OPINION: गृहमंत्री अमित शाह ने दिया सुरक्षाबलों को नए साल का तोहफा

100 दिन की छुट्टी सहित अन्‍य कई कल्‍याणकारी योजनाओं की घोषणा कर गृहमंत्री अमित शाह ने जवानों को नए साल का तोहफा दिया है.
100 दिन की छुट्टी सहित अन्‍य कई कल्‍याणकारी योजनाओं की घोषणा कर गृहमंत्री अमित शाह ने जवानों को नए साल का तोहफा दिया है.

गृहमंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) ने सुरक्षाबलों (Security Forces) से वादा किया है कि उनको लेकर लंबित सभी योजनाओं (scheme) को सितंबर (September) 2020 तक पूरा कर लिया जाएगा.

  • News18India
  • Last Updated: December 31, 2019, 5:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली (New Delhi) : नए साल (New Year) पर तोहफा (Gift) पाने वालों की फेहरिस्‍त (List) में इस बार अर्धसैनिक बलों (Paramilitary Forces) के जवानों का भी नाम शामिल है. अर्धसैनिक बलों के जवानों को मिलने वाले इस तोहफे की घोषणा खुद देश के गृहमंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) ने केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (Central Reserve Police Force) यानी सीआरपीएफ (CRPF)  के मंच से की है. गृहमंत्री अमित शाह के इस तोहफे के बाद अब अर्ध सैनिक बलों के जवान अपनी होली (Holi), दीवाली (Diwali), ईद (Eid), क्रिसमस (Christmas) जैसे त्‍यौहार (Festival) संगीनों (Gun) के साथ नहीं, बल्कि अपने अपनों के साथ बिता सकेंगे. अब जवानों को इस बात का मलाल नहीं रहेगा कि वह अपने खास त्‍यौहारों के मौकों पर अपनों से दूर संगीनों के साथ ड्यूटी पोस्‍ट (Duty Post) पर तैनात थे.

दरअसल, अर्धसैनिक बलों के कल्‍याण को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह समय-समय पर अपनी प्रतिबद्धता जाहिर करते रहे हैं. सरकार की हमेशा से कोशिश रही है कि देश की सरहद, जम्‍मू और कश्‍मीर में आतंकी, नक्‍सल प्रभावित इलाकों सहित देश के अशांत क्षेत्रों में अपनी जान की बाजी लगाकर आम नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने वाले जवानों के लिए कुछ बेहतर किया जाए. इस सब के बीच, जवानों की तरफ देखें तो उन्‍हें इस बात का दशकों से मलाल रहा है कि उन्‍हें नागरिक सेवा के दूसरे सरकारी कर्मचारियों की तरह बहुत सी सुविधाए नहीं दी जाती थी, जिसमें छुट्टियों की तंगी भी शामिल थी.

हर साल मिलेगी 100 दिन की छुट्टी
जवानों के इस मलाल को गृहमंत्री अमित शाह ने न केवल समझा, बल्कि इसके निवारण के लिए कई महत्‍वपूर्ण कमद उठाए. गृहमंत्री अमित शाह की इन्‍हीं कोशिशों का नतीजा 29 दिसंबर को सीआरपीएफ के मंच पर नजर आ गया. जहां से गृहमंत्री ने घोषणा की कि अर्धसैनिक बलों में तैनात हर जवान साल के 365 दिनों में कम से कम 100 दिन अपने परिवार के साथ गुजारे. दशकों से छुट्टियों के लिए तरसने वाले जवानों के लिए यह घोषणा नए साल की सौगात की तरह है. गृहमंत्री ने अपनी इस घोषणा के साथ यह भी ऐलान किया कि जवानों को लेकर लंबित सभी योजनाओं को अगस्‍त-सितंबर 2020 तक अंतिम रूप दे दिया जाएगा.
महानिदेशकों से मांगे गए सुझाव


गृहमंत्री अमित शाह ने जवानों की 100 दिन की छुट्टी को सुनिश्चित करने की तरफ बढ़ाए जा रहे कदमों का उल्‍लेख करते हुए बताया कि जवानों की छुट्टियों को सुनिश्चित करने के बाबत एक कमेटी इस पर काम कर रही है. इस योजना को शीघ्र कार्यान्वित करने के लिए सैन्‍य बलों के महानिदेशकों से सुझाव मांगे जा रहे हैं. गृहमंत्री अमित शाह के पिटारे से जवानों के लिए निकलने वाले तोहफे यहीं खत्‍म नहीं हुए. उन्‍होंने कहा कि हमें पता है ड्यूटी पोस्‍ट पर तैनात जवान को हर समय अपने परिजनों की चिंता सताती रहती है. लिहाजा, उन्‍होंने मोदी सरकार के मंत्र का उल्‍लेख करते हुए कहा कि जवान सरहदों की सुरक्षा का ध्‍यान रखें, उनके परिवार के कल्‍याण का ध्‍यान रखना सरकार की जिम्‍मेदारी है.

सिर्फ छुट्टियां ही नहीं और भी कल्‍याणकारी योजनाओं का लाभ
इसी बात को आगे बढ़ाते हुए अमित शाह ने कहा कि गृह मंत्रालय जितना अपने जवानों के लिए फिक्रमंद है, उससे कहीं अधिक उनका मंत्रालय जवानों के परिजनों के कल्‍याण और देखभाल के लिए चिंतित है. इसीलिए, गृह मंत्रालय जवानों के परिजनों को स्‍वास्‍थ्‍य जांच और अन्‍य सुविधाएं प्रदान करने के लिए इलेक्‍ट्रॉनिक स्‍वास्‍थ्‍य कार्ड उपलब्‍ध कराने हेतु एम्‍स के साथ बातचीत कर रहा है. उन्‍होंने कहा कि यात्रा एवं परिवहन के लिए एयर कैरियर सुविधाओं का विस्‍तार, त्‍वरित पदोन्‍नति के लिए 35 हजार से अधिक रिक्तियों का सृजन, नए पुरस्‍कारों का गठन और सीआरपीएफ के महानिदेशक को अधिक प्रशासनिक और वित्‍तीय अधिकारों की घोषणा इस दिशा में महत्‍वपूर्ण कदम उठाए जा रहे हैं.

यह भी पढ़ें:
सरकार ने बनाया सैन्य मामलों का नया विभाग, CDS होंगे इसके प्रमुख
OPINION: पीएम नरेंद्र मोदी के फैसलों के नाम रहा 2019
OPINION: कहां जाकर खत्म होगा नागरिकता विवाद
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज