विपक्ष ने कहा- PM को चिंतित होना चाहिए कि लोग गाय के नाम पर मारे जा रहे हैं

भाषा
Updated: September 11, 2019, 11:16 PM IST
विपक्ष ने कहा- PM को चिंतित होना चाहिए कि लोग गाय के नाम पर मारे जा रहे हैं
विपक्षी दलों ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को इस बात के लिए चिंतित होना चाहिए कि गाय के नाम पर लोगों की हत्या हो रही है और संविधान का घोर उल्लंघन हो रहा है.

विपक्षी दलों ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) को इस बात के लिए चिंतित होना चाहिए कि गाय के नाम पर लोगों की हत्या हो रही है और संविधान का घोर उल्लंघन हो रहा है.

  • भाषा
  • Last Updated: September 11, 2019, 11:16 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. विपक्षी दलों ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) को इस बात के लिए चिंतित होना चाहिए कि गाय के नाम पर लोगों की हत्या हो रही है और संविधान का घोर उल्लंघन हो रहा है. विपक्षी दलों ने यह बात प्रधानमंत्री की उस टिप्पणी पर पलटवार करते हुए कही कि ‘गाय’ शब्द सुनते ही कुछ लोगों के बाल खड़े हो जाते हैं.’ प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मथुरा में एक कार्यक्रम में कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कुछ लोगों के कानों में जैसे ही ‘ओम’ और ‘गाय’ शब्द पड़ते हैं, उनके ‘‘बाल खड़े हो जाते हैं.’’

पीएम मोदी ने किसी का नाम लिए बगैर कहा, ‘‘उन्हें महसूस होता है मानो देश 16वीं-17वीं सदी में पहुंच गया है. इस तरह के ज्ञान का इस्तेमाल देश को नुकसान पहुंचाने पर आमादा लोग करते हैं और उन्होंने ऐसा करने के लिए कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रखी है.’’ कांग्रेस ने बयान के लिए प्रधानमंत्री की आलोचना की और आरोप लगाया कि यह अर्थव्यवस्था की स्थिति से लोगों का ध्यान ‘‘भटकाने’’ का प्रयास है.

कांग्रेस प्रवक्ता ने कही ये बात
कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक सिंघवी (Abhishek Singhvi) ने कहा, ‘‘मैंने आज उन्हें अर्थव्यवस्था पर नहीं बल्कि ‘गाय’ और ‘ओम’ पर बोलते देखा. कोई बोलता है कि कांग्रेस कैसे काम कर रही है. क्या यह अर्थव्यवस्था पर जवाब है जो मैं उठा रहा हूं. निश्चित तौर पर यह ध्यान भटकाने का मामला है.’’

देश की अर्थव्यवस्था की बात करें PM
पीएम मोदी की टिप्पणी के लिए आलोचना करते हुए भाकपा के महासचिव डी. राजा (D Raja) ने कहा कि प्रधानमंत्री ‘ओम’ और ‘गाय’ के मुद्दे क्यों उठा रहे हैं जबकि उन्हें देश की अर्थव्यवस्था की बात करनी चाहिए. उन्होंने ‘पीटीआई- भाषा’ से कहा, ‘‘वह ऐसे समय में यह बात कह रहे हैं जब गाय और भगवान के नाम पर देश भर में पीट-पीट कर हत्या करने की घटनाएं हो रही हैं. उन्हें देश के प्रधानमंत्री की तरह व्यवहार करना चाहिए , वास्तविक मुद्दों पर बात करनी चाहिए और बेरोजगारी की समस्या का समाधान करना चाहिए न कि विपक्ष पर हमला करना चाहिए.’’

प्रधानमंत्री की टिप्पणी के बारे में पूछने पर ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहाद उल मुसलमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने टीवी चैनलों से कहा कि भारत में लोग न केवल ‘ओम’ और ‘गाय’ सुनते हैं बल्कि मस्जिदों की अजान, गुरुद्वारा में होने वाले पाठ और गिरजाघरों की घंटी की आवाज भी सुनते हैं.
Loading...

'संविधान का उल्लंघन हो रहा है'
उन्होंने कहा, ‘‘लोग जब गाय के नाम पर मारे जा रहे हैं तो आपको चिंतित होना चाहिए. प्रधानमंत्री को चिंतित होना चाहिए कि संविधान का घोर उल्लंघन हो रहा है. हम अपने प्रधानमंत्री से उम्मीद करते हैं कि जब तबरेज, पहलु खान या अखलाक मारे जा रहे हैं तो उन्हें यह सोचकर चिंतित होना चाहिए कि ‘मेरे देश में क्या चल रहा है.’’’

'मोदी एक धर्मनिरपेक्ष देश के प्रधानमंत्री'
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (National Congress Party) के सांसद माजिद मेमन ने कहा कि मोदी एक धर्मनिरपेक्ष देश के प्रधानमंत्री हैं और उन्हें अक्सर धार्मिक मामलों का जिक्र नहीं करना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘‘वह धर्मगुरु नहीं हैं... प्रधानमंत्री को स्पष्ट कर देना चाहिए कि ‘मैं सरकार के मुखिया के तौर पर किसी को भी धर्म के नाम पर, ‘ओम’ या ‘गाय’ के नाम पर किसी को बर्दाश्त नहीं करूंगा, उन्हें अपने हाथ में कानून नहीं लेने दूंगा.’’

ये भी पढ़ें-
जहां गाय पर बोले PM मोदी, वहां एक साथ ऐसे पाली जा रही हैं 45 हजार गाय

आप भी खरीद सकते हैं PM मोदी के उपहार, इस दिन होगी ऑनलाइन नीलामी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2019, 10:59 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...