लाइव टीवी

हैदराबाद एनकाउंटर पर IPS अधिकारी ने किया ऐसा ट्वीट, IAS अफसर ने जताई आपत्ति

News18Hindi
Updated: December 8, 2019, 1:58 PM IST
हैदराबाद एनकाउंटर पर IPS अधिकारी ने किया ऐसा ट्वीट, IAS अफसर ने जताई आपत्ति
हैदराबाद एनकाउंटर के मुद्दे पर दोनों अफसरों के बीच कहासुनी हुई.

हैदराबाद में पशु-चिकित्सक के सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में गिरफ्तार किए गए चार आरोपियों के मुठभेड़ में मारे जाने के बाद देश दो विचारों पर बंट गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 8, 2019, 1:58 PM IST
  • Share this:
हैदराबाद. हैदराबाद में पशु चिकित्सक से बलात्कार (Hyderabad Gang Rape) और फिर जला कर मारने के आरोपियों के एनकाउंटर (Hyderabad encounter) के मामले ने देश भर में एक बहस से छेड़ दी है. एक वर्ग जहां इस पूरी प्रक्रिया को सही ठहरा रहा है तो वहीं दूसरी ओर लोगों का मानना है कि आरोपियों को अदालत का सामना करना चाहिए था. इसी मुद्दे को लेकर माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर एक आईपीएस और आईएएस अधिकारी के बीच कहासुनी हो गई.

दरअसल, 6 दिसंबर को हैदराबाद पुलिस द्वारा एनकाउंटर के बाद आईपीएस डी रूपा ने ट्वीट किया- 'परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम्‌ । धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ॥ इस समय विचार.' इस पर छत्तीसगढ़ में तैनात IAS अधिकारी अवनीश शरण ने भी ट्वीट किया. उन्होंने लिखा- ' मैम यह आप जैसे एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी से अपेक्षित नहीं था. माफ़ कीजिये!'

डी रूपा ने कहा- यह आपके पूर्वाग्रह को दर्शाता है
इसके बाद डी रूपा ने एक और ट्वीट कर IAS शरण को जवाब दिया. उन्होंने लिखा- 'यह संस्कृत के विरुद्ध आपके पूर्वाग्रह को दर्शाता है. इसमें धर्म का अर्थ पवित्रता है, धर्म नहीं. कई पुलिस संगठनों के आदर्श वाक्य 'दुष्टा शिक्षक, शिष्ट रक्षक'  है, जिसका अर्थ वही है जो इस कविता में कहा गया है. और, मैंने इसे किसी भी चीज़ से टैग / लिंक नहीं किया है. सत्यमेव जयते!'



बता दें हैदराबाद में पशु-चिकित्सक के सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में गिरफ्तार किए गए चार आरोपी शुक्रवार सुबह पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए. साइबराबाद पुलिस आयुक्त वी सी सज्जनर ने बताया कि चारों आरोपी पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए. मुठभेड़ में दो पुलिसकर्मी भी घायल हो गए.

यह भी पढ़ें: हैदराबाद एनकाउंटर: गैंगरेप आरोपी की पत्‍नी ने शव दफनाने से किया इनकार, रखी ये मांग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 8, 2019, 12:21 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर