अपना शहर चुनें

States

Opinion: नए कृषि कानून से किसानों को बाजार में मिलेगी अधिक पहुंच, बढ़ेगा कृषि निर्यात

किसानों की बाजार में बढ़ेगी पहुंच. (Pic- AP)
किसानों की बाजार में बढ़ेगी पहुंच. (Pic- AP)

Farm Laws: ये नए कृषि कानून किसानों के लिए आधुनिक आपूर्ति श्रृंखला, फार्म गेट खरीदार तक पहुंच और तकनीकी पहुंच को समान रूप से साथ लाएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 14, 2020, 2:33 PM IST
  • Share this:
आशीष चंदोरकर


नई दिल्‍ली. संकीर्ण उद्देश्यों को पूरा करने के लिए प्रशासित मूल्य तंत्र (Administered price mechanisms) का उपयोग लक्षित तरह से किया जा सकता है, लेकिन वे लंबी अवधि के लिए अच्छी तरह से काम नहीं करते. भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) सीख को सटीक तरह से लेती है. हालांकि कई क्षेत्रों में इसे प्रमाणित करने वाले सबूत मौजूद हैं.

पेट्रोलियम उत्पादों की प्रशासित कीमतों ने भारत को ऑयल बॉन्‍ड जुटाने के लिए प्रेरित किया और खुदरा कीमतों को वैश्विक थोक कीमतों से जोड़ने में राजनीतिक तेजी और नीतिगत साहस को वर्षों लग गए. छोटी बचत योजनाओं पर प्रशासित दरें अब केवल यथार्थवादी होने लगी हैं, लेकिन वे अभी भी ब्याज दर हस्‍तांतरण में बाधक हैं, जिससे भारत की बैंकिंग प्रणाली के लिए निरंतर तनाव बढ़ रहा है. सफल सरकारों ने अधिक परिभाषित-योगदान उत्पादों को पेश करके भविष्य निधि पर प्रशासित दरों से दूर जाने की कोशिश की है.
इसलिए अगर प्रशासित कीमतें इतने सारे क्षेत्रों में काम नहीं करती हैं, तो भारतीय कृषि को अलग क्यों होना चाहिए? अल्बर्ट आइंस्टीन ने कहा था कि बार-बार एक ही काम करना, लेकिन विभिन्न परिणामों की अपेक्षा करना पागलपन था. हालांकि, भारतीय सोच यह है कि यह नीति निर्माण है.



न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) हरित क्रांति काल के बाद की विरासत है. जैसे-जैसे भारतीय कृषि की उत्पादकता और उत्पादन में तेजी से वृद्धि हुई और तबकी सरकार ने खाद्य सुरक्षा चिंताओं को दूर करने की कोशिश की, एमएसपी पेश किया गया. यह विचार था कि सरकार एमएसपी के तहत खुले बाजार में बेची जाने वाली सभी कृषि उपज की खरीद करेगी. वास्तव में, यह खुले बाजार के लिए एक संकेतक तंत्र होने जैसा था, यह सुनिश्चित करने के लिए कि आखिर में मौजूद खरीदार को विक्रेताओं-किसानों की ओर से कदम बढ़ाने की आवश्यकता नहीं है.

हालांकि इसने कुछ समय के लिए काम किया, जब केंद्र सरकार वास्तव में सबसे बड़ी खरीदार थी. अब 50 साल बाद चीजें अलग हैं. आज केंद्र सरकार 23 फसलों (7 अनाज, 5 दालों, 8 तिलहन, कच्चे कपास, कच्चे जूट और गन्ने के उचित और पारिश्रमिक मूल्य) के लिए एमएसपी निर्धारित करती है. हालांकि केंद्र सरकार इन सभी फसलों की सभी मात्रा नहीं खरीदती है. राज्य उपज खरीदे जाने पर एमएसपी मानने के लिए किसी कानूनी बाध्यता के अधीन नहीं हैं.

आखिरकार, जिन किसानों के पास बड़ी जमीन का लाभ होता है, बाजार की आवश्‍यकता से अधिक उत्पादन करते हैं, वे सरकार को बेचने की दौड़ में आगे निकल जाते हैं. जिन किसानों को वास्तव में एमएसपी संरक्षण की आवश्यकता है, उन्हें हमेशा सरकारी खरीद की सुविधा नहीं मिलती है. सरकार जो खरीदती है, वह आम तौर पर गुणवत्ता वाले अधिशेष को निर्धारित कीमतों के रूप में खरीदती है, कभी-कभी केवल भारतीय खाद्य निगम के गोदामों में सड़ने के लिए.

इसलिए, सरकार आखिरकार स्पष्ट समाधान के साथ सामने आई. किसानों को बाजार में अधिक पहुंच प्रदान करने के लिए. किसानों को एक साथ आने और निजी खरीदारों को खोजने के साथ ही बेहतर गुणवत्तावरक उत्पादन करने के लिए अपनी उत्पादन श्रृंखला को मजबूत करना चाहिए. वास्तव में तीन कृषि अधिनियम, जो अध्यादेशों के रूप में और बाद में कानून के रूप में जून के बाद से लागू हुए हैं, पहले ही प्रभाव डाल चुके हैं.

सामाजिक किसान और ई-कॉमर्स का लाभ उठाते हुए सह्याद्री फार्मर्स फार्मर प्रोड्यूसर ऑर्गनाइजेशन (एफपीओ) के सदस्‍य नासिक के किसान इस साल सीधे तौर पर शहरवासियों को उपज बेच रहे हैं. मध्य प्रदेश के होशंगाबाद के पास पिपरिया में एक छोटे किसान ने एक बड़ी निजी फर्म के खिलाफ नए कृषि कानूनों का उपयोग करके अपने धान के लिए अनुबंधित मूल्य प्राप्त करने के लिए सफलतापूर्वक काम किया. महाराष्ट्र के एक अन्य छोटे किसान ने अंतरराज्यीय व्यापार विवाद में नए कानूनों का प्रयोग किया और मध्य प्रदेश के बड़वानी के एक व्यापारी से उपज का उचित मूल्य प्राप्त किया. फेडरेशन ऑफ आंध्र प्रदेश और तेलंगाना फार्मर्स फॉर मार्केट एक्सेस ने नए कृषि कानूनों के समर्थन में एक बयान जारी किया.

ये नए कृषि कानून किसानों के लिए आधुनिक आपूर्ति श्रृंखला, फार्म गेट खरीदार तक पहुंच और तकनीकी पहुंच को समान रूप से साथ लाएंगे. निंजाकार्ट और वेकूल जैसी फर्म पहले से ही किसानों के लिए कॉन्‍ट्रैक्‍ट फार्मिंग के तहत निजी खरीदारों तक पहुंच बना रही है. कृषि क्षेत्र में तकनीकी में सक्षम लोग उन किसानों के लिए प्रौद्योगिकी के इस्‍तेमाल को तैयार कर रहे हैं, जो इसे अपनाने के इच्‍छुक हैं.

यह सब भारतीय कृषि के लिए आवश्यक है. खाद्य सुरक्षा एक मुद्दा है, लेकिन भारत ने खाद्य आत्मनिर्भरता के मामले में तेजी से प्रगति की है. अधिक बाजार पहुंच का वास्तविक लाभ निर्यात से आएगा. भारत ने 2022 तक कृषि निर्यात में 60 अरब डॉलर का लक्ष्य रखा गया है. पिछले दो वित्तीय वर्षों में कृषि निर्यात 40 अरब डॉलर से कम रहा है.

यह वह जगह हैं, जहां नए कृषि कानून मदद करेंगे. किसान जो किसान एमएसपी प्रणाली को जारी रखना चाहते हैं और विरोध प्रदर्शनों में इसके विस्तार की मांग कर रहे हैं, वे अंततः देश भर के अधिक उद्यमी भाइयों को खो सकते हैं. (ये लेखक के निजी विचार हैं. लेखक थिंकटैंक स्‍माही फाउंडेशन के डायरेक्‍टर हैं.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज