Home /News /nation /

पूर्व CSIR प्रमुख का दावा- भारत में पहले से मौजूद था ओमिक्रॉन वेरिएंट, एयरपोर्ट से नहीं आ रहे सारे मामले

पूर्व CSIR प्रमुख का दावा- भारत में पहले से मौजूद था ओमिक्रॉन वेरिएंट, एयरपोर्ट से नहीं आ रहे सारे मामले

बेंगलुरु में एक स्वास्थ्य कार्यकर्ता के ओमिक्रॉन संक्रमित पाए जाने से सरकार की चिंताएं बढ़ गई हैं

बेंगलुरु में एक स्वास्थ्य कार्यकर्ता के ओमिक्रॉन संक्रमित पाए जाने से सरकार की चिंताएं बढ़ गई हैं

Coronavirus Omicron Variant in India: वर्धमान महावीर मेडिकल कॉलेज के कम्युनिटी मेडिसिन विभाग (Community Medicine Department of Vardhman Mahaveer Medical College) के प्रमुख डॉ. जुगल किशोर का कहना है कि बेंगलुरु में जिस प्रकार से स्थानीय नागरिक में इस वेरिएंट की पुष्टि हुई है, वह इस बात का प्रूफ है कि देश में इसकी एंट्री पहले ही हो चुकी थी.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन (Coronavirus Omicron Variant) से संक्रमित पाए गए हैं. हैरान करने वाली बात यह है कि इस डॉक्टर की कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है. बिना ट्रैवल हिस्ट्री (Travel history) के बाद डॉक्टर के ओमिक्रॉन वेरिएंट से पॉजिटिव पाए जाने के बाद सीएसआईआर-सीसीएमबी के पूर्व प्रमुख डॉ. राकेश मिश्रा ने कहा, यह केस आने के बाद इस बात की पुष्टि हो गई है कि कोरोना का ओमिक्रॉन वेरिएंट सिर्फ विदेशों से आने वाले यात्रियों से नहीं फैल रहा है बल्कि यह देश में पहले ही मौजूद है.

    News18.Com से खास बातचीत करते हुए सीसीएमबी के पूर्व निदेशक डॉ राकेश मिश्रा ने कहा, ‘यह केस सामने आने के बाद निश्चित रूप से इसका मतलब यह है कि सभी मामले हवाई अड्डों से नहीं आ रहे हैं. इसका मतलब है कि यह पहले से ही यहां है. हमें यह समझना चाहिए कि हम जो पहचानते हैं वह केवल सीमा नहीं है. वास्तव में, भारत के अब तक के अधिकांश प्रमुख शहरों में इस वेरिएंट के होने की संभावना है.’ उन्होंने कहा कि फिलहाल ओमिक्रॉन वेरिएंट में राहत की बात यह है कि अब तक इससे संक्रमित रोगियों में गंभीर लक्षण नहीं पाए गए हैं.

    दरअसल, गुरुवार को कर्नाटक में ओमिक्रॉन वेरिएंट के मामले दर्ज किए. यह मामले सामने के बाद केंद्र सरकार ने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों पर निगरानी बढ़ा दी है.

    हैदराबाद स्थित सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलेक्युलर बायोलॉजी (CCMB) के निदेशक डॉक्टर मिश्रा लगातार इस बात पर जोर दे रहे हैं कि यह वेरिएंट भारतीयों के लिए चेतावनी की तरह है. उन्होंने कहा, ‘आने वाले दो हफ्तों में शायद इस बात को और मजबूती से कह सकूंगा. यह हमें कोविड उपयुक्त व्यवहार के बारे में दोबारा सिखाने आया है, जिसे भारतीयों ने कम होते मामले या टीकाकरण के कारण छोड़ दिया है.’

    ये भी पढ़ेंः- समंदर में दिखा भूतिया शैतान, 33 फीट लंबी है सूंड, वैज्ञानिक भी हुए हैरान, देखें VIDEO

    कई और मिल सकते हैं ओमिक्रॉन से संक्रमित
    वहीं, इस मामले पर वर्धमान महावीर मेडिकल कॉलेज के कम्युनिटी मेडिसिन विभाग (Community Medicine Department of Vardhman Mahaveer Medical College) के प्रमुख डॉ. जुगल किशोर का कहना है कि बेंगलुरु में जिस प्रकार से स्थानीय नागरिक में इस वेरिएंट की पुष्टि हुई है, वह इस बात का प्रूफ है कि देश में इसकी एंट्री पहले ही हो चुकी थी. देश में रोजाना दस हजार नए संक्रमित आ रहे हैं, यदि इनमें से ज्यादा से ज्यादा मामलों की जीनोम सिक्वेंसिंग की जाए तो कई और ओमिक्रॉन संक्रमित (Omicron Variant) मिल सकते हैं.

    ये भी पढ़ेंः- मंगल ग्रह पर कैसा होता है सूर्यास्त?, NASA ने पहली बार दुनिया को दिखाई ये अद्भुत तस्वीर

    भारत पर क्या होगा ओमिक्रॉन का असर?
    इस बीच स्वास्थ्य मंत्रालय (Ministry of Health) ने दो महत्वपूर्ण बातें कही हैं. एक डेल्टा के बड़े पैमाने पर संक्रमण और टीकाकरण बढ़ने के कारण ओमिक्रॉन का ज्यादा प्रभाव देश पर नहीं होगा. दूसरे, इसके बचाव के लिए जो रणनीति डेल्टा के लिए अपनाई गई है, वहीं अब भी काम आएगी. बता दें कि देश में 85 फीसदी वयस्क आबादी को एक और करीब 50 फीसदी को दोनों टीके लग चुके हैं.

    Tags: Coronavirus, Coronavirus Case, Coronavirus Case in India, Coronavirus cases in Karnataka, Omicron, Omicron variant

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर