आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद आज कश्मीर जा सकते हैं राहुल गांधी, प्रशासन ने आने से मना किया

News18Hindi
Updated: August 24, 2019, 9:00 AM IST
आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद आज कश्मीर जा सकते हैं राहुल गांधी, प्रशासन ने आने से मना किया
राहुल को प्रशासन ने फिर दिखाया रेड सिग्नल, कहा- कश्मीर आने की जरूरत नहीं

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik) ने राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को कश्मीर आने का न्योता दिया था जिसके बाद वो आज श्रीनगर जाने वाले हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 24, 2019, 9:00 AM IST
  • Share this:
कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और कई अन्य विपक्षी दलों के वरिष्ठ नेता आज को कश्मीर (Kashmir) का दौरा करेंगे और अनुच्छेद 370 (Article 370) के प्रमुख प्रावधानों को हटाए जाने के बाद वहां की स्थिति का जायजा लेंगे. सूत्रों के मुताबिक राहुल गांधी के अलावा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) और आनंद शर्मा (Anand Sharma) भी जा रहे हैं. इन नेताओं का दोपहर के समय श्रीनगर पहुंचने का कार्यक्रम है. वहीं जम्मू-कश्मीर सरकार ने शुक्रवार रात बयान जारी कर राजनेताओं से घाटी की यात्रा नहीं करने को कहा, क्योंकि इससे धीरे-धीरे शांति और आम जनजीवन बहाल करने में बाधा पहुंचेगी.

एक सूत्र ने बताया कि अगर श्रीनगर में दाखिल होने की इजाजत मिली तो राहुल समेत सभी नेता वहां पर हालात का जायजा लेंगे तथा स्थानीय नेताओं एवं निवासियों से मुलाकात करेंगे. विपक्षी नेताओं के इस प्रतिनिधिमंडल में सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, सीपीआई महासचिव डी राजा, आरजेडी के मनोज झा, डीएमके के तिरुचि शिवा, तृणमूल कांग्रेस के दिनेश त्रिवेदी और कुछ अन्य दलों के नेता शामिल होंगे.



प्रशासन बोला न करें श्रीनगर का दौरा

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने बयान में कहा कि ऐसे वक्त में जब सरकार राज्य के लोगों को सीमा पार आतंकवाद के खतरे और आतंकवादियों तथा अलगाववादियों के हमलों से बचाने की कोशिश कर रही है और उपद्रवियों तथा शरारती तत्वों को नियंत्रित करके लोक व्यवस्था बहाल करने की कोशिश कर रही है, तब वरिष्ठ राजनेताओं की ओर से आम जनजीवन को धीरे-धीरे पटरी पर लाने में बाधा डालने की कोशिश नहीं होनी चाहिए. बयान में कहा गया है कि राजनेताओं से अनुरोध किया जाता है कि सहयोग दें और श्रीनगर की यात्रा नहीं करें, क्योंकि उनके ऐसा करने से अन्य लोगों को असुविधा होगी. वे पाबंदियों का भी उल्लंघन करेंगे जो अब भी कई इलाकों में कायम हैं. वरिष्ठ नेताओं को समझना चाहिए कि शांति, व्यवस्था और जानहानि को रोकने को शीर्ष प्राथमिकता देनी चाहिए.



सत्यपाल मलिक ने राहुल गांधी को दिया था न्योता
Loading...

दरअसल, जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik) ने राहुल गांधी को कश्मीर आने का न्योता दिया था जिसके बाद राहुल गांधी आज श्रीनगर जाने वाले हैं. कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों के नेताओं ने जम्मू-कश्मीर में हिरासत में लिए गए नेताओं की रिहाई की मांग करते हुए गुरुवार को यहां प्रदर्शन भी किया था. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, सीपीआई महासचिव डी राजा, सपा नेता रामगोपाल यादव, लोकतांत्रिक जनता दल के शरद यादव, राष्ट्रीय जनता दल के मनोज झा और तृणमूल कांग्रेस के दिनेश त्रिवेदी इस विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए थे.

घाटी में मोबाइल और इंटरनेट बंद
गौरतलब है कि हाल ही में सरकार ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के कई प्रावधान हटाने और राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों को बांटने का कदम उठाया. इसके मद्देनजर कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए राज्य के कई इलाकों में एहतियातन भारी सुरक्षा बलों की तैनाती की गई और मोबाइल एवं इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी गईं. इसके अलावा पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती सहित कई नेताओं को हिरासत में लिया गया अथवा नजरबंद किया गया.

(भाषा इनपुट के साथ)

ये भी पढें: भारत ने अपने ही हेलीकॉप्टर को बनाया था निशाना: रिपोर्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 24, 2019, 6:05 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...