BRICS की बैठक में चीनी NSA से मिलेंगे अजीत डोभाल, हो सकती है कोर-कमांडर स्तर की वार्ता

अजीत डोभाल गुरुवार को अपने चीनी समकक्ष से मिल सकते हैं. (File Photo)
अजीत डोभाल गुरुवार को अपने चीनी समकक्ष से मिल सकते हैं. (File Photo)

अजीत डोभाल (Ajit Doval) गुरुवार को ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन, दक्षिण अफ्रीका) बैठक के हिस्से के रूप में अपने चीनी समकक्ष यांग जिएची से मिलने वाले हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 17, 2020, 7:33 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लद्दाख (Ladakh) में चीन (China) के कोर कमांडर-स्तरीय वार्ता (Corps Commander Level Talks) की तारीख की पुष्टि करने से इनकार करने के साथ, सभी की निगाहें ब्रिक्स राष्ट्रों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक पर टिकी हैं. अधिकारियों ने न्यूज18 को बताया कि अगर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और उनके चीनी समकक्ष के बीच बैठक अच्छी रहती है तो वह चीन से प्रतिक्रिया की उम्मीद कर रहे हैं. एक अधिकारी ने कहा, "या तो देर रात या कल सुबह, हम कुछ स्पष्टता की उम्मीद कर रहे हैं."

डोभाल गुरुवार को ब्रिक्स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन, दक्षिण अफ्रीका) बैठक के हिस्से के रूप में अपने चीनी समकक्ष यांग जिएची से मिलने वाले हैं. हालांकि बैठक बहुपक्षीय मंच पर है, लेकिन ये अपेक्षा की जा रही है कि डोभाल और जिएची दोनों देशों के बीच सीमा पर तनाव के बारे में बात करेंगे. अधिकारियों ने कहा कि दोनों एनएसए एक सकारात्मक समीकरण साझा कर सकते हैं जो गलवान घाटी के टकराव के बाद काम आया जब पारस्परिक रूप से स्वीकार्य विघटन का फॉर्मूला आया था.

ये भी पढ़ें- ट्रंप का दावा- चीन से पहले अक्टूबर में ही अमेरिकी जनता को मिलेगी कोरोना वैक्सीन



16 या 17 सितंबर को होनी थी कोर कमांडर स्तर की बैठक
भारतीय सुरक्षा अधिकारियों के अनुसार कोर कमांडर-स्तरीय वार्ता 16 या 17 सितंबर को प्रस्तावित थी, लेकिन चीन ने अपनी भागीदारी की पुष्टि नहीं की. उन्होंने कहा कि ब्रिगेड कमांडर स्तर की वार्ता में भी, चीन ने उन ऊंचाइयों से पीछे हटने का कोई संकेत नहीं दिया था जो भारत का दावा है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) की तरफ है.

अधिकारियों ने संकेत दिया है कि इस बात की संभावना है कि विदेश मंत्रालय के अधिकारी भी कोर कमांडर-स्तरीय बैठक का हिस्सा हो सकते हैं. एक सूत्र ने News18 को बताया, "एजेंडा, मोडेलिटी और बाकी सब कुछ NSA की बैठक खत्म होते ही अंतिम रूप ले लेगा."

ये भी पढ़ें- भारतीय जलक्षेत्र में घुसा था चीनी पोत, भारतीय नौसेना ने लौटने को किया मजबूर

एलएसी पर हालात तनावपूर्ण लेकिन शांत
इस बीच, एलएसी के साथ स्थिति शांतिपूर्ण बताई गई है. कई अधिकारियों ने News18 को बताया कि 8 सितंबर की गोलीबारी के बाद से चीजें तनावपूर्ण लेकिन शांत हैं.

मॉस्को के एससीओ शिखर सम्मेलन में विदेश मंत्री एस जयशंकर और उनके चीनी समकक्ष वांग यी के बीच बैठक से ठीक पहले पैंगोंग के उत्तरी बैंक में चीन की ओर से कई राउंड फायरिंग की गई थी. एक वरिष्ठ अधिकारी ने News18 को बताया, "पिछले कुछ दिनों में, जब भी कोई वाहन चलता है या कोई भी हरकत होती है जमीन पर कमांडर नियमित रूप से एक-दूसरे को सूचित करते रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज