अपना शहर चुनें

States

कोरोना वैक्सीन को इटली मेड नहीं भारतीय मेड चश्मे से देखे विपक्ष: अश्विनी चौबे

अधिकारियों ने कहा कि ऐप बहुत धीरे-धीरे काम कर रहा था, जिसके कारण परेशानियां हुईं.
अधिकारियों ने कहा कि ऐप बहुत धीरे-धीरे काम कर रहा था, जिसके कारण परेशानियां हुईं.

Corona Vaccine: पूरे देश में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण अभियान की शुरुआत हो रही है. इस संबंध में सरकार की तरफ से पूरी तैयारी हो चुकी है. अश्विनी चौबे ने कहा कि देश भर में तीन हज़ार से अधिक सेंटर पर टीका दिया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 16, 2021, 7:57 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) को लेकर विरोधी दल के नेताओं की तरफ से उठाए गए सवाल को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव समेत कई विरोधी दल के नेताओं की तरफ से उठाए गए सवाल के जवाब में उन्होंने न्यूज 18 से बात करते हुए कहा है कि विपक्षी ऐसी बात न बोले जिससे अफ़वाह का बाज़ार गर्म हो. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नेतृत्व किसी से छिपा नहीं है. कोरोना काल में उन्होंने जो वादा किया उसे समय पर निभा रहे हैं. विपक्ष के लोगों का काम ही है कि मोदी जो बोलते हैं उसका विरोध करें, विपक्ष के साथी ठान लिए हैं. इससे देश का नुक़सान होगा. केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने कहा कि यह स्वास्थ्य का मसला है कृपया इसमें राजनीति न करें. विपक्षी दलों को इटली मेड चश्मा से नहीं भारतीय मेड चश्मा से देखना चाहिए.

पूरे देश में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण अभियान की शुरुआत हो रही है. इस संबंध में सरकार की तरफ से पूरी तैयारी हो चुकी है. अश्विनी चौबे ने कहा कि देश भर में तीन हज़ार से अधिक सेंटर पर टीका दिया जाएगा. इसको लेकर सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में तैयारी है. उन्होंने बताया कि अभी एक करोड़ स्वास्थ्य कर्मी और दो करोड़ फ्रंट लाइन वोलंटियर्स को टीका दिया जाएगा. कई राज्यों ने वैक्सीन फ़्री कर दिया है. हमारा वैक्सीन दुनिया भर में सबसे बेहतर है. खास तौर से वैक्सीन का लोगों पर आर्थिक रूप से बोझ न हो इसका ख़्याल रखा गया है.

गौरतलब है कि 18 साल से कम उम्र के बच्चों और गर्भवती महिलाओं को अभी वैक्सीन नहीं लगेगा. अभी पचास साल के ऊपर के लोग और जो पेसेंट हैं उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी. फ़र्स्ट फ़ेज़ में वैक्सीन देने में ढाई-तीन महीने का वक्त लगेगा. अश्विनी चौबे खुद कोरोना पोजिटिव होने के बाद दिल्ली में एम्स में भर्ती हुए थे. लेकिन, अब स्वस्थ होकर फिर से अपने काम पर लौट आए हैं. उन्होंने कहा कि अस्पताल से आने के बाद हमने सभी राज्यों की समीक्षा की है. खासतौर से बिहार और झारखंड में टीकाकरण की तैयारी का उन्होंने जायजा लिया है.




ये भी पढ़ें: भारत में बढ़ रही है ब्रिटेन के कोरोना स्ट्रेन संक्रमितों की संख्या, 114 पहुंचा आंकड़ा

ये भी पढ़ें: Corona Vaccine: पड़ोसी देशों में कोरोना को खत्म करेगी भारतीय वैक्सीन, भेजी जाएंगी 2 करोड़ डोज

उन्होने बताया कि दोनों ही राज्यों में अभी बहुत उत्साह है. उन्होंने कहा कि बिहार में फ़्री वैक्सीन देने का कमिटमेंट किया था, बिहार सरकार ने पहली कैबिनेट में ही फ़्री वैक्सीन देने का फैसला कर दिया है. पूरे देश में अभी सरकार ने 1.5 करोड़ डोज़ ख़रीदे हैं. इसमें 1.1 करोड़ कोविशिल्ड की है और 55 लाख कोवैक्सीन की ख़रीद है. किसी व्यक्ति को जिस कंपनी का पहला डोज़ लगेगा, उसी कंपनी का दूसरा डोज़ भी लगेगा. अलग-अलग बूथ पर हर सत्र में 100 लोगों को कोरोना का टीका लगेगा. केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने साफ किया कि किसी भी व्यक्ति के पास वैक्‍सीन के चयन का विकल्प नहीं होगा, यानी जो वैक्सीन बूथ पर उपलब्‍ध होगा, वही लगेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज