Home /News /nation /

Omicron: डेल्टा से कहीं ज्यादा संक्रामक है ओमिक्रॉन, वैक्सीन भी बेअसर लेकिन...

Omicron: डेल्टा से कहीं ज्यादा संक्रामक है ओमिक्रॉन, वैक्सीन भी बेअसर लेकिन...

भारत में कोरोना वायरस के, 236 दिनों में सबसे अधिक 2,47,417 नए मामले आए हैं (File Photo)

भारत में कोरोना वायरस के, 236 दिनों में सबसे अधिक 2,47,417 नए मामले आए हैं (File Photo)

Coronavirus Omicron Variant: डॉ कुमार ने कहा "कोविड ​​​​-19 मामलों की संख्या बढ़ रही है और लोगों को गंभीर बीमारियां हो रही हैं, लेकिन अब तक आईसीयू में भर्ती, ऑक्सीजन की जरूरत और मौत की संख्या उतनी ज्यादा और मनोवैज्ञानिक रूप से कठिन नहीं है, जितनी कि पिछले वर्ष की दूसरी लहर में थी." भारत में कोरोना वायरस के, 236 दिनों में सबसे अधिक 2,47,417 नए मामले आए हैं जिनमें ओमिक्रॉन स्वरूप के 5,488 मामले शामिल हैं. इसके साथ ही महामारी के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 3,63,17,927 हो गयी है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. मेदांता अस्पताल के वरिष्ठ सर्जन डॉ अरविंद कुमार ने गुरुवार को कहा कि कोविड-19 का ओमिक्रॉन वेरिएंट (Covid-19 Omicron Variant) डेल्टा वेरिएंट से ज्यादा संक्रामक है. हालांकि, यह उसकी तुलना में हल्का है. कुमार ने एएनआई से कहा, डेल्टा वेरिएंट में फेफड़ों की समस्या ज्यादा थी जिसके चलते ऑक्सीजन की समस्या होती है. अब तक, डाटा दिखाता है कि ओमिक्रॉन, डेल्टा (Covid-19 Delta Variant) से तेज तो फैलता है लेकिन उसके मुकाबले हल्का भी है. ओमिक्रॉन पर वैक्सीन का असर नहीं हो रहा है और इसके आगे वैक्सीन असफल हो रही है.

उन्होंने कहा “कोविड ​​​​-19 मामलों की संख्या बढ़ रही है और लोगों को गंभीर बीमारियां हो रही हैं, लेकिन अब तक आईसीयू में भर्ती, ऑक्सीजन की जरूरत और मौत की संख्या उतनी ज्यादा और मनोवैज्ञानिक रूप से कठिन नहीं है, जितनी कि पिछले वर्ष की दूसरी लहर में थी.” भारत में कोरोना वायरस के, 236 दिनों में सबसे अधिक 2,47,417 नए मामले आए हैं जिनमें ओमिक्रॉन स्वरूप के 5,488 मामले शामिल हैं. इसके साथ ही महामारी के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 3,63,17,927 हो गयी है.

ये भी पढ़ें- Omicron Coronavirus Live Updates: अमेरिकी साइंटिस्ट का दावा- जनवरी के अंत तक भारत में आ सकता है कोरोना का पीक

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के गुरुवार को सुबह आठ बजे तक के आंकड़ों के अनुसार, देश में ओमिक्रॉन स्वरूप के एक दिन में 620 मामले आए जो अब तक सर्वाधिक मामले हैं और इसी के साथ ही कोरोना वायरस के इस स्वरूप के मामले बढ़कर 5,488 हो गए हैं. इनमें से 2,162 लोग स्वस्थ हो गए या देश छोड़कर चले गए हैं.

एक्टिव मामलों की संख्या 11 लाख के पार
आंकड़ों के अनुसार, एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़कर 11,17,531 हो गयी है जो 216 दिनों में सर्वाधिक है जबकि 380 मरीजों के जान गंवाने से मृतकों की संख्या बढ़कर 4,85,035 हो गयी है. महाराष्ट्र में ओमिक्रॉनके सबसे अधिक 1,367 मामले आए. इसके बाद राजस्थान में 792, दिल्ली में 549, केरल में 486 और कर्नाटक में 479 मामले आए.

मंत्रालय के अनुसार, उपचाराधीन मरीजों की संख्या संक्रमण के कुल मामलों का 3.08 प्रतिशत है जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने वाले लोगों की राष्ट्रीय दर कम होकर 95.59 प्रतिशत हो गयी है. कोरोना वायरस के 21 मई को एक दिन में कुल 2,57,299 मामले आए थे. बीते 24 घंटों में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या में 1,62,212 की वृद्धि हुई. संक्रमण की दैनिक दर 13.11 फीसदी दर्ज की गयी जबकि साप्ताहिक संक्रमण दर 10.80 प्रतिशत दर्ज की गयी. इस बीमारी से उबरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 3,47,15,361 हो गयी है जबकि मृत्यु दर 1.34 प्रतिशत है. देशव्यापी कोविड-19 रोधी टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक 154.61 करोड़ खुराकें दी जा चुकी है.

ये भी पढ़ें- दिल्ली के अस्पताल बन रहे Corona के Super Spreader, इन हॉस्पिटल में रहें सावधान!

आंकड़ों के मुताबिक, देश में जिन 380 लोगों ने जान गंवाई है उनमें से 199 ने केरल में और 40 लोगों ने दिल्ली में जान गंवाई. इस महामारी से अभी तक 4,85,035 लोगों की मौत हो चुकी है, जिनमें से 1,41,701 लोगों की मौत महाराष्ट्र में, 50,076 की मौत केरल में, 38,389 की मौत कर्नाटक में, 36,905 की तमिलनाडु, 25,240 की दिल्ली, 22,940 की उत्तर प्रदेश और 19,959 लोगों की मौत पश्चिम बंगाल में हुई.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अभी तक जिन लोगों की कोरोना वायरस संक्रमण से मौत हुई है, उनमें से 70 प्रतिशत से ज्यादा मरीजों को अन्य बीमारियां भी थीं. मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर बताया कि उसके आंकड़ों का भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के आंकड़ों के साथ मिलान किया जा रहा है.

Tags: Coronavirus, Delta, Omicron

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर