Home /News /nation /

NSA अजित डोभाल बोले- दूसरे की इच्छा पर नहीं, खतरा देखकर लड़ेंगे युद्ध

NSA अजित डोभाल बोले- दूसरे की इच्छा पर नहीं, खतरा देखकर लड़ेंगे युद्ध

अजीत डोभाल इससे पहले जनवरी में श्रीलंका के दौरे पर पहुंचे थे और द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा की थी.  (File Photo)

अजीत डोभाल इससे पहले जनवरी में श्रीलंका के दौरे पर पहुंचे थे और द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा की थी. (File Photo)

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (National Security Advisor) अजित डोभाल (Ajit Doval) ने दुश्मन देशों को कड़ा संदेश देते हुए कहा कि इतिहास गवाह है कि भारत (India) ने कभी भी किसी भी देश पर हमला नहीं किया है लेकिन ये तय है कि जहां से खतरा होगा, वहीं प्रहार किया जाएगा.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) में भारत और चीन की सेनाओं के बीच पिछले कई महीनों से चले आ रहे तनाव के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल (Ajit Doval) ने रविवार को इशारों ही इशारों में चीन (China) से लेकर पाकिस्तान (Pakistan) तक को चेतावनी दे डाली. डोभाल ने दुश्मन देशों को कड़ा संदेश देते हुए कहा कि इतिहास गवाह है कि भारत ने कभी भी किसी भी देश पर हमला नहीं किया है, लेकिन ये तय है कि जहां से खतरा होगा, वहीं प्रहार किया जाएगा. विजयादशमी के खास मौके पर उत्तराखंड के ऋषिकेश में परमार्थ निकेतन के कार्यक्रम में पहुंचे एनएसए अजित डोभाल ने कहा, हम वहीं लड़ेंगे जहां पर आपकी इच्छा है यह कोई जरूरी तो नहीं. उन्होंने कहा कि हम वहां युद्ध लड़ेंगे जहां से हमें खतरा महसूस हो रहा है.

    डोभाल ने कहा कि हम युद्ध तो करेंगे, अपनी जमीन पर भी करेंगे और बाहर की जमीन पर भी करेंगे लेकिन अपने निजी स्वार्थ के लिए नहीं परमार्थ के लिए करेंगे. एनएसए डोभाल ने कहा है कि भारत एक सभ्य देश है, जिसका वजूद अनादिकाल से मौजूद है. उन्होंने कहा कि भारत भले ही 1947 में अस्तित्व में आया हो लेकिन प्राचीन भारतीय ज्ञान-विज्ञान की कायल पूरी दुनिया हमेशा से रही है.


    डोभाल ने कहा कि भारत अपनी समृद्ध संस्कृति और सभ्यता की वजह से किसी धर्म या भाषा के दायरे में नहीं बंधा. बल्कि इस धरती से वसुधैव कुटुंबकम और हर मनुष्य में ईश्वर का अंश मौजूद है के भाव का प्रचार प्रसार हुआ. भारत को एक देश के तौर पर मजबूत पहचान दिलाने और संस्कारी बनाने में यहां के संत और महात्माओं का बड़ा योगदान है. भारत में अलग अलग समय पर संतों ने भारत का राष्ट्र निर्माण करने में अपनी अहम भूमिका निभाई है.

    इसे भी पढ़ें :- पाक के गलत नक्शा पेश करने पर अजीत डोभाल ने छोड़ी SCO की मीटिंग, रूसी NSA ने भी किया विरोध

    डोभाल के बयान पर सरकार की सफाई
    एनएसए डोभाल के बयान पर सरकार की ओर से सफाई देते हुए कहा गया है कि एनएसए के बयान चीन को लेकर नहीं दिया गया है बल्कि ये भारत की आध्यात्मिक सोच पर दिया गया है. हालांकि डोभाल का ये बयान साफ करता है कि भारत किसी भी देश से डरने वाला नहीं है और युद्ध की किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है.

    Tags: Ajit Doval, China, India china border dispute, India China Border Tension, Ladakh, Ladakh Border, Ladakh Border Dispute, NSA Ajit Doval

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर