Home /News /nation /

Omicron: युवाओं और बुजुर्गों में कम गंभीर हो सकता है ओमिक्रॉन लेकिन 'हल्का' नहीं: WHO प्रमुख

Omicron: युवाओं और बुजुर्गों में कम गंभीर हो सकता है ओमिक्रॉन लेकिन 'हल्का' नहीं: WHO प्रमुख

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रॉस एडनॉम गेब्येयियस.  (File Photo)

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रॉस एडनॉम गेब्येयियस. (File Photo)

Coronavirus Update in India: "पिछले वेरिएंट की तरह, ओमिक्रॉन के चलते लोगों को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा रहा है और उनकी मौत भी हो रही है." उन्होंने मामलों की "सुनामी" को लेकर चेतावनी दी क्योंकि वैश्विक स्तर पर ओमिक्रॉन और डेल्टा दोनों के मामले रिकॉर्ड किए जा रहे हैं, स्वास्थ्य प्रणाली खचाखच भरती जा रही है, और सरकारें 5.8 मिलियन लोगों की मौत के जिम्मेदार बनकर वायरस को काबू में करने के लिए संघर्ष कर रही हैं.

अधिक पढ़ें ...

    जिनेवा. विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Heath Organization) के अधिकारियों ने गुरुवार को कहा कि कोविड ​​-19 का अधिक संक्रामक ओमिक्रॉन वेरिएंट विश्व स्तर पर प्रमुख डेल्टा वेरिएंट की तुलना में कम गंभीर है, लेकिन इसे “हल्के” वेरिएंट के रूप में वर्गीकृत नहीं किया जाना चाहिए. क्लीनिकल मैनेजमेंट में डब्ल्यूएचओ प्रमुख जेनेट डियाज़ ने कहा कि शुरुआती अध्ययनों से पता चला है कि डेल्टा की तुलना में नवंबर में दक्षिणी अफ्रीका और हांगकांग में पहली बार पहचाने गए वेरिएंट से अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम कम था. उन्होंने जिनेवा में डब्ल्यूएचओ मुख्यालय से एक मीडिया ब्रीफिंग में कहा, युवा और वृद्ध दोनों लोगों में गंभीरता का जोखिम कम प्रतीत होता है.

    दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड के अध्ययनों सहित अन्य आंकड़ों के साथ गंभीर बीमारी के कम जोखिम पर ये टिप्पणी आई है. हालांकि उन्होंने विश्लेषण किए गए मामलों के अध्ययन या उम्र के बारे में और विवरण नहीं दिया. बुजुर्गों पर असर नए वेरिएंट के बड़े अनुत्तरित प्रश्नों में से एक है क्योंकि अब तक अध्ययन किए गए अधिकांश मामले युवा लोगों में मिले हैं. जिनेवा में एक ही ब्रीफिंग में विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम गेब्रियेसुस ने कहा, “हालांकि ओमिक्रॉन डेल्टा की तुलना में कम गंभीर प्रतीत होता है, विशेष रूप से टीकाकरण वाले लोगों में, इसका मतलब यह नहीं है कि इसे हल्के रूप में वर्गीकृत किया जाना चाहिए.”

    संगठन प्रमुख ने चेतावनी देते हुए कहा, “पिछले वेरिएंट की तरह, ओमिक्रॉन के चलते लोगों को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा रहा है और उनकी मौत भी हो रही है.” उन्होंने मामलों की “सुनामी” को लेकर चेतावनी दी क्योंकि वैश्विक स्तर पर ओमिक्रॉन और डेल्टा दोनों के मामले रिकॉर्ड किए जा रहे हैं, स्वास्थ्य प्रणाली खचाखच भरती जा रही है, और सरकारें 5.8 मिलियन लोगों की मौत के जिम्मेदार बनकर वायरस को काबू में करने के लिए संघर्ष कर रही हैं.

    ‘लाखों लोग अभी भी पूरी तरह से असुरक्षित’
    टेड्रोस ने टीकों के वितरण और पहुंच में विश्व स्तर पर अधिक इक्विटी के लिए अपने आह्वान को दोहराया. टेड्रोस ने कहा कि वैक्सीन लगवाने की वर्तमान दर के आधार पर, दुनिया के 109 देश 70% आबादी के लिए डब्ल्यूएचओ के लक्ष्य को जुलाई तक पूरी तरह से टीका लगाने से चूक जाएंगे. उस उद्देश्य को महामारी के तीव्र चरण को समाप्त करने में मदद के रूप में देखा जाता है.

    उन्होंने कहा “कुछ देशों में बूस्टर लगाए जा रहे हैं लेकिन बूस्टर महामारी को समाप्त नहीं करेगा, इसके बावजूद भी अरबों लोग पूरी तरह से असुरक्षित रहेंगे.”

    डब्ल्यूएचओ के सलाहकार ब्रूस आयलवर्ड ने कहा कि 36 देशों अभी तक 10 प्रतिशत टीकाकरण तक नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि दुनिया भर में गंभीर रोगियों में, 80% बिना लक्षण वाले थे. गुरुवार को अपनी साप्ताहिक महामारी विज्ञान रिपोर्ट में, डब्ल्यूएचओ ने कहा कि मामलों में 71%, या 9.5 मिलियन की वृद्धि हुई. जबकि एक सप्ताह पहले से 2 जनवरी तक, मौतों में 10% या 41,000 की गिरावट आई.

    Tags: Coronavirus, Coronavirus Delta Variant, Omicron

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर