Home /News /nation /

Omicron In India: 15 साल से कम उम्र के बच्चों के वैक्सीनेशन का भारत में नहीं कोई प्लान!

Omicron In India: 15 साल से कम उम्र के बच्चों के वैक्सीनेशन का भारत में नहीं कोई प्लान!

Coronavirus Vaccination File Photo

Coronavirus Vaccination File Photo

अंग्रेजी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स के अनुसार अधिकारी ने कहा, 'हमारा फैसला पूरी तरह से वैज्ञानिक आंकड़ों पर आधारित है, जो यह दिखा रहा कि दुनिया में कहीं भी बच्चे वायरस से काफी हद तक प्रभावित नहीं हैं. हम शुरू में यह मान रहे थे कि टीकाकरण के लिए केवल वयस्कों के लिए अनुमति दी जानी चाहिए.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. भारत में 15 साल से कम उम्र के बच्चों का टीकाकरण (Vaccination Of Childrens) की फिलहाल कोई योजना नहीं है. एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि सरकार ने 15-18 आयु वर्ग को अगले महीने से पात्र बनने की अनुमति देने से पहले विचार किया था. कई देश छोटे बच्चों का टीकाकरण कर रहे हैं, कुछ मामलों में पांच साल की उम्र में भी वैक्सीनेशन हो रहा है. कोरोना संक्रमण (Coronavirus In India) के ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) द्वारा पैदा हुए खतरे को देखते हुए टीकाकरण का विस्तार करने के लिए अहम फैसले लिए जा रहे हैं.

    अंग्रेजी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स के अनुसार अधिकारी ने नाम न बताने की शर्त पर कहा, ‘हमारा फैसला पूरी तरह से वैज्ञानिक आंकड़ों पर आधारित है, जो यह दिखा रहा कि दुनिया में कहीं भी बच्चे वायरस से काफी हद तक प्रभावित नहीं हैं. हम शुरू में यह मान रहे थे कि टीकाकरण के लिए केवल वयस्कों के लिए अनुमति दी जानी चाहिए. बाद में यह महसूस किया कि 15-18 आयु वर्ग के युवा वयस्क स्कूल या कॉलेज जा रहे हैं और घूम रहे हैं, ऐसे में यह भी वायरस के संपर्क में आ सकते हैं.

    ‘भारत का निर्णय जुलाई में किए गए सीरोलॉजिकल सर्वेक्षण पर आधारित’
    यह पूछे जाने पर कि भारत की नीति अमेरिका या ब्रिटेन से अलग क्यों है, इस पर अधिकारी ने कहा कि भारत का निर्णय जुलाई में किए गए सीरोलॉजिकल सर्वेक्षण पर आधारित था. बता दें अमेरिका और ब्रिटेन दोनों ही पांच साल से अधिक के बच्चों का वैक्सीनेशन कर रहे हैं. अधिकारी ने कहा, ‘इससे पता चला है कि 67.6% आबादी वायरस के संपर्क में आई जिसमें बच्चों की भी बड़ी संख्या थी.’

    अधिकारी के मुताबिक, ‘हम छोटे बच्चों का अनावश्यक टीकाकरण क्यों करें?’ उन्होंने तर्क दिया- ‘सभी को टीका लगाने की दौड़ मार्केटिंग हो सकती है.’ अधिकारी के अनुसार ‘देश के विभिन्न हिस्सों में स्कूल और कॉलेज भी पिछले कुछ समय से खुले हैं और हमें वहां संक्रमण में उछाल नहीं दिख रहा है और ना ही हम बच्चों को गंभीर रूप से बीमार होते देख रहे हैं.’

    अखबार के अनुसार अधिकारी ने कहा ‘भारत में ओमिक्रॉन के जिन 500 मामलों का पता चला है, उनमें से आधे ठीक होकर घर जा चुके हैं। . गंभीर बीमारी को भूल जाइए, केवल 13% लोगों में ही लक्षण पाए गए. अगर दक्षिण अफ्रीका जैसे देशों से हमे यह पता चल रहा है कि ओमिक्रॉन तेजी से फैल रहा है तो हमें यह भी जानना चाहिए कि यह तेजी से ठीक भी हो रहा है.’

    Tags: Coronavirus in India, Omicron, Vaccination in India

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर