहाली और भविष्‍य में ऐसी घटनाएं ना हों, इसके लिए साथ मिलकर काम करने पर बातचीत हुई है.
वहीं चीनी सरकार के मुखपत्र ग्‍लोबल टाइम्‍स ने चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता का बयान प्रकाशित किया है. इसमें प्रवक्‍ता ने कहा है कि भारत और चीन के बीच 30 जून को हुई तीसरी कमांडर स्‍तर पर वार्ता के बाद दोनों देश सीमावर्ती इलाकों में सैनिकों को पीछे करने और उनकी संख्‍या कम करने के लिए प्रभावी उपाय अपना रहे हैं. 


बता दें कि लद्दाख की गलवान घाटी में बीते दिनों हुई हिंसक झड़प के बाद आखिरकार भारत और चीन (India-China Faceoff) के सैनिक पीछे हट गए हैं. सूत्रों ने ये जानकारी दी है. जानकारी के मुताबिक दोनों देशों की सेना हिंसक झड़प वाली जगह से 1.5 किलोमीटर पीछे हटी है. यह संभवतः गलवान घाटी तक सीमित है. अब इसे बफर ज़ोन बना दिया गया है, ताकि आगे कोई हिंसक घटना न हो. इसके अलावा दो और जगहों से भी चीनी सेना पीछे हटी है. दोनों पक्ष अस्थायी ढांचे को भी हटा रहे हैं. भारत ने चीनी सैनिकों के हटने का फिजिकल वेरिफिकेशन भी कर लिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading