Home /News /nation /

Omicron बना पहेली, फाउसी बोले- वायरस के दिख रहे हल्‍के लक्षण पर सतर्कता जरूरी

Omicron बना पहेली, फाउसी बोले- वायरस के दिख रहे हल्‍के लक्षण पर सतर्कता जरूरी

डॉक्‍टर एंथोनी फाउसी ने कहा है कि कोरोना के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट से घबराने की जरूरत नहीं है.

डॉक्‍टर एंथोनी फाउसी ने कहा है कि कोरोना के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट से घबराने की जरूरत नहीं है.

Coronavirus New Variant Omicron: कोरोनावायरस (Coronavirus) के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट (Omicron Variant) से दक्षिण अफ्रीका (South Africa) में तनाव बना हुआ है. हालांकि अस्पताल में भर्ती होने की दर खतरनाक रूप से नहीं बढ़ी है. फाउसी ने शुरुआती आंकड़ों के आधार पर ओमिक्रॉन के कारण होने वाली बीमारी के बारे में और अध्‍ययन करने को कहा है. उन्‍होंने कहा कि अब तक कोरोना के नए वैरिएंट के बारे में जिस तरह की जानकारी मिली है उससे ऐसा नहीं लगता है कि ये काफी गंभीर वैरिएंट है. लेकिन हमें वास्तव में सावधान रहना होगा.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट (Omicron Variant) ने अब तक 38 देशों में दस्‍तक दी है. ओमिक्रॉन के डर के बीच वरिष्‍ठ संक्रामक रोग विशेषज्ञ और अमेरिकी राष्‍ट्रपति के निजी डॉक्‍टर एंथोनी फाउसी (Anthony Fauci) ने कहा है कि कोरोना के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट से घबराने की जरूरत नहीं है बल्कि इससे सतर्क रहने की जरूरत है. इस जानकारी के साथ उन्‍होंने ये भी कहा कि इस नए वैरिएंट पर अभी और अध्‍ययन करने की जरूरत है. एंथोनी फाउसी ने बताया कि नए कोरोनो वायरस वैरिएंट ओमिक्रोन की प्रारंभिक रिपोर्ट से संकेत मिले हैं कि यह डेल्टा से कम खतरनाक है और इस वैरिएंट से संक्रमित मरीजों को अस्‍पताल में भर्ती करने की बहुत जरूरत नहीं होती है.

    कोरोनावायरस के नए वैरिएंट से दक्षिण अफ्रीका में तनाव बना हुआ है. हालांकि अस्पताल में भर्ती होने की दर खतरनाक रूप से नहीं बढ़ी है. फाउसी ने शुरुआती आंकड़ों के आधार पर ओमिक्रॉन के कारण होने वाली बीमारी के बारे में और अध्‍ययन करने को कहा है. उन्‍होंने कहा कि अब तक कोरोना के नए वैरिएंट के बारे में जिस तरह की जानकारी मिली है उससे ऐसा नहीं लगता है कि ये काफी गंभीर वैरिएंट है. लेकिन हमें वास्तव में सावधान रहना होगा. बता दें कि ओमिक्रॉन संस्करण कम से कम 17 अमेरिकी राज्यों में फैल गया है. फौसी ने कहा कि बिडेन प्रशासन दक्षिण अफ्रीकी देशों में यात्रा प्रतिबंधों का पुनर्मूल्यांकन कर रहा है.

    कोरोना वायरस का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन अब तक 38 देशों में फैल चुका है. ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका में भी ओमिक्रॉन के नए मामले मिलने से हड़कंप मच गया है. कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट से सबसे ज्यादा प्रभावित साउथ अफ्रीका में हैं, लेकिन वहां संक्रमितों को अस्पताल जाने की जरूरत नहीं पड़ रही है. राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा ने बताया है कि अफ्रीका के अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी नहीं हो रही है. रामाफोसा ने ही ओमिक्रॉन का पता लगाने के बाद दक्षिण अफ्रीका और कई अन्य अफ्रीकी राज्यों में ट्रैवल बैन लगाए थे. ओमिक्रॉन का पहला मामला 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका में मिला था.

    इसे भी पढ़ें :- Coronavirus New Variant Omicron: देश में 1 दिन में आए ओमिक्रॉन के 17 केस, जानें क्‍या है लक्षण और उपाय

    भारत में ओमिक्रॉन वैरिएंट की क्‍या है स्थिति
    कोरोना के नए वैरिएंट ने भारत में तेजी से पैर पसारना शुरू कर दिया है. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि महज 4 दिन में भारत में कोरोना मरीजों की संख्‍या 21 तक पहुंच चुकी है. बता दें कि देश में 2 दिसंबर को ओमिक्रॉन का पहला मामला सामने आया था. आज 6 दिसंबर तक इस वैरिएंट के 21 नए मामले सामने आ चुके हैं. पिछले 24 घंटे की बात करें तो ओमिक्रॉन के 17 नए मामलेसामने आ चुके हैं. इसमें राजस्‍थान के जयपुर में 9, महाराष्‍ट्र में 7 और दिल्‍ली में 1 मामला सामने आया है. कोरोना का नया वैरिएंट देश के 5 राज्‍यों में फैल चुका है. ओमिकॉन के 21 मरीजों में 9 मरीज राजस्‍थान में, 8 मरीज महाराष्‍ट्र में, 2 कर्नाटक में, दिल्‍ली और गुजरात में 1-1 मरीज मिले हैं.

    इसे भी पढ़ें :- 38 देशों में फैला ओमिक्रॉन वेरिएंट, बेल्जियम में कोरोना नियमों के खिलाफ हिंसा

    ओमिक्रॉन वैरिएंट के क्‍या हैं लक्षण :-
    बहुत ज्यादा थकान
    हल्का सिरदर्द
    पूरे शरीर में दर्द
    गले में खराश
    सूखी खांसी

    Tags: America, Anthony Fauci, Corona, Coronavirus, COVID 19, Omicron variant

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर