कोरोना के मामलों में चौथे नंबर की ओर बढ़ रहा भारत, प्रसार रोकने में ये उपाय होंगे कारगर

कोरोना के मामलों में चौथे नंबर की ओर बढ़ रहा भारत, प्रसार रोकने में ये उपाय होंगे कारगर
भारत में कोरोना मरीजों की संख्या 3 लाख के आंकड़े तक पहुंचने वाली है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

भारत जल्द ही दुनिया में कोरोना (Coronavirus) से चौथा सबसे ज्यादा संक्रमित देश बनने की कगार पर है. फिलहाल अमेरिका, ब्राजील, रूस और ब्रिटेन के बाद कोरोना महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में भारत पांचवे स्थान पर है. वहीं, भारत में मामले बढ़ने की रफ्तार दुनिया में तीसरे नंबर पर बनी हुई है.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के ताजा मामलों ने टेंशन बढ़ा दी है. बुधवार को कोरोना संक्रमण के 9985 केस आए हैं. इससे संक्रमितों की संख्या बढ़कर 2 लाख 76 हजार, 583 पहुंच गई है. इस तरह भारत दो दिन में ही कोरोना वायरस के केस के मामले में ब्रिटेन (Britain) को भी पीछे छोड़ कर चौथे नंबर पर पहुंच सकता है. अभी ब्रिटेन में 2.87 लाख केस हैं, जबकि भारत में 2.76 लाख केस हैं.

चौंकाने वाली बात यह है कि देश में कोरोना के करीब आधे मामले चार महानगरों- दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में मिले हैं. कोरोना से अब तक देशभर में 7 हजार 745 लोगों ने जान गंवाई है. कुल मृतक संख्या में से आधे लोग इन्हीं चार महानगरों के थे. विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के ताजा आंकड़ों के अनुसार, इन चार महानगरों के साथ अगर अहमदाबाद, इंदौर और पुणे को भी जोड़ लिया जाए, तो कुल संक्रमित मामलों के 60 प्रतिशत और कुल मृतक संख्या के 80 प्रतिशत मामले इन सात शहरों के हैं. इससे देश में कोरोना संकट की भयावहता को साफ समझा जा सकता है.

कोरोना महामारी को रोकने में सिर्फ लॉकडाउन, आइसोलेशन या सोशल डिस्टेंसिंग काफी नहीं है. इसे रोकने के लिए जरूरी है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों की टेस्टिंग हो और कोरोना लक्षणों वाले लोगों को सामान्य लोगों से अलग कर दिया जाए. जिन देशों में कोरोना के ज्यादा मामले आ रहे हैं, वो उसी अनुपात में टेस्टिंग की संख्या को बढ़ा रहे हैं. अमेरिका, ब्रिटेन जैसे देशों ने ऐसा ही किया है.



अमेरिका, ब्रिटेन, स्पेन जैसे देशों को अगर देखें, तो हम पाएंगे कि इन देशों में कोरोना के कुल कंफर्म मामलों और वास्तविक संख्या में काफी अंतर है. इसका मतलब यह हुआ कि इन देशों ने महामारी की शुरुआत में ही टेस्टिंग पर फोकस कर लिया था. जिससे नए मामलों का ग्राफ उतना तेजी से नहीं बढ़ा, जितना कि भारत में हो रहा है.
data1

देश में जून में रोज तकरीबन 8-10 हजार नए केस सामने आ रहे हैं. नए केस आने की दो वजह मानी जा रही हैं. पहली तो लॉकडाउन जैसे तमाम उपायों के बावजूद संक्रमण का नहीं थमना. दूसरी, भारत (India) ने कोविड-19 की जांच तेज कर दी है. रोज एक लाख से अधिक टेस्ट हो रहे हैं. देश में अब तक 50 लाख टेस्ट हो चुके हैं. भारत में अब तक 2.76 लाख लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. इनमें से 7750 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

भारत ने मंगलवार को कोविड-19 (Covid-19) का 50 लाखवां टेस्ट किया. इसके साथ ही वह ऐसा चौथा देश बन गया, जिसने 50 लाख से अधिक टेस्ट किए हैं. पहले तीन स्थान पर अमेरिका, रूस और ब्रिटेन हैं. अमेरिका ने 2.18 करोड़ और रूस ने 1.13 करोड़ टेस्ट किए हैं. ब्रिटेन ने 59 लाख टेस्ट किए हैं. अगर कुल टेस्ट के लिहाज से देखा जाए तो भारत, ब्रिटेन के करीब है, लेकिन अमेरिका और रूस से बहुत पीछे है.

भारत का टेस्टिंग रेट वर्तमान में 18.44% है, जो 25 मई को 25.95% की तुलना में गिरा है. 25 अप्रैल से 3 मई तक गिरने के बाद यह रेट तेजी से ऊपर की ओर बढ़ गया था. 7 जून तक टेस्टिंग रेट 6.90% से अधिक हो गया है.

data11

'ऑवर वर्ल्ड इन डेटा' के अनुसार, 15 अप्रैल तक बर्मा, पोलैंड, चेक गणराज्य, बुल्गारिया, ऑस्ट्रिया और पैराग्वे जैसे देशों के साथ भारत की प्रति कंफर्म केस टेस्टिंग रेंज 20-40 के बीच रही. 1 मई तक भारत इसी रेंज में रहा. इस रेंज में रूस, स्पेन, दक्षिण अफ्रीका, जर्मनी और इटली भी जुड़ गए. 21 मई को भारत की टेस्टिंग रेंज 20 से नीचे चली गई. एक जून तक भारत में 15.55 लाख टेस्ट कर लिए गए थे. अगर इसे इंडोनेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर और दक्षिण अफ्रीका के साथ जोड़ दिया जाए, तो औसत अनुपात और कम हो जाता है.

कोरोना मुक्त हो चुके एकमात्र देश न्यूजीलैंड ने भी टेस्टिंग के जरिए ही ये मुकाम हासिल किया था. न्यूजीलैंड में 17 दिन पहले कोरोना वायरस संक्रमण का आखिरी मामला सामने आया था. कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार, न्यूजीलैंड में कोरोना की आखिरी मरीज 50 साल की एक महिला थी. जिसका इलाज ऑकलैंड के एक नर्सिंग होम में हुआ. फरवरी के बाद से सोमवार को पहली बार ऐसा मौका आया जब सभी मरीज संक्रमण से ठीक हो चुके हैं. अब देश में कोई भी संक्रमित नहीं है. देश में अब तक 300,000 जांच हो चुकी है.

वहीं, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिका में हो रही कोरोना टेस्टिंग की तुलना भारत, चीन समेत दूसरे देशों से की है. ट्रंप ने कहा है कि भारत और चीन जैसे देश अगर ज्यादा संख्या में जांच करें तो उनके यहां कोरोना वायरस के मामले अमेरिका से ज्यादा होंगे. ट्रंप ने बताया, 'अमेरिका ने दो करोड़ जांच की हैं. अमेरिका की तुलना में जर्मनी ने 40 लाख और दक्षिण कोरिया ने करीब 30 लाख जांच की हैं.'

data111
worldometers के मुताबिक मंगलवार रात तक भारत टेस्ट रेटिंग की इस लिस्ट में 138वें नंबर पर था. उससे ठीक ऊपर श्रीलंका और नीचे जिम्बाब्वे है. पाकिस्तान 140वें नंबर पर है. प्रति लाख आबादी पर भारत ने 356 टेस्ट किए हैं. श्रीलंका ने 359, जिम्बाब्वे ने 356 और पाकिस्तान ने 331 टेस्ट किए हैं. बांग्लादेश 258 टेस्ट (प्रति लाख) के साथ 150वें नंबर पर है.

(अंग्रेजी में इस आर्टिकल को पूरा पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

ये भी पढ़ें:- 

Covid-19: भारत ने किए 50 लाख टेस्ट, पर रेटिंग में टॉप-130 में भी नहीं, नेपाल-श्रीलंका से पीछे

भारत में कोरोना वायरस की स्थिति गंभीर, दोबारा लग सकता है लॉकडाउन- स्टडी

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading