Pranab Mukherjee: पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन पर बहन ने कहा-दूसरी बार पितृ शोक में हूं

Pranab Mukherjee: पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन पर बहन ने कहा-दूसरी बार पितृ शोक में हूं
पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन के बाद से उनकी छोटी बहन स्वगता दास मुखर्जी शोक में हैं.

पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी (Pranab Mukherjee) की बहन स्वगता दास मुखर्जी (Swagata Das Mukherjee) ने कहा, इतने बड़े पद पर आसीन रहने के बाद भी प्रणब दा ने परिवार को खुद से कभी अलग नहीं किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 1, 2020, 9:21 AM IST
  • Share this:
हावड़ा. पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी (Pranab Mukherjee) के निधन की खबर मिलने के बाद से उनकी बहन स्वगता दास मुखर्जी (Swagata Das Mukherjee) के मध्य हावड़ा के नेताजी बोस रोड स्थित मकान में सन्नाटा पसरा हुआ है. प्रणब मुखर्जी के निधन पर स्वगता दास मुखर्जी ने कहा, आज मैं दूसरी बार पितृ शोक में हूं. मैंने पिता समान अपने बड़े भाई व अभिभावक को खो दिया.

स्वगता दास मुखर्जी ने बताया कि हमलोग एक साथ बड़े हुए. प्रणब मुखर्जी के राष्ट्रपति बनने के समय मैं दिल्ली गई थी. इतने बड़े पद पर आसीन रहने के बाद भी उन्होंने परिवार को खुद से अलग नहीं किया. 10 दिसंबर को वह आखिरी बार कोलकाता आए थे. उनसे जुड़ी बहुत यादें हैं, लेकिन अभी मैं बात करने की स्थिति में नहीं हूं. अंतिम दर्शन के लिए दिल्ली जाउंगी कि नहीं, यह बता पाना अभी संभव नहीं है.

इसे भी पढ़ें : Pranab Mukherjee: अफजल-कसाब और याकूब की फांसी से लेकर इन फैसलों के लिए याद किए जाएंगे प्रणब मुखर्जी



बता दें कि भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का सोमवार को 84 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. प्रणब मुखर्जी ने दिल्ली के आर्मी अस्पताल में अंतिम सांस ली. केंद्र सरकार ने पूर्व राष्ट्रपति के सम्मान में 7 दिवसीय राष्ट्रीय शोक की घोषणा की है. आज दोपहर 2.30 बजे दिल्ली के लोधी श्मशान घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.
इसे भी पढ़ें :- पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का आज 2:30 बजे अंतिम संस्कार, 7 दिन का राष्ट्रीय शोक

2012 में बनें थे देश के राष्ट्रपति
प्रणब मुखर्जी ने जुलाई 2012 में भारत के 13वें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ ली थी. वह 25 जुलाई 2017 तक इस पद पर रहे थे. प्रणब मुखर्जी को 26 जनवरी 2019 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था. 11 दिसम्बर 1935, को पश्चिम बंगाल के वीरभूम जिले में प्रणब मुखर्जी का जन्म हुआ था. उनके पिता 1920 से ही कांग्रेस पार्टी में सक्रिय थे. मुखर्जी के पिता एक सम्मानित स्वतन्त्रता सेनानी थे, जिन्होंने ब्रिटिश शासन की खिलाफत के परिणामस्वरूप 10 वर्षो से अधिक जेल की सजा भी काटी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज