Home /News /nation /

वेलेंटाइन डे पर महिला ने अपना लीवर दान देकर पति की बचाई जान, 4 साल से थे बीमार

वेलेंटाइन डे पर महिला ने अपना लीवर दान देकर पति की बचाई जान, 4 साल से थे बीमार

लीवर ट्रांस्पलांट से बची मरीज की जान (सांकेतिक तस्वीर/ आभार@wfla)

लीवर ट्रांस्पलांट से बची मरीज की जान (सांकेतिक तस्वीर/ आभार@wfla)

लीवर सिरोसिस (Liver Cirrhosis) एक ऐसी स्थित है, जिसमें मरीज का लीवर (Liver) आहिस्ता-आहिस्ता खराब होने लगता है. इस गंभीर बीमारी से ग्वालियर (Gwalior) का रहने वाला एक शख्स ग्रस्त था. 4 सालों से इस जानलेवा बीमारी से जुझ रहा था. डॉक्टरों ने जब कहा कि सिर्फ लिवर ट्रांसप्लांट (Liver Transplant) से ही शख्स की जिंदगी बचाई जा सकती है, तो फिर उसकी पत्नी ने वो फैसला किया, जिसकी तारीफ आज हर कोई कर रहा है.

अधिक पढ़ें ...

    ग्वालियर (Gwalior) की रहने वाली एक 47 साल की महिला ने अपने पति वेलेंटाइन डे (Valentine Day) के मौके पर एक ऐसा गिफ्ट दिया, जिससे उसकी जान बच गई. इस महिला ने अपने 49 साल के पति को अपना लीवर दान (Liver Donation) दिया और उसकी जिंदगी बचाई. जिस हॉस्पिटल में लीवर प्रत्यारोपित (Liver Transplantaion) किया गया है उसका नाम है अस्टर आर. वी. हॉस्पिटल (Aster RV Hospital).  अस्पताल प्रबंधन ने महिला और उनके पति के नाम का खुलासा नहीं किया है.

    4 साल से थे परेशान

    अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक महिला का पति पिछले 4 सालों से लीवर सिरोसिस (Liver Cirrhosis) से ग्रस्त थे. उन्होंने अपनी बीमारी का कई जगहों पर इलाज करवाया, मगर उन्हें आराम नहीं मिला. आखिर में उन्हें डॉक्टरों ने लीवर ट्रांसप्लांट (Liver Transplant) करवाने की बात कही. ऐसे में मरीज की पत्नी ने अपना लीवर डोनेट करने का फैसला किया. जब डॉक्टरों ने महिला के लिवर का परीक्षण किया तो पति के लीवर से वह मैच कर गया.

    लीवर के कुछ हिस्से का दान

    अस्पताल के हेपाटो-पैनक्रिएटो-बिलीरी (Hepato-Pancreato-Biliary- HPB) और लीवर ट्रांसप्लांट सर्जरी की प्रमुख सहाकार डॉ. सोनल अस्थाना का कहना है, ‘ यदि लीवर का एक हिस्सा दान कर दिया जाता है, तो शेष बचे हिस्सों को वापस सामान्य आकार के होने में कुछ हफ्तों का समय लगता है. इस तरह का प्रत्यारोपण पूरी तरह सुरक्षित है.

    इन वजहों से होती है लीवर की बीमारी

    हेपाटो-पैनक्रिएटो-बिलीरी सर्जरी के तहत लीवर, अग्न्याश्य, पित्ताश्य और पित्त नलिकाओं का उपचार किया जाता है. डॉ. सोनल का कहना है कि फैटी लीवर से कई तरह की परेशानी होती है. शराब, नशीली दवाओं का सेवन के अतिरिक्त कुछ मेटबॉलिक डिसऑर्डर की वजह से लीवर की बीमारी होती है.

    Tags: Health and Pharma News, Liver transplant

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर