ट्रंप के बयान पर संसद में हंगामा, विपक्ष ने PM मोदी से मांगा जवाब

कश्मीर मुद्दे पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बयान का मुद्दा संसद के दोनों सदनों में उठाया गया. विपक्ष ने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से सदन में आकर स्थिति स्पष्ट करने की मांग की.

News18Hindi
Updated: July 23, 2019, 4:42 PM IST
ट्रंप के बयान पर संसद में हंगामा, विपक्ष ने PM मोदी से मांगा जवाब
विपक्षी दलों ने PM मोदी से मांगा जवाब
News18Hindi
Updated: July 23, 2019, 4:42 PM IST
कश्मीर मुद्दे पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बयान के बाद देश में बड़ी राजनीतिक बहस छिड़ गई है. विपक्ष ने सरकार को घेरते हुए इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सफाई देने की मांग की है, जबकि विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ‘मध्यस्थता’ की बात को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि पाकिस्तान के साथ सभी लंबित मुद्दों का समाधान द्विपक्षीय तरीके से ही किया जाएगा.

कश्मीर पर अमेरिकी राष्ट्रपति के बयान का मुद्दा संसद के दोनों सदनों में उठाया गया. जहां एकजुट विपक्ष ने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से सदन में आकर स्थिति स्पष्ट करने की मांग की. लोकसभा में इस मुद्दे पर कांग्रेस, तणमूल कांग्रेस, द्रमुक सहित विपक्षी दलों ने सदन से वाकआउट किया, जबकि राज्यसभा में विपक्षी सदस्यों के हंगामे के कारण सदन की बैठक कई बार स्थगित करनी पड़ी.

विदेश मंत्रालय ने खारिज किया दावा
इस मुद्दे पर संसद के दोनों सदनों में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कश्मीर पर अमेरिकी राष्ट्रपति के ‘मध्यस्थता’ के दावे को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ऐसा कोई आग्रह नहीं किया और पाकिस्तान के साथ कोई भी बातचीत सीमा पार से जारी आतंकवाद बंद होने के बाद हो पायेगी और यह लाहौर घोषणापत्र और शिमला समझौते के अंतर्गत ही होगी.

गौरतलब है कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में ट्रंप ने सोमवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दो हफ्ते पहले उनके साथ थे और उन्होंने कश्मीर मामले पर मध्यस्थता की पेशकश की थी और उन्हें (ट्रंप को) इसमें मध्यस्थता करने पर खुशी होगी.

पीएम मोदी ने नहीं किया कोई अनुरोध
लोकसभा एवं राज्यसभा में विपक्ष द्वारा यह मुद्दा उठाये जाने पर विदेश मंत्री जयशंकर ने दोनों सदनों में बयान दिया. उन्होंने कहा, ‘हम सदन को पूरी तरह आश्वस्त करना चाहेंगे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसा कोई अनुरोध नहीं किया है.’ उन्होंने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति से इस तरह का कोई अनुरोध नहीं किया गया है.
Loading...

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने दिया जवाब


विदेश मंत्री ने कहा ‘‘पाकिस्तान के साथ कोई भी बातचीत सीमापार से जारी आतंकवाद बंद होने के बाद, लाहौर घोषणापत्र और शिमला समझौते के अंतर्गत ही होगी.’ उन्होंने कहा ‘हम अपना रूख फिर से दोहराते हैं कि पाकिस्तान के साथ सभी लंबित मुद्दों का समाधान द्विपक्षीय तरीके से ही किया जाएगा.’ वहीं, सरकार के जवाब से असंतुष्ट कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि इस विषय पर देश को बताया जाना चाहिए कि प्रधानमंत्री मोदी एवं ट्रंपके बीच क्या बातचीत हुई थी.उन्होंने यह दावा भी किया कि अगर ट्रंपकी बात सही है तो फिर प्रधानमंत्री ने देश के हितों के साथ विश्वासघात किया है.

पीएम मोदी ने किया विश्वासघात
राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘राष्ट्रपति ट्रंप कहते हैं कि प्रधानमंत्री मोदी ने उनसे कश्मीर मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता करने के लिए कहा. अगर यह सच है तो प्रधानमंत्री मोदी ने भारत के हितों और 1972 के शिमला समझौते के साथ विश्वासघात किया है.’ उन्होंने कहा, ‘एक कमजोर विदेश मंत्रालय के इनकार करने से काम नहीं चलेगा. प्रधानमंत्री देश को बताएं कि उनके और अमेरिकी राष्ट्रपति के बीच मुलाकात में क्या बात हुई थी.’

कांग्रेस ने किया हंगामा


वहीं, वाशिंगटन में ट्रंप के प्रशासन ने कश्मीर में मध्यस्थता के संबंध में की गई अमेरिकी राष्ट्रपति की टिप्पणी के बाद उपजे विवाद को शांत करने का प्रयास शुरू कर दिया है. विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि यह भारत और पाकिस्तान के बीच एक ‘द्विपक्षीय’ मुद्दा है और अमेरिका दोनों देश के बीच वार्ता का स्वागत करता है. साथ ही मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तान का आतंकवाद के खिलाफ ‘निरंतर एवं स्थिर’ कार्रवाई करना भारत के साथ उसकी सफल बातचीत के लिए अहम है.

राज्यसभा में हुआ इस मुद्दे पर हंगामा
राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद की अगुवाई में विपक्षी दलों के नेताओं ने मंगलवार को संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से कहा कि ट्रंप ने अपने कथित बयान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जिक्र किया है. ऐसे में मोदी को खुद संसद के दोनों सदनों में बयान देकर स्थिति स्पष्ट करनी चाहिये.

विपक्षी पार्टियों के इन नेताओं ने भी साधा निशाना
तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन, राजद के मनोज कुमार झा, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के माजिद मेनन और आप के संजय सिंह सहित अन्य दलों के नेताओं ने संवाददाताओं से कहा कि ट्रंप ने अपने बयान में साफतौर पर कहा है कि मोदी ने खुद उनसे कश्मीर मामले में मध्यस्थता करने की पहल की थी, इसलिये मोदी को स्वयं देश के समक्ष स्थिति को स्पष्ट करना चाहिये.
First published: July 23, 2019, 4:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...