2019 पर नज़र: नायडू ने संभाली एंटी-बीजेपी मोर्चे की कमान, 22 को दिल्ली में अहम बैठक

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में बीजेपी से मुकाबला करने के लिए विपक्षी दलों को एकजुट करने की कोशिश कर रहे हैं.

News18Hindi
Updated: November 11, 2018, 8:06 AM IST
2019 पर नज़र: नायडू ने संभाली एंटी-बीजेपी मोर्चे की कमान, 22 को दिल्ली में अहम बैठक
चंद्रबाबू नायडू और अशोक गहलोत
News18Hindi
Updated: November 11, 2018, 8:06 AM IST
साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर सियासी सरगर्मियां तेज हो गई हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक बार फिर से महागठबंधन बनाने की कोशिश जोर पकड़ रही है. धीरे-धीरे से ही सही मगर बीजेपी विरोधी दल पास आ रहे हैं. इन दलों को करीब लाने का जिम्मा उठाया है आंध्र प्रदेश के सीएम और तेलुगू देशम पार्टी के प्रमुख चंद्रबाबू नायडू ने.

रेड्डी बंधुओं के गढ़ में BJP को बड़ा झटका, बेल्लारी ने 14 साल बाद थामा कांग्रेस का हाथ

एंटी-बीजेपी फ्रंट को मजबूत करने की कोशिशों के बीच चंद्रबाबू नायडू शनिवार शाम अमरावती में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत से मुलाकात की. इस मीटिंग में ये तय हुआ कि बीजेपी के खिलाफ विपक्ष के सभी बड़े दल 22 नवंबर को दिल्ली में एक मीटिंग करेंगे.

शनिवार को गहलोत से मुलाकात के बाद आंध्र के सीएम चंद्रबाबू नायडू ने कहा, ' 2019 के चुनाव में बीजेपी के खिलाफ बाकी दलों को एकजुट करने की कोशिशें जारी हैं. दिल्ली में होने वाली मीटिंग से पहले मैं 19 नवंबर को पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी से मुलाकात करूंगा और गठबंधन के लिए उनका समर्थन मांगेंगे.'


कर्नाटक Bypoll: मुख्यमंत्री की पत्नी से लेकर Ex-CM के बेटे तक, मैदान में हैं ये हाईप्रोफाइल चेहरे

दरअसल, आंध्र प्रदेश के लिए स्पेशल स्टेटस और स्पेशल पैकेज नहीं मिलने से नाराज चंद्रबाबू ने जब से केंद्र की एनडीए सरकार से समर्थन वापस लिया है, तब से वह बीजेपी विरोधी दलों को एकजुट करने में लगे हैं. इससे पहले शुक्रवार को उन्होंने जेडीएस प्रमुख और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा से मुलाकात की थी.

इससे पहले तेलुगू देशम पार्टी (TDP) के अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू ने चेन्नई में डीएमके चीफ एमके स्टालिन से उनके घर जाकर मुलाकात की थी.
Loading...
नायडू ने कहा कि मैंने मायावती, अखिलेश यादव से बातचीत की और सभी से मुलाकात की है. हम तय करेंगे कि आम सहमति के साथ गठबंधन कैसे आगे ले जाया जाए. यह शुरुआती कवायद है. इसके बाद हम मिलकर काम करेंगे. गौरतलब है कि कांग्रेस के आलोचक रहे नायडू महागठबंधन के लिए उसके साथ बातचीत करने के भी खिलाफ नहीं हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर