लाइव टीवी

विपक्ष का रोजगार, GDP में गिरावट का आरोप, BJP ने कहा- अरबपति राज से जनता राज लाए

भाषा
Updated: February 6, 2020, 10:21 PM IST
विपक्ष का रोजगार, GDP में गिरावट का आरोप, BJP ने कहा- अरबपति राज से जनता राज लाए
भाजपा के जयंत सिन्हा ने कहा कि पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए नयी सोच के साथ काम करना होगा.

लोकसभा (Lok Sabha) में 'वर्ष 2020-2021 के केंद्रीय बजट पर सामान्य चर्चा' की शुरुआत करते हुए कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी (Congress MP Manish Tiwari) ने यह भी कहा कि सामाजिक तनाव और आर्थिक विकास एकसाथ नहीं चल सकते.

  • Share this:
नई दिल्ली. कांग्रेस सहित विपक्षी दलों ने गुरुवार को सरकार पर आर्थिक मंदी की आड़ में कुछ पूंजीपतियों के हितों का फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया और कहा कि वर्तमान में आकांक्षी भारत में घृणा फैलाई जा रही है, रोजगार खत्म हो रहे हैं, जीडीपी नीचे गिर रही है और कृषि क्षेत्र में गिरावाट आ रही है. विपक्ष ने कहा कि सामाजिक तनाव और आर्थिक विकास एकसाथ नहीं चल सकते.

वहीं, भाजपा ने विपक्ष पर पलटवार करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने अर्थव्यवस्था को 'अरबपति राज' एवं 'सांठगांठ वाले पूंजीवाद' से बाहर निकालकर 'जनता के राज' में लाने का काम किया है और हरित एवं स्वच्छ अर्थव्यवस्था के जरिये देश को दुनिया की मजबूत अर्थव्यवस्था बनाने में सफल होंगे.

तनाव और आर्थिक विकास एक साथ नहीं चल सकते: मनीष तिवारी
लोकसभा में 'वर्ष 2020-2021 के केंद्रीय बजट पर सामान्य चर्चा' की शुरुआत करते हुए कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने यह भी कहा कि सामाजिक तनाव और आर्थिक विकास एकसाथ नहीं चल सकते. उन्होंने कहा कि सरकार संशोधित नागरिकता कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिकता पंजी (एनआरसी) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) लाकर अर्थव्यवस्था को गति प्रदान नहीं कर सकती.

मनीष तिवारी ने कहा कि सामाजिक तनाव और आर्थिक विकास एकसाथ नहीं चल सकते.


अर्थव्‍यवस्‍था को कोरोना वायरस हुआ: तिवारी
तिवारी ने कहा कि समस्या मांग से जुड़ी है, लेकिन सरकार आपूर्ति के माध्यम से समाधान कर रही है. उन्होंने दावा किया कि अर्थव्यवस्था को कोरोना वायरस हुआ है और सरकार उसे जुकाम की दवा दे रही है. चर्चा में हिस्सा लेते हुए भाजपा के जयंत सिन्हा ने कहा, 'पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए नयी सोच के साथ काम करना होगा और सरकार इसी दिशा में काम कर रही है.'बीजेपी नेता जयंत सिन्‍हा ने कही ये बात
सिन्हा ने कहा कि जीएसटी संग्रह में बढ़ोतरी इस बात का प्रमाण है कि अर्थव्यवस्था सही दिशा में बढ़ रही है. भाजपा सांसद ने कहा, 'मोदी सरकार अर्थव्यवस्था को 'अरबपति राज' एवं 'सांठगांठ वाले पूंजीवाद' से बाहर निकालकर 'जनता के राज' में लाई है.' उन्होंने कहा कि कांग्रेस की पीछे की ओर देखने की प्रवृत्ति हो गई है और हम आगे की ओर देखते हैं और उस दिशा में काम करते हैं.

अब हमारा लक्षय 10 ट्रिलियन डॉलर का होना चाहिए: जयंत सिन्‍हा
उन्होंने कहा कि पांच हजार अरब डालर की अर्थव्यवस्था तो हो ही जायेगी और अब हमारा लक्ष्य 10 हजार अरब डालर की अर्थव्यवस्था बनाने का होना चाहिए. वहीं, कांग्रेस के मनीष तिवारी ने कहा कि पिछले 45 वर्षों में बेरोजगारी उच्चतम स्तर पर है, निवेश टूट गया और विकास दर पांच फीसदी के नीचे जा चुकी है.

जयंत सिन्‍हा ने कहा कि 10 ट्रिलियन का लक्षय रखना चाहिए.


सरकार के आंकड़ों पर प्रश्नचिन्ह लग रहे: मनीष तिवारी
उन्होंने यह भी कहा कि पूरी दुनिया में वैश्वीकरण का विरोध हो रहा है और ऐसे में नए आर्थिक ढांचे के बारे में विचार करना होगा. तिवारी ने कहा कि सरकार के आंकड़ों पर प्रश्नचिन्ह लग रहे हैं. ऐसे में सरकार को अपने आंकड़ों की विश्वसनीयता बढ़ानी होगी. दूसरी ओर, भाजपा सदस्य सिन्हा ने कहा कि आम लोग बजट के बारे में अच्छा भाव रखते हैं और अर्थव्यवस्था तेज गति से आगे बढ़ रही है. उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से वैश्वीकरण और उदारवाद की ओर 25-30 वर्षो तक ध्यान दिया गया, उसी प्रकार से अब प्रतिस्पर्धा, वहनीयता एवं हरित अर्थव्यवस्था पर ध्यान देना चाहिए.

उन्होंने कहा कि हम साझी और वहनीय समृद्धि के मार्ग पर चल रहे हैं और हरित एवं स्वच्छ अर्थव्यवस्था के जरिये देश को दुनिया की मजबूत अर्थव्यवस्था बनाने में सफल होंगे. चर्चा में हिस्सा लेते हुए द्रमुक की कनिमोई ने कहा कि बजट में मध्यम वर्ग, गरीबों के साथ रोजगार सृजन एवं अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने की दृष्टि नहीं है.

'किसानों के आत्‍महत्‍या के मामले बढ़ रहे हैं'
उन्होंने कहा कि किसानों की आत्महत्या के मामले बढ़ रहे हैं और लोग रोजगार के लिये परेशान हैं. मनरेगा, बाल कल्याण के लिये आवंटन में कमी आई है. उन्होंने बजट भाषण में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा सरस्वती सिंधु सभ्यता के उल्लेख पर आपत्ति व्यक्त की और कहा कि यह अभी तक साबित नहीं हो पायी है. उन्होंने इस संदर्भ में द्रविण सभ्यता का जिक्र भी किया.

कनिमोई ने अनुच्‍छेद 370 को लेकर निशाना साधा
कनिमोई ने अनुच्छेद 370 समाप्त किये जाने और संशोधित नागरिकता कानून को लेकर भी सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने जेएनयू में छात्रों पर हमले को लेकर भी सरकार की आलोचना की. तृणमूल कांग्रेस के अभिषेक बनर्जी ने कहा कि नोटबंदी, हड़बड़ी में जीएसटी लाना सरकार के अनुचित कदम थे. उन्होंने कहा कि एलआईसी के निजीकरण के प्रयासों के जो संकेत हैं, उनकी पार्टी संसद से सड़क तक उसका पुरजोर विरोध करेगी.

सरकार बेचो इंडिया चला रही: ममता
ममता बनर्जी ने कहा कि रेलवे, एयर इंडिया, बीपीसीएल, बीएसएनएल के निजीकरण की खबरों के मद्देनजर लगता है कि सरकार मेक इन इंडिया नहीं बल्कि 'बेचो इंडिया' चला रही है. उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री के बजट भाषण में एक भी बार 'बेरोजगारी' शब्द नहीं आया. बनर्जी ने आरोप लगाया कि इस बार रक्षा बजट पर सरकार ने ध्यान नहीं दिया क्योंकि अभी चुनाव नहीं आने वाले.

सरकार को बुलेट ट्रेन का पैसा सेना को दे देना चाहिए: ममता
बनर्जी ने महाराष्ट्र में बुलेट ट्रेन परियोजना बाधित होने की मीडिया के एक वर्ग में आई खबरों का उल्लेख करते हुए कहा कि सरकार को बुलेट ट्रेन का एक लाख करोड़ रुपये सेना को बुलेट प्रूफ जैकेट के लिए दे देना चाहिए. उन्होंने आरोप लगाया कि देशभर में 'राजभवन' भाजपा के विस्तारित कार्यालय की तरह काम कर रहे हैं, सरकार को इस ओर भी ध्यान देना चाहिए और मितव्ययता कदम उठाने चाहिए.

चर्चा में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के रघुराम कृष्ण राजू ने भाग लिया और बजट के अनेक प्रावधानों की प्रशंसा की. शिवसेना के अरविंद सावंत ने कहा कि अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए कदम उठाने से पहले सरकार को यह स्वीकार करना चाहिए कि देश में मंदी है.


ये भी पढ़ें: राज्यसभा: PM मोदी ने गिनाया- अनुच्‍छेद 370 के बाद J&K में पहली बार क्‍या-क्‍या हुआ

ये भी पढ़ें: पीएम मोदी ने कांग्रेस और विपक्ष को याद दिलाया पंडित नेहरू का बयान, जानें क्या कहा?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 6, 2020, 10:21 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर