केवल इन 5 राज्यों में कोविड-19 के 60% सक्रिय मामले और इन्हीं से आए 52% नए मामले

नए मामलों में महाराष्ट्र के 20,000 से ज्यादा (22.16 प्रतिशत) मरीज हैं (सांकेतिक फोटो)
नए मामलों में महाराष्ट्र के 20,000 से ज्यादा (22.16 प्रतिशत) मरीज हैं (सांकेतिक फोटो)

मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा 23,000 मरीज महाराष्ट्र (Maharashtra) में ठीक हुए हैं, जबकि कर्नाटक (Karnataka) और आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) में 10-10 हजार मरीज संक्रमण से उबरे हैं.

  • भाषा
  • Last Updated: September 20, 2020, 6:23 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में बीते 24 घंटे में 94,612 लोग कोरोना वायरस के संक्रमण (Coronavirus Infection) से ठीक हुए हैं. संक्रमण से उबरने वाले मरीजों (patients) की संख्या 43,03,043 हो गई है और ठीक होने की दर (Recovery rate) 79.68 फीसदी पहुंच गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने रविवार को बताया कि संक्रमण से ठीक हुए नए मरीजों में से 60 फीसदी पांच राज्यों – महाराष्ट्र (Maharashtra), कर्नाटक (Karnataka), आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh), उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) और तमिलनाडु (Tamil Nadu) से हैं. वहीं 52 प्रतिशत नए मामले में भी इन्हीं पांच राज्यों से हैं.

मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा 23,000 मरीज महाराष्ट्र (Maharashtra) में ठीक हुए हैं, जबकि कर्नाटक (Karnataka) और आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) में 10-10 हजार मरीज संक्रमण से उबरे हैं. उसने बताया कि लगातार दूसरे दिन 94,000 से ज्यादा मरीज (Patients) ठीक हुए हैं. बीते 24 घंटे में 92,605 मामले सामने आए हैं. इसके बाद पुष्ट मामलों (Confirm Cases) की संख्या 54,00,619 हो गए हैं.

नए मामलों में महाराष्ट्र के 22.16% मरीज हैं
नए मामलों में महाराष्ट्र के 20,000 से ज्यादा (22.16 प्रतिशत) मरीज हैं. आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में आठ-आठ से ज्यादा मामले रिपोर्ट हुए हैं. मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के कारण 1,113 लोगों की मौत हुई है. इसके बाद मृतक संख्या 86,752 पहुंच गई है.
कांग्रेस ने कोविड-19 को लेकर सरकार पर साधा निशाना- महामारी के लिये तैयारी नहीं थी


कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर कोरोना वायरस संकट से निपटने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए रविवार को कहा कि इस महामारी को लेकर सरकार के स्तर पर कोई तैयारी नहीं थी और सिर्फ ‘कुप्रबंधन’ देखने को मिला.

यह भी पढ़ें: Tata ने बनाई कोरोना टेस्‍ट किट, कम समय में देगी सटीक नतीजे, खर्चा भी होगा कम

लोकसभा में नियम 193 के तहत कोविड-19 वैश्विक महामारी पर चर्चा की शुरुआत करते हुए कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने यह भी कहा कि सरकार को कोरोना वायरस की जांच और इससे निपटने के उपायों को लेकर अधिक पारदर्शिता का परिचय देना चाहिए. उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘इस बीमारी के कारण सरकार के लिए एक अच्छी बात हो गई कि उसे मुंह छिपाने का बहाना मिल गया.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज