ऑपरेशन समुद्र सेतु : ईरान में फंसे भारतीयों को लाने पहुंचा INS शार्दुल

ऑपरेशन समुद्र सेतु : ईरान में फंसे भारतीयों को लाने पहुंचा INS शार्दुल
ईरान में फंसे भारतीयों को लाने पहुंचा INS शार्दुल

भारतीय नौसेना (Indian Navy) ने कहा कि ऑपरेशन समुद्र सेतु (Operation Samudra Setu) के लिए विशेष तरह के इंतजाम किए गए हैं. जहाज पर मौजूद कर्मचारियों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए कहा गया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. ऑपरेशन समुद्र सेतु (Operation Samudra Setu) के तहत ईरान (Iran) में फंसे भारतीयों (Indian) को वापस देश में लाने के लिए नौसेना का जहाज आईएनएस शार्दुल (INS Shardul) सोमवार की सुबह उसके बंदरगाह अब्बास पहुंचा. ईरान में फंसे भारतीयों को लेकर नौसेना का जहाज जल्द ही गुजरात के पोरबंदर के लिए रवाना होगा. नौसेना ने बताया कि ईरान में भारतीय दूतावास उन नागरिकों की सूची तैयार कर रहा है, जिन्हें भारत वापस आना है. बता दें कि ईरान से वापस आ रहे लोगों को कई तरह के नियमों का पालन करना होगा. इसके तहत उनकी स्क्रीनिंग की जाएगी और जो पूरी तरह से स्वस्थ होगा उसे ही भारत आने की इजाजत दी जाएगी.

नौसेना ने कहा कि ऑपरेशन समुद्र सेतु के लिए विशेष तरह के इंतजाम किए गए हैं. जहाज पर मौजूद कर्मचारियों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए कहा गया है. इसके साथ ही आईएनएस शार्दुल में अतिरिक्त मेडिकल स्टाफ, डॉक्टर्स, राशन, फेस मास्क, पीपीई किट आदि की व्यवस्था की गई है. इसके साथ ही कोरोना से बचने के लिए नौसेना ने कुछ नए सामान भी विकसित किए हैं जो इस बार नौसेना के कर्मचारियों को दिए गए हैं.


भारत लौटने के बाद जहाज में मौजूद लोगों को उनके गृह राज्य भेजा जाएगा. बता दें कि इससे पहले भारतीय नौसेना का जहाज मालदीव और श्रीलंका के पोर्ट से कोच्चि और तूतीकोरिन के बीच 2874 लोगों को वापस लेकर आ चुका है.



इसे भी पढ़ें :- जल्द भारत लौटेंगे पाक में फंसे भारतीय नागरिक, वाघा-अटारी बार्डर से होगी वतन वापसी

वंदे भारत मिशन के तहत 1.07 लाख से ज्यादा भारतीय स्वदेश पहुंचे
विदेश मंत्रालय ने बताया कि सरकार द्वारा 7 मई को वंदे भारत मिशन शुरू किए जाने के बाद से विदेशों में फंसे 1.07 लाख से ज्यादा भारतीय नागरिकों को स्वदेश लाया गया है. मंत्रालय ने कहा कि 13 जून को दूसरा चरण पूरा होने के बाद सरकार तीसरे चरण के लिए तैयारी कर रही है. इस चरण में 31 देशों से 337 अंतरराष्ट्रीय उड़ानों से करीब 38,000 लोगों को लाए जाने की संभावना है. मिशन के पहले चरण में सात मई से 15 मई तक सरकार 12 देशों से करीब 15,000 लोगों को लेकर आयी. भारतीय नागरिकों को लाने के लिए दूसरा चरण 17 से 22 मई तक था. हालांकि सरकार ने इसकी अवधि 13 जून तक बढ़ा दी.

इसे भी पढ़ें :-

अपने सूरज का चक्कर 378 दिनों में लगा रहा है ये ग्रह, क्या नई पृथ्वी मिल गई?
लॉकडाउन खुलते ही सैफ-करीना ने आखिर ऐसा क्या किया? सोशल मीडिया पर सवाल उठे सवाल
चेतावनी! 4 करोड़ लोगों के फोन में है 2020 का सबसे खतरनाक ऐप, फौरन करें डिलीट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज