Home /News /nation /

NEET PG एडमिशन: सुप्रीम कोर्ट ने EWS आरक्षण पर रोक क्यों नहीं लगाया, जानें सबकुछ

NEET PG एडमिशन: सुप्रीम कोर्ट ने EWS आरक्षण पर रोक क्यों नहीं लगाया, जानें सबकुछ

अदालत ने पहले के फैसलों में यह नहीं माना है कि AIQ सीटों पर आरक्षण वर्जित है. (फाइल फोटो)

अदालत ने पहले के फैसलों में यह नहीं माना है कि AIQ सीटों पर आरक्षण वर्जित है. (फाइल फोटो)

OBC Reservation Supreme Court: कोर्ट ने कहा कि उच्च स्कोर योग्यता के लिए एकमात्र मानदंड नहीं है. सामाजिक और आर्थिक पृष्ठभूमि के संबंध में योग्यता को प्रासंगिक बनाने की आवश्यकता है. पिछड़ेपन को दूर करने में आरक्षण की भूमिका को नकारा नहीं जा सकता. अदालत ने पहले के फैसलों में यह नहीं माना है कि AIQ सीटों पर आरक्षण वर्जित है. AIQ सीटों में आरक्षण प्रदान करने से पहले केंद्र को इस अदालत की अनुमति लेने की आवश्यकता नहीं थी.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने NEET PG एडमिशन में OBC आरक्षण की अनुमति देने का कारण बताते हुए अपना फैसला जारी किया है. शीर्ष अदालत द्वारा EWS आरक्षण पर रोक क्यों नहीं लगाई गई, इसका कारण भी कोर्ट ने अपने फैसले में बताया है. सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि NEET PG और UG प्रवेश के लिए ऑल इंडिया कोटे में OBC आरक्षण मान्य है. अनुच्छेद 15(4) और 15(5) हर देशवासी को मौलिक समानता देते हैं. प्रतियोगी परीक्षाएं उत्कृष्टता, व्यक्तियों की क्षमताओं को नहीं दर्शाती हैं. ऐसे में कुछ वर्गों को मिलने वाले सामाजिक आर्थिक और सांस्कृतिक लाभ को प्रतिबिंबित नहीं किया जा सकता.

कोर्ट ने कहा कि उच्च स्कोर योग्यता के लिए एकमात्र मानदंड नहीं है. सामाजिक और आर्थिक पृष्ठभूमि के संबंध में योग्यता को प्रासंगिक बनाने की आवश्यकता है. पिछड़ेपन को दूर करने में आरक्षण की भूमिका को नकारा नहीं जा सकता. अदालत ने पहले के फैसलों में यह नहीं माना है कि AIQ सीटों पर आरक्षण वर्जित है. AIQ सीटों में आरक्षण प्रदान करने से पहले केंद्र को इस अदालत की अनुमति लेने की आवश्यकता नहीं थी. सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट किया है कि पहले के फैसलों ने UG और PG एडमिशन में आरक्षण पर रोक नहीं लगाई है.

कोर्ट ने यह भी स्पष्ट किया है कि चूंकि आरक्षण और सीटों की संख्या की जानकारी परीक्षा होने के बाद तक नहीं की जाती है, इसलिए यह नहीं कहा जा सकता है कि सीटों के गोलपोस्ट को बदल दिया गया है. इस स्तर पर न्यायिक हस्तक्षेप से इस वर्ष के लिए प्रवेश में देरी होती इसलिए 2021-22 बैच के लिए रेंज क्राइटेरिया पर कोई रोक नहीं है.

Tags: NEET, Supreme Court

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर