Home /News /nation /

ओमिक्रॉन को लेकर दिल्ली के डॉक्टर्स का बड़ा खुलासा, फेफड़े को प्रभावित नहीं कर रहा है ये वेरिएंट

ओमिक्रॉन को लेकर दिल्ली के डॉक्टर्स का बड़ा खुलासा, फेफड़े को प्रभावित नहीं कर रहा है ये वेरिएंट

कई राज्य सरकारों ने ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों को देखते हुए एक बार फिर से प्रतिबंध लागू कर दिया है.

कई राज्य सरकारों ने ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों को देखते हुए एक बार फिर से प्रतिबंध लागू कर दिया है.

Omicron, Omicron in Delhi : ओमिक्रॉन से ग्रसित होने वाले मरीजों को लेकर एलएनजेपी अस्पताल के डॉक्टर्स ने बड़ा खुलासा किया है. डॉक्टर्स के अनुसार एलएनजेपी में आने कुल संक्रमितों में से अब तक 19 लोगों को छुट्टी दी जा चुकी है. डॉक्टर्स ने वायरस के व्यवहार पर बात करते हुए कहा कि अस्पताल में अब तक आने वाले ओमिक्रॉन के मामले असिम्प्टोमैटिक थे. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली में अब तक 67 ओमाइक्रोन मामले दर्ज किए गए हैं.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली: भारत समेत पूरी दुनिया के लिए ओमिक्रॉन (Omicron) एक बड़ी समस्या बना हुआ है. कोरोना के इस नए वेरिएंट ने कोविड की तीसरी लहर (Covid-19 Third Wave) की संभावना को भी बढ़ा दिया है. भारत में लगातार ओमिक्रॉन (Omicron In India) के मामले बढ़ते जा रहे हैं. देश में अब तक ओमिक्रॉन के 350 से ज्यादा मामलों की पुष्टि हो चुकी है. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Omicron in Delhi) में 67 मामले सामने आ चुके हैं. इनमें से करीब 40 संक्रमितों का इलाज शहर के एलएनजेपी अस्पताल (LNJP Hospital) में चल रहा है.

    इस बीच ओमिक्रॉन से ग्रसित होने वाले मरीजों को लेकर एलएनजेपी अस्पताल के डॉक्टर्स ने बड़ा खुलासा किया है. डॉक्टर्स के अनुसार एलएनजेपी में आने कुल संक्रमितों में से अब तक 19 लोगों को छुट्टी दी जा चुकी है. डॉक्टर्स ने वायरस के व्यवहार पर बात करते हुए कहा कि अस्पताल में अब तक आने वाले ओमिक्रॉन के मामले असिम्प्टोमैटिक थे.

    यह भी पढ़ें- तमिलनाडुः सरकारी स्कूल के शिक्षक की शर्मनाक हरकत, 15 से अधिक छात्राओं का किया यौन उत्पीड़न, गिरफ्तार

    डॉक्टर्स ने कहा कि ज्यादातर मरीजों में कोविड के सामान्य लक्षण थे, जैसे गले में खराश होना, हल्का बुखार आना और शरीर में दर्द होना. किसी भी मरीज को कोई गंभीर बीमारी या फिर लक्षण नहीं दिखाई दिए. ज्यादातर लोग एक या दो दिन में छुट्टी पा गए. अस्पताल के एक सीनियर डॉक्‍टर ने कहा कि ओमिक्रोन के मरीजों को अब तक केवल पैरासिटामोल और मल्टी विटामिन की गोलियां दी गयी हैं. बस इसी से मरीज ठीक हो रहे हैं.

    ओमिक्रॉन को लेकर सबसे बड़ा सवाल यह है कि यह शरीर के कौन से अंग को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है तो इस पर डॉक्टर्स ने कहा कि दक्षिण अफ्रीका में सबसे पहले पहचाने गए SARS-CoV-2 का नवीनतम संस्करण ओमिक्रॉन डेल्टा की तुलना कहीं ज्यादा तेजी से फैल रहा है लेकिन राहत की बात यह है कि यह ज्यादा गंभीर बीमारी नहीं पैदा कर रहा. उन्होंने बताया कि डेल्टा की तरह ओमिक्रॉन मनुष्य के फेफड़ों को प्रभावित नहीं कर रहा है. सभी रोगियों में सामान्य सर्दियों के मौसम की तरह ही लक्षण थे.

    कई राज्यों में फिर से लगा नाइट कर्फ्यू
    आपको बता दें कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली में अब तक 67 ओमाइक्रोन मामले दर्ज किए गए हैं, जिनमें से 23 को छुट्टी दे दी गई है. अभी तक देश में कहीं से भी ओमिक्रॉन के गंभीर मामले की पुष्टि नहीं हुई है. इस बीच कई राज्य सरकारों ने ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों को देखते हुए एक बार फिर से प्रतिबंध लागू कर दिया है. यूपी, एमपी, गुजरात, हरियाणा सरकार ने नाइट कर्फ्यू लगाने के आदेश दिए हैं.

    Tags: Covid19, LNJP Hospital, Omicron

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर