होम /न्यूज /राष्ट्र /Opinion: पीएम मोदी की सशक्त आर्थिक नीतियो के चलते भारत की अर्थव्यवस्था मजबूती पर

Opinion: पीएम मोदी की सशक्त आर्थिक नीतियो के चलते भारत की अर्थव्यवस्था मजबूती पर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. File Photo

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. File Photo

मोदी सरकार ने 25 सिंतबर,2014 को निवेश को बढ़ाने, इनोवेशन को बढ़ावा देने, भारत में सर्वश्रेष्ठ इंफ्रास्ट्रचर का निर्माण ...अधिक पढ़ें

हाल ही में वर्ल्ड बैंक ने भारत की मजबूत आर्थिक स्थिति को देखते हुए अपने साल 2022-23 के सकल घरेलू उत्पाद के पूर्वानुमान में बदलाव कर इसे 6.5 फीसदी से बढाकर 6.9 फीसदी कर कर दिया। इस समाचार से फिर से बात की पुष्टि कर दी कि मोदी सरकार के नेतृत्व में भारत की अर्थव्यवस्था निरंतर मजबूती की ओर बढ़ रही है।

पीएम मोदी ने भारत की अर्थव्यवस्था को दी मजबूती और नई दिशा
वर्ष 2014 में कार्यभार संभालने के बाद से ही पीएम मोदी ने भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूती देने और इसे सभी कई दिशा देने की दृष्टि से कई अहम कदम उठाए। अगर हम आकंडो पर नजर डाले तो वर्ष 2014-15 में भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश(FDI) जहां 45.15 बिलियन डॉलर था वहीं वर्ष 2021-22 में अब तक का सबसे ज्यादा 84.84 बिलियन डॉलर(7 दिसंबर तक जारी आंकडे) मिला है।

मेक इन इंडिया ने दी ब्रांड भारत को मजबूती
मोदी सरकार ने 25 सिंतबर,2014 को निवेश को बढ़ाने, इनोवेशन को बढ़ावा देने, भारत में सर्वश्रेष्ठ इंफ्रास्ट्रचर का निर्माण करने और भारत को मैन्युफैक्चरिंग,डिजाइन और इनोवेशन का क्रेंद बनाने के महत्वाकांक्षी लक्ष्य के तहत मेक इन इंडिया योजना का शुभारंभ किया था। मेक इन इंडिया के तहत अहम उपलब्धि दर्ज की गई हैं और फिलहाल मेन इन इंडिया 2.0 के तहत 27 सेक्टर पर फोकस किया जा रहा है।

मोदी सरकार ने कोरोना काल में आपदा को अवसर में बदला
बीते दो साल में कोविड जैसी महामारी के चलते संपूर्ण विश्व की अर्थव्यवस्था तेजी से प्रभावित हुई और पूरी दुनिया इस समस्या के समाधान की तलाश तेजी से कर रही थी। मोदी सरकार ने कोविड महामारी के दौरान भारत की आर्थिक स्थिति को बेहतर करने और कोविड महामारी को एक अवसर में बदलने के तहत कई अहम कार्यक्रमो का शुभारंभ किया। मोदी सरकार ने आत्मनिर्भर पैकेज, प्रोडक्शन लिंक्ड इनसेंटिव(PLI),नेशनल इंफ्रास्ट्रचर पाइपलाइन(NIP) और नेशनल मोनेटाईजेशन पाइपलाइन(NMP) जैसी विभिन्न योजनाओं के तहत निवेश के अवसरों ने भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूती दी। भारत को आत्मनिर्भर बनाने और देश की मैन्युफैक्चरिंग और एक्सपोर्ट क्षमता को बढाने के लिए मोदी सरकार ने 2021-22 के बजट में 14 प्रमुख सेक्टर में PLI योजना के लिए 1.97 लाख करोड़ का ऐलान किया।

भारत ने आटोमोबाइल,कृषि और प्रोसेस फूड एक्सपोर्ट में बड़ी छलांग लगाई
भारत ने आटोमोबाइल क्षेत्र में वर्ष 2020-21 के मुकाबले वर्ष 2021-22 में लगभग 35.9 फीसदी की बड़ी बढोत्तरी दर्ज की। इसमें कारो सहित पैसेंजर व्हीकल में 42.9 फीसदी की बढोत्तरी दर्ज की गई। इसी के साथ कृषि और प्रोसेस फूड के एक्सपोर्ट में भी 25 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई।

जापान और जर्मनी को पीछे छोड जल्द दुनिया की तीसरी बड़ी इकोनमी बनेगा भारत
जानी-मानी अंतराष्ट्रीय संस्थाओं S&P Global और मॉर्गन स्टेन्ली ने भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे में कहा कि भारत जल्द ही जापान और जर्मनी को पीछे छोड़कर दुनिया की तीसरी बड़ी इकोनमी बन जाएगा
मॉर्गन स्टेन्ली ने अपनी रिपोर्ट में अनुमान लगाया कि वर्ष 2031 तक भारत की जीडीपी में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की भागीदारी वर्तमान में 15.6 फीसदी से बढ़कर 21 फीसदी होने की आशा है। मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र का रेवेन्यू वर्तमान में 447 बिलियन डॉलर से तीन गुना बढ़कर 1,490 बिलियर डॉलर तक पहुंच जाएगा
मल्टीनेशनल कंपनियां भारत में निवेश करने को लेकर बेहद आशावान हैं और मोदी सरकार ने इंफ्रास्ट्रचर बढ़ाकर और फैक्ट्ररियो को जमीन देकर निवेश को भरपूर प्रोत्साहन दिया है।

पीएम मोदी ने अपने कार्यकाल के प्रारंभ से ही भारत की अर्थव्यवस्था को निरंतर बढाने और इस संबंध में हर संभव परिस्थितियों को तैयार करने को सर्वोच्च प्राथमिकता दी है और भारतीय अर्थव्यवस्था की वर्तमान स्थिति इसका जीवंत उदाहरण है।

(डिस्‍क्‍लेमर- ये लेखक के निजी विचार हैं.)

Tags: Indian economy, Narendra modi, PM Modi

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें