Assembly Banner 2021

कैप्टन और लड़की का फोटो जोड़ सोशल मीडिया में फैलाया आपत्तिजनक संदेश, FIR दर्ज

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह. (फाइल फोटो)

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह. (फाइल फोटो)

Punjab News: कैप्टन संधू ने शिकायत में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की छवि खराब करने की साजिश रचने का आरोप लगाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 17, 2021, 12:36 PM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. पंजाब पुलिस ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amarinder Singh) और एक लड़की की सोशल मीडिया social media पर छवि खराब करने के मामले में केस दर्ज किया है. बताया जा रहा कि शातिर आरोपियों ने कैप्टन की फोटो के साथ एक लड़की की फोटो को जोड़कर उसका इस्तेमाल सोशल में मीडिया में अश्लील संदेश फैलाने के लिए किया. पंजाब पुलिस के साइबर सेल ने आरोपियों की डिटेल खंगालने शुरू कर दी है और दावा किया है कि आरोपी जल्द ही गिरफ्तार कर लिए जाएंगे.

स्टेट साइबर क्राइम कर रहा है जांच
डीजीपी दिनकर गुप्ता (DGP Dinkar Gupta) ने बताया कि पंजाब प्रदेश कांग्रेस महासचिव कैप्टन संदीप संधू (Sandeep sandhu) द्वारा जांच ब्यूरो के निदेशक को दी गई लिखित शिकायत के बाद इस मामले में कार्रवाई की जा रही है. स्टेट साइबर क्राइम मोहाली (State Cybercrime Mohali) ने मामले में आईपीसी की धारा 509, इंडीसेंट रिप्रेजेंटेशन ऑफ वुमन (प्रोहिबिशन) एक्ट 1986 की धारा 4 और 6 और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम 2000 की धारा 66 और 67 के तहत मामला दर्ज किया है.

चुनाव से पहले छवि खराब करने की साजिश
डीजीपी के मुताबिक न्यूज वेबसाइट और टीवी चैनलों समेत सोशल मीडिया पर गलत और अश्लील संदेश फैलाना कानूनी अपराध है. कैप्टन संधू ने शिकायत में मुख्यमंत्री की छवि खराब करने की साजिश रचने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा है कि इस तरह की आपराधिक और राजनीतिक साजिश रचने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए ताकि भविष्य में ऐसा किसी के साथ न हो.



उन्होंने शिकायत में कहा है कि एक लड़की का फोटो उसकी इजाजत के बिना मुख्यमंत्री के फोटो के साथ जोड़ दिया गया. जिसके बाद आरोपियों ने इसका इस्तेमाल कर सोशल मीडिया में कैप्टन के खिलाफ आपत्तिजनक संदेश भेजे. संधू ने कहा है कि इस तरह से सोशल मीडिया पर फोटो का इस्तेमाल करना कानूनन अपराध है. उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री को विधानसभा चुनाव-2022 (Assembly elections-2022) से पहले ऐसे अपमानजनक संदेश फैलाकर उनकी छवि को खराब करने की कोशिश की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज