लाइव टीवी

क्या 2001 संसद हमले में भी था दविंदर सिंह का हाथ? जम्मू-कश्मीर पुलिस कर सकती है जांच

News18Hindi
Updated: January 16, 2020, 12:09 PM IST
क्या 2001 संसद हमले में भी था दविंदर सिंह का हाथ? जम्मू-कश्मीर पुलिस कर सकती है जांच
जम्मू-कश्मीर पुलिस ने डीएसपी दविंदर सिंह को दक्षिणी कश्मीर के कुलगाम जिले के मीर बाजार में हिजबुल मुजाहिदीन के 2 आतंकवादियों के साथ गिरफ्तार किया था.

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने दविंदर सिंह (Davinder Singh) को बहादुरी के लिए दिया गया शेर-ए-कश्मीर पुलिस पदक बुधवार को वापस ले लिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 16, 2020, 12:09 PM IST
  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर में शनिवार को हिजबुल मुजाहिदीन (Hizbul Mujahideen) के आतंकियों के साथ पकड़े गए पुलिस ऑफिसर को लेकर लगातार नए खुलासे हो रहे हैं. अब कहा जा रहा है कि साल 2001 में हुए संसद हमले (Parliament attack) में डीएसपी दविंदर सिंह (Davinder Singh) की भूमिका की भी जांच होगी. दरअसल संसद हमले के दोषी आतंकी अफजल गुरू ने खुद कोर्ट में दविंदर सिंह का नाम लिया था. बता दें कि अफजल गुरू को 9 फरवरी 2013 को फांसी दे दी गई थी.

होगी जांच
जम्मू-कश्मीर पुलिस ने इस केस को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को सौंप दिया है. DGP दिलबाग सिंह ने कहा है कि अगर जांच के दौरान संसद हमले का ज़िक्र होता तो जरूर इसकी जांच भी होगी. फिलहाल दविंद को सस्पेंड कर दिया गया है और उससे लगातार पूछताछ की जा रही है. इस बीच जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने दविंदर सिंह को बहादुरी के लिए दिया गया शेर-ए-कश्मीर पुलिस पदक बुधवार को वापस ले लिया. सरकारी आदेश के अनुसार, निलंबित अधिकारी का कदम विश्वासघात की तरह है और उससे बल की छवि खराब हुई है. दविंदर सिंह को 2018 में पुलिस पदक दिया गया था.

अफजल गुरू से कनेक्शन

 ये बात 2004 की है. अफजल गुरू उन दिनों दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद था. उस वक्त अपने वकील सुशील कुमार को अफजल ने चिट्ठी लिखी थी. इसमें डीएसपी दविंदर सिंह का भी जिक्र था. उन दिनों दविंदर जम्मू कश्मीर पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) में था. अफजल गुरू के मुताबिक संसद हमले से पहले दविंदर ने उन्हें मोहम्मद नाम के शख्स को दिल्ली में किराए पर घर और कार खरीद कर देने को कहा था. बता दें कि मोहम्मद भी संसद पर हमले में शामिल था.

आतंकियों को पनाह देने के लिए खास अड्डा
सूत्रों के अनुसार जांच के दौरान ये भी सामने आया है कि निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह ने आतंकियों को पनाह देने के लिए खास अड्डा भी बना रखा था. नवीद बाबू की मदद के लिए डीएसपी को 8 लाख रुपये भी मिले थे. साल 2017 में उसके कनेक्शन एक विदेशी एजेंसी से भी जुड़े थे.ये भी पढ़ें:-

CDS बिपिन रावत का बड़ा बयान- हमें भी अमेरिका की तरह आतंकवाद को करना होगा खत्म

शेयर बाजार में आई रौनक, पहली बार Sensex 42000 के पार, निफ्टी में भी तेज़ी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 16, 2020, 11:56 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर