अपना शहर चुनें

States

कोविड-19 मामलों में जबरदस्त बढ़ोत्तरी के बाद ओडिशा के गंजम में 30 जून तक बढ़ा लॉकडाउन

ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में लॉकडाउन के दौरान तैनात सुरक्षाकर्मी (सांकेतिक फोटो, PTI)
ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में लॉकडाउन के दौरान तैनात सुरक्षाकर्मी (सांकेतिक फोटो, PTI)

अधिकारी ने बताया, फिलहाल गंजम (Ganjam) राज्य में कोविड-19 मामलों (Covid-19 Cases) की लिस्ट में सबसे ऊपर है. यहां अब तक 682 मामले सामने आ चुके हैं. जिनमें से 595 लोग रिकवर हो चुके हैं और 6 लोगों की मौत हो गई है.

  • Share this:
गंजम. ओडिशा (Odisha) के गंजम जिले (Ganjam Districts) में बढ़ते कोरोना वायरस मामलों (Coronavirus Cases) से चिंतित प्रशासन ने रविवार को जिले में जून महीने के अंत तक पूरी तरह से लॉकडाउन (Lockdown) किये जाने की घोषणा कर दी है ताकि संक्रमण के प्रसार को तोड़ा जा सके. इस बात की जानकारी स्थानीय प्रशासन (Local Administration) के एक अधिकारी ने दी.

अधिकारी ने बताया, फिलहाल गंजम (Ganjam) जिला, राज्य में कोविड-19 मामलों (Covid-19 cases) की लिस्ट में सबसे ऊपर है. यहां अब तक 682 मामले सामने आ चुके हैं. जिनमें से 595 लोग रिकवर हो चुके हैं और 6 लोगों की मौत हो गई है.

कम्युनिटी प्रसार को रोकने के लिये उठाया गया कदम
गंजम जिले के कलेक्टर विजय अमृत कुलांगे ने कहा, "यह कदम कम्युनिटी में कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लक्ष्य के तहत उठाया गया है."
उन्होंने कहा, लॉकडाउन की पाबंदियां (Lockdown Restrictions) दिन के 19 घंटों में 30 जून तक जारी रहेंगी. इस दौरान सुबह 7 से दोपहर 12 बजे तक पाबंदियों में छूट दी जायेगी. इस दौरान लोगों को आवश्यक काम-काज के लिये घर से बाहर जाने की छूट होगी.



पांच घंटे के लिये खुलेंगी दुकानें, सभी से बात कर लिया गया निर्णय
अधिकारियों ने बताया कि इन पांच घंटों के दौरान दुकानों को भी खोले जाने की छूट होगी. अब तक जिला प्रशासन स्थानीय लोगों को सवेरे 7 बजे से शाम 7 बजे तक घर से बाहर जाने की छूट दे रहा था.

कलेक्टर ने बताया कि संपूर्ण लॉकडाउन (Total Lockdown) लगाने से पहले प्रशासन ने समाज के अलग-अलग धड़ों के लोगों से प्रतिक्रियाएं ली थीं. जिन लोगों से यह प्रतिक्रियाएं ली गईं, उनमें निर्वाचित प्रतिनिधि, समाज सेवी और अन्य लोग भी शामिल थे.

उन्होंने बताया, इस दौरान आवश्यक सेवाएं, जैसे दवा की दुकानों को खुला रखने की छूट होगी, जबकि रेलवे स्टेशन और हॉस्पिटलों के लिए गाड़ियां आ जा सकेंगीं. बैंक और सरकारी कार्यालय सामान्य तरीके से काम करते रहेंगे.

राज्य में 28 अप्रैल से अब तक आ चुके हैं 2 लाख से ज्यादा मजदूर
प्रवासी मजदूरों (migrant workers) ने तटीय राज्य में 28 अप्रैल से राज्य में आना शुरू किया था, और अब तक राज्य में 2 लाख से ज्यादा मजदूर वापस आ चुके हैं.

लौटने के बाद उन्हें टेम्परेरी मेडिकल सेंटर्स (TMC) में और इसके बाद घर पर आइसोलेशन में रखा जा रहा है. करीब 1 लाख लोग फिलहाल संस्थागत क्वारंटाइन का दौर पूरा करने के बाद अपने घरों में क्वारंटाइन किये गये हैं.

यह भी पढ़ें: कालापानी, लिपुलेख भारत की सीमा पर स्थित गांवों के इलाके: अधिकारी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज