Home /News /nation /

अफगानिस्तान मुद्दे पर 10 नवंबर को हो सकती है भारत में NSA स्‍तर की बैठक, डोभाल करेंगे अध्‍यक्षता

अफगानिस्तान मुद्दे पर 10 नवंबर को हो सकती है भारत में NSA स्‍तर की बैठक, डोभाल करेंगे अध्‍यक्षता

भारत के राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल  (फाइल फोटो)

भारत के राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (फाइल फोटो)

अफगानिस्‍तान (Afghanistan) पर दिल्‍ली क्षेत्रीय सुरक्षा वार्ता के तीसरे संस्‍करण की मेजबानी भारत (India) 10 नवंबर को कर सकता है. एनएसए स्‍तर की इस बैठक की अध्‍यक्षता भारत के राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (National Security Adviser Ajit Doval) करेंगे. सूत्रों ने यह जानकारी News18 को दी है. इस शिखर सम्‍मेलन में मध्‍य एशिया के देशों के अलावा, रूस और ईरान भी भाग लेंगे. तालिबान (taliban) के काबुल (Kabul) पर नियंत्रण करने के दो माह बाद हो रहे सम्‍मेलन में अफगानिस्‍तान की सीमा से लगे देश भाग नहीं ले रहे हैं. सूत्रों ने बताया कि इस सम्‍मेलन के लिए चीन (china) और पाकिस्‍तान (pakistan) को भी निमंत्रण भेजा गया था, लेकिन पाकिस्‍तान ने आने से मना कर दिया है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. अफगानिस्‍तान (Afghanistan) पर दिल्‍ली क्षेत्रीय सुरक्षा वार्ता के तीसरे संस्‍करण की मेजबानी भारत (India) 10 नवंबर को कर सकता है. एनएसए स्‍तर की इस बैठक की अध्‍यक्षता भारत के राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (National Security Adviser Ajit Doval) करेंगे. सूत्रों ने यह जानकारी News18 को दी है. इस शिखर सम्‍मेलन में मध्‍य एशिया के देशों के अलावा, रूस और ईरान भी भाग लेंगे. तालिबान (taliban) के काबुल (Kabul) पर नियंत्रण करने के दो माह बाद हो रहे सम्‍मेलन में अफगानिस्‍तान की सीमा से लगे देश भाग नहीं ले रहे हैं. ऐसा पहली बार हो रहा है, इससे पहले वे बैठक में शामिल होते रहे हैं.

    सूत्रों ने बताया कि पहले के दो संस्‍करण सितंबर 2018 और दिसंबर 2019 में ईरान में आयोजित हुए थे. भारत में तीसरी निर्धारित बैठक कोरोना महामारी के कारण नहीं हो पाई थी. तालिबान के सत्‍ता में आने के बाद अफगानिस्‍तान के हालात पूरी तरह से बदल गए. यहां से अमेरिकी सैनिकों ने दो दशकों तक युद्ध के बाद वापसी कर ली थी और उनके प्रशिक्षित अफगान सैनिक, तालिबान को रोक नहीं सके. डोभाल जून में ताजिकिस्तान की राजधानी दुशांबे में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के सदस्य राष्ट्रों के उच्च सुरक्षा अधिकारियों की बैठक में शामिल हुए थे. इस दौरान पाकिस्तानी एनएसए भी मौजूद थे. हालांकि इस दौरान दोनों देशों के अधिकारियों के बीच कोई वार्ता नहीं हुई थी.

    ये भी पढ़ें : OPINION: भारत को नेट जीरो इमिशन पर लाने का संकल्‍प है मोदी का मास्‍टरस्‍ट्रोक, होंगे कई लक्ष्‍य पूरे

    ये भी पढ़ें : पुडुचेरी में भीषण हादसा: पटाखों से लदे स्कूटर में धमाके से पिता-बेटे की मौत, कई मीटर तक फैला धुआं और आग

    सूत्रों ने बताया कि इस सम्‍मेलन के लिए चीन (china) और पाकिस्‍तान (pakistan) को भी निमंत्रण भेजा गया था, लेकिन पाकिस्‍तान ने आने से मना कर दिया है. पाकिस्‍तान के एनएसए मोईद यूसुफ ने एक पत्र के जरिए कहा था कि वे सम्‍मेलन में शामिल नहीं होंगे. हालांकि अभी आधिकारिक रूप से दोनों ही देशों ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. पाकिस्‍तान के एनएसए के बयान के बाद भारत सरकार ने कहा कि पाकिस्‍तान के फैसले को दुर्भाग्‍यपूर्ण कहा जाएगा, लेकिन आश्‍चर्य नहीं हुआ. पाकिस्‍तान की खुद को अफगानिस्‍तान का संरक्षक के रूप में देखने की मानसिकता दर्शाता है.

    उन्‍होंने कहा कि इस प्रारूप की पिछली बैठकों में भी पाकिस्‍तान शामिल नहीं हुआ. पाकिस्‍तान की मीडिया में भारत के खिलाफ टिप्‍पणियां, अफगानिस्‍तान में उसकी घातक भूमिका से ध्‍यान हटाने की असफल कोशिश है. बताया गया है कि बैठक के लिए अफगानिस्तान के पड़ोसियों जैसे पाकिस्तान, ईरान, ताजिकिस्तान, उज्बेकिस्तान और रूस, चीन सहित प्रमुख देशों को आमंत्रित किया जा रहा है. यूरोपीय संघ, फ्रांस, जर्मनी और यूके, अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र के प्रतिनिधियों को भी बुलावा भेजा गया है. भारत ने इस साल मई में भी ऐसी ही एक बैठक का प्रस्ताव रखा था, लेकिन कोरोना संक्रमण के दूसरी लहर के चलते बैठक नहीं हो पाई थी.

    Tags: Afghanistan, China, India, National Security Adviser Ajit Doval, Pakistan, Taliban

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर