संघ के 'भारत संवाद' को विपक्ष ने बताया हिंदूवादी प्रोग्राम, कांग्रेस बोली- नहीं मिला न्योता

संघ के 'भारत संवाद' को विपक्ष ने बताया हिंदूवादी प्रोग्राम, कांग्रेस बोली- नहीं मिला न्योता
आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की फाइल फोटो

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी और समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव इसमें भाग नहीं लेंगे.

  • News18.com
  • Last Updated: September 17, 2018, 12:05 PM IST
  • Share this:
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस)  सोमवार से तीन दिवसीय कार्यक्रम की शुरुआत करने जा रहा है, जिसका मुख्य थीम हिंदुत्व होगा. संघ ने इस कार्यक्रम के लिए तमाम सियासी दलों को न्यौता भेजा है, लेकिन विपक्षी पार्टियों के नेताओं के इसमें शामिल होने की संभावना कम ही है. तीन दिनों के इस कार्यक्रम की थीम है, ‘भविष्य का भारत: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का दृष्टिकोण’ . इस कार्यक्रम में देश में चर्चा में चल रहे मुद्दों पर आरएसएस के विचारों पर चर्चा की जाएगी. उम्मीद की जा रही है कि इसमें धार्मिक नेता, फिल्म स्टार्स, खिलाड़ी, उद्योगपति और विभिन्न देशों की जानी-मानी हस्तियां शरीक होंगी.

ये भी पढ़ें:  ये है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शक्ति...!

हालांकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी और समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव इसमें भाग नहीं लेंगे. अखिलेश यादव ने स्पष्ट कर दिया है कि वो इसमें भाग नहीं ले रहे. सीताराम येचुरी इस वक्त यात्रा पर हैं और कांग्रेस इस कार्यक्रम को कोई खास तवज्जो नहीं देती दिख रही. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला का कहना है कि संघ के कार्यक्रम में सभी सियासी दलों को बुलाया जाने की खबर गलत है. उन्होंने कहा, "किसी भी तरह का न्योता नहीं मिला है और यह कोई 'मेडल ऑफ ऑनर' नहीं है. उनका नफरत का एजेंडा सबको पता है."



ये भी पढ़ें: भारत के स्वतंत्रता संग्राम में क्या था RSS का योगदान? 
आरएसएस प्रवक्ता अरुण कुमार ने कहा, 'दुनिया में अपनी स्थिति को मज़बूत करने के लिए भारत आगे बढ़ रहा है. लोगों में खासकर युवाओं में विभिन्न मुद्दों पर आरएसएस के विचार जानने की उत्सुकता है. ये कार्यक्रम दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित किया जाएगा. आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत कुछ चुनिंदा लोगों से इस कार्यक्रम में मुलाकात भी करेंगे.

इससे पहले शिकागो में हुए दूसरे विश्व हिंदू सम्मेलन में आरएसएस प्रमुख ने हिंदुओं से एक होने की अपील की थी. आरएसएस अपने आपको गैर-राजनीतिक दल कहता है, लेकिन आलोचकों का मानना है कि ये संगठन बीजेपी को नियंत्रित करता है और उसकी नीतियों को प्रभावित भी करता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading