आपसी खींचतान में बंद पड़ा है बारां जिले का एक मात्र पनबिजली संयंत्र

बारां जिले का एक मात्र पनबिजली संयंत्र इस पीक सीजन में भी बंद पड़ा है. इसे चलाने में अधिकारियों की रुचि नहीं लेने की वजह से यह स्थिति आई है.

Vipin Tiwari | News18 Rajasthan
Updated: January 11, 2019, 7:24 PM IST
Vipin Tiwari | News18 Rajasthan
Updated: January 11, 2019, 7:24 PM IST
बारां जिले का एक मात्र पनबिजली  घर पीक सीजन मे भी बंद पड़ा है. मुख्य नहर पर मूंडला गांव के पास बना जिले का एक मात्र पन बिजलीघर अधिकारियों की लापरवाही के चलते बन्द है. नहरी पानी के बहाव पर आधारित यह प्लांट साल में मात्र 180 दिन ही बिजली का उत्पादन करता है और वर्तमान में नहरों में पानी का फ्लो अच्छा होने से इस समय को प्लांट का पीक सीजन कहा जा सकता है. मगर अधिकारियों की बेरुखी व आपसी खींचतान के चलते यह प्लांट बंद पड़ा हुआ है.

प्लांट के इंचार्ज व सहायक अभियंता रुकमकेश मीणा ने बताया कि कुछ तकनीकी खामी की वजह से गत 28 दिसंबर से प्लांट बंद पड़ा हुआ है. प्लांट की टर्बाइन की सीलें कटी हुई हैं उनमें लीकेज हो गया है और पानी के अन्दर सीलों की मरम्मत होनी है. इसके लिए 1 लाख 67 हजार के टेंडर जारी कर दिए गए हैं और जल्दी ही काम शुरू हो जाएगा. उन्होंने बताया कि 6 माह प्लांट बंद रहता है और उस समय प्रतिवर्ष प्लांट की मरम्मत की जाती है और इस साल भी अप्रैल- मई के महीने में तीनों टर्बाइन की सीलें बदली गई थीं मगर फिर भी खराबी आ गई.

गौरतलब है कि उक्त प्लांट में दो 2 मेगावाट की 3 टर्बाइन है और इस प्लांट के द्वारा 6 मेगावाट बिजली का उत्पादन किया जाता है. कर्मचारियों में यहां पर 1 अधिशासी अभियंता, 2 सहायक अभियंता व 4 कनिष्ठ अभियंता इसके अलावा 13 तकनीकी सहायक हैं इस प्रकार कुल 20 स्थाई कर्मचारी कार्यरत हैं और 12 व्यक्ति ठेके पर कार्यरत हैं वर्तमान में कार्मिकों का ठेका अभिषेक इंजीनियरिंग कोटा को 2 साल के लिए दिया हुआ है.



ये भी देखें-

बंद होने के कगार पर वाल्मीकिनगर पनबिजली परियोजना, तीन में से दो यूनिट फेल

करोड़ों की लागत से बनी पनबिजली योजना का हाल बेहाल 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...