Home /News /nation /

भारत में फरवरी में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर, कोविड सुपर मॉडल पैनल ने चेताया, कहा- वैक्सीनेशन से संक्रमण का खतरा कम

भारत में फरवरी में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर, कोविड सुपर मॉडल पैनल ने चेताया, कहा- वैक्सीनेशन से संक्रमण का खतरा कम

नए साल की शुरुआत में कोरोना की तीसरी लहर की संभावना  (File Photo)

नए साल की शुरुआत में कोरोना की तीसरी लहर की संभावना (File Photo)

Omicron driven third Corona wave likely to arrive early next year: कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वेरिएंट के चलते भारत में कोविड-19 की तीसरी लहर आने की संभावना बढ़ गई है. नेशनल कोविड-19 सुपर मॉडल कमेटी ने यह चेतावनी दी है. कमेटी के हेड विद्यासागर ने कहा कि, ओमिक्रॉन वेरिएंट के कारण भारत में कोविड-19 की तीसरी लहर नए साल की शुरुआत में आने की संभावना है और इसका पीक फरवरी में होगा. हालांकि उन्होंने बताया कि कोरोना की दूसरी लहर की तुलना में यह तीसरी लहर कम घातक होगी. क्योंकि कोविड-19 वैक्सीनेशन के कारण बड़ी संख्या में लोगों के अंदर इम्युनिटी विकसित हो चुकी है

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली: ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) के बढ़ते मामलों के बीच भारत में कोरोना की तीसरी लहर (Corona Third Wave) नए साल की शुरुआत में आ सकती है. नेशनल कोविड-19 सुपर मॉडल कमेटी (Covid-19 Super Model Committee)  ने यह चेतावनी दी है. इस कमेटी का दावा है कि देश में कोरोना महामारी (Corona Pandemic) की तीसरी लहर आने की प्रबल संभावना है. न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए इस कमेटी के हेड विद्यासागर ने कहा कि, ओमिक्रॉन वेरिएंट के कारण भारत में कोविड-19 की तीसरी लहर नए साल की शुरुआत में आने की संभावना है और इसका पीक फरवरी में होगा.

    हालांकि उन्होंने बताया कि कोरोना की दूसरी लहर की तुलना में यह तीसरी लहर कम घातक होगी. क्योंकि कोविड-19 वैक्सीनेशन के कारण बड़ी संख्या में लोगों के अंदर इम्युनिटी विकसित हो चुकी है. फिलहाल देश में रोजाना कोरोना के साढ़े 7 हजार केस आ रहे हैं और ओमिक्रॉन वेरिएंट के बढ़ते संक्रमण के कारण इनकी संख्या में इजाफा हो सकता है.

    नेशनल कोविड-19 सुपर मॉडल कमेटी के अध्यक्ष और आईआईटी हैदराबाद के प्रोफेसर विद्यासागर ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के मुकाबले तीसरी लहर में रोजाना बढ़ने वाले संक्रमण की दर कम रहने की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि जब इस साल मार्च-अप्रैल में कोविड-19 की दूसरी लहर आई थी तब देश में वैक्सीनेशन का कार्यक्रम शुरू ही हुआ था और देश की ज्यादातर आबादी को वैक्सीन नहीं मिली थी.

    यह भी पढ़ें: Covid 19: द‍िल्‍ली में बढ़ने लगा कोरोना, पांच माह के बाद सबसे ज्‍यादा मामले क‍िए रिकॉर्ड

    दूसरी लहर की तुलना में कम घातक होगी कोरोना की तीसरी लहर

    प्रोफेसर विद्यासागर ने कहा कि बड़े पैमाने पर लोगों का कोविड-19 वैक्सीनेशन होने के कारण कोरोना की तीसरी लहर में संक्रमण के मामले तेजी से नहीं बढ़ेंगे. वैक्सीनेशन और पूर्व के अनुभवों की बदौलत हम इस बार बेहतर क्षमता के साथ लड़ने में समर्थ होंगे. उन्होंने यह भी कहा कि रोजाना आने वाले मामलों की संख्या इस बात पर भी निर्भर रहेगी कि, ओमिक्रॉन वेरिएंट वैक्सीन ले चुके और नेचुरल इम्युनिटी विकसित कर चुके लोगों को किस प्रकार प्रभावित करता है.

    इस कमेटी के एक अन्य सदस्य मनिंदा अग्रवाल ने एएनआई से कहा कि, कोरोना की तीसरी लहर में भारत में रोजाना आने वाले केसों की संख्या 1 से 2 लाख हो सकती है जो को दूसरी लहर की तुलना में कम होगी. बता दें कि भारत में अब तक ओमिक्रॉन के 100 केस सामने आ चुके हैं. वहीं नीति आयोग (स्वास्थ्य) के सदस्य डॉ वी के पॉल ने शुक्रवार को कहा कि ब्रिटेन में इस वेरिएंट के तेजी से बढ़ते केस चिंता की बात है.

    Tags: Corona third wave, Omicron, Omicron variant

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर