Home /News /nation /

ओडिशा के युवा ने बनाया सौर ऊर्जा से चलने वाले बेड, कोरोना दूर तक नहीं फटकेगा

ओडिशा के युवा ने बनाया सौर ऊर्जा से चलने वाले बेड, कोरोना दूर तक नहीं फटकेगा

कोरोना वायरस के इलाज में ये बेड अहम साबित हो सकता है.  (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना वायरस के इलाज में ये बेड अहम साबित हो सकता है. (सांकेतिक तस्वीर)

इस बेड की खासियत ये है कि इसे कुछ इस अंदाज में तैयार किया गया है कि कोरोना वायरस (Coronvirus) इसके आस-पास भी नहीं फटकेगा. इसे बनाने वाले युवा मैकेनिक संतोष सवाईं (Santosh Swain) का दावा है कि इस स्पेशल बेड में सौर ऊर्जा, बिजली और बैटरी का इस्तेमाल किया जा सकता है.

अधिक पढ़ें ...
    भुवेनश्वर. भारत में कोरोना (Corona Virus) के बढ़ते मामलों के बीच ओडिशा के युवा मैकेनिक ने सेल्फ क्वारंटीन (Self Quarantine) लोगों के लिए सौर ऊर्जा (Solar Power) से चलने वाला बेड बनाया है. इस बेड की खासियत ये है कि इसे कुछ इस अंदाज में तैयार किया गया है कि कोरोना वायरस इसके आस-पास भी नहीं फटकेगा. इसे बनाने वाले युवा मैकेनिक संतोष सवाईं का दावा है कि इस स्पेशल बेड में सौर ऊर्जा, बिजली और बैटरी का इस्तेमाल किया जा सकता है. इस बेड के इस्तेमाल को मान्यता देने के लिए Central Department of Science and Technology का परीक्षण दूसरे स्टेज में चल रहा है.

    ऑप्टिकल फाइबर से बना है बेड
    ये बेड ऑप्टिकल फाइबर के इस्तेमाल से बनाया गया है. इस बेड में ऑक्सीजन के अंदर जाने और कार्बन डाई ऑक्साइड के बाहर निकलने का रास्ता बनाया गया है. हृदय की बीमारियों से जूझ रहे सेल्फ क्वारंटीन लोगों के लिए ये बेड बहुत उपयोगी साबित हो सकता है. क्वारंटीन रहने के दौरान लंबे समय तक घरों के भीतर रहने के दौरान ये बेड लोगों के शरीर तक बेहतर तरीके से ऑक्सीजन पहुंचाने का काम करता है.

    यह भी पढ़ें: Father's Day पर इमोशनल हुए सत्या नडेला, पिता के लिए लिखा ये पोस्ट

    खास चैंबर
    इस बेड में बनाए गए दो खास चैंबर न सिर्फ ऑक्सीजन के फ्लो और कार्बन डाइ ऑक्साइड को बाहर निकालने का काम करते हैं बल्कि ऑक्सीजन को अल्ट्रा वॉयलट किरणों के जरिए रिफाइन भी करते हैं.

    स्पेशल सैनेटाइजेशन मशीन बना चुके हैं संतोष
    इससे पहले संतोष एक सौर ऊर्जा से चलने वाली सैनेटाइजिंग मशीन भी बना चुके हैं. संतोष बताते हैं कि कोरोना वायरस की त्रासदी के बीच वो इस बात में लगे हुए हैं कि आखिर इससे निपटने के आसान तरीके कैसे तलाशे जाएं. संतोष कहते हैं कि इस बेड की खास बात ये है कि इसे एक जगह से दूसरी जगह भी आसानी के साथ ले जाया जा सकता है. ये सिर्फ सेल्फ क्वारंटीन लोगों के लिए ही नहीं है, इसे अस्पतालों में भी इस्तेमाल किया जा सकता है.

    कोरोना वायरस के मामले हुए हैं कम
    गौरतलब है कि अन्य राज्यों के मुकाबले ओडिशा में कोरोना के मामलों में स्थिरता रही है. अब तक राज्य में कोरोना के कुल 4856 मामले सामने आए हैं. इनमें 3534 स्वस्थ हो चुके हैं. 1310 एक्टिव केस हैं. राज्य में अब तक 12 लोगों ने कोरोना से जान गंवाई है.

    (मनोज जेना की रिपोर्ट)

    Tags: Corona, Corona Virus, COVID 19, Odisha

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर