होम /न्यूज /राष्ट्र /गुरु पर्व पर अल्पसंख्यकों को भारत आने के लिए 'सुरक्षित मार्ग' देगा तालिबान- रिपोर्ट

गुरु पर्व पर अल्पसंख्यकों को भारत आने के लिए 'सुरक्षित मार्ग' देगा तालिबान- रिपोर्ट

तालिबान ने गुरु तेग बहादुर की 400वीं जयंती के मौके पर भारत आना चाह रहे अल्पसंख्यकों को 'सुरक्षित रास्ता' देने का वादा किया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: AP)

तालिबान ने गुरु तेग बहादुर की 400वीं जयंती के मौके पर भारत आना चाह रहे अल्पसंख्यकों को 'सुरक्षित रास्ता' देने का वादा किया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: AP)

Afghanistan Sikh-Hindu Update: तालिबान ने गुरु तेग बहादुर (Guru Teg Bahadur) की 400वीं जयंती के मौके पर भारत आना चाह रह ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    काबुल. अफगानिस्तान में फंसे हिंदू-सिख समुदाय के लोगों को निकालने के प्रयास जारी हैं. इस काम में लगे संगठनों ने दावा किया है कि तालिबान ने गुरु पर्व (Gurupurab) के लिए भारत जाना चाह रहे अल्पसंख्यकों को ‘सुरक्षित रास्ता’ देने का वादा किया है. कहा जा रहा है कि अफगानिस्तान में कम से कम 210 अफगान सिख और हिंदू मौजूद हैं. इनमें से कम से कम 170 वहां से निकलना चाहते हैं. जबकि, सभी की भारत (India) आने की इच्छा नहीं है.

    इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, तालिबान ने गुरु तेग बहादुर की 400वीं जयंती के मौके पर भारत आना चाह रहे अल्पसंख्यकों को ‘सुरक्षित रास्ता’ देने का वादा किया है. यह दावा लोगों को निकालने की कोशिशों में जुटे संगठनों ने किया है. कुछ ही दिनों पहले सिख और हिंदुओं ने काबुल एयरपोर्ट पहुंचने का असफल प्रयास किया था. यहां उन्हें एयरलिफ्ट किया जाना था, लेकिन हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर हुए धमाके के बाद उन्हें दोबारा स्थानीय गुरुद्वारा लौटना पड़ा.

    फिलहाल, अमेरिका के अफगानिस्तान से आधिकारिक रूप से बाहर निकलने के चलते यह साफ नहीं है कि लोगों को निकालकर भारत ले जाने के लिए अगली उड़ान का संचालन कम होगा. एयरपोर्ट अब तालिबान के कब्जे में है. विश्व पंजाबी संगठन के अध्यक्ष विक्रमजीत सिंह साहनी ने कहा कि तालिबान के नियंत्रण के बाद गुरुद्वारे में रह रहे फंसे हुए करीब 180 अफगान सिख और हिंदू वापस अपने घर जलालाबाद, गजनी, काबुल पहुंच गए हैं.

    यह भी पढ़ें: पाकिस्तान का कबूलनामा, खुद को बताया तालिबान का ‘संरक्षक’, कहा- उनके लिए सबकुछ किया

    रिपोर्ट के अनुसार, इंडियन वर्ल्ड फोरम के अध्यक्ष पुनीत सिंह चांडक ने कहा, ‘हम बचे हुए अफगान सिख और हिंदुओं को अगले हफ्ते तक निकालने का पूरा प्रयास कर रहे हैं. तालिबान ने उन्हें वैध कागजों के साथ भारत यात्रा करने की अनुमति दे दी है. प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने समूह की तरफ से अफगान सिख और हिंदू तीर्थयात्रियों को भारत जाने की मिली मंजूरी की जानकारी दी और मदद का भरोसा दिया.’

    साहनी ने कहा, ‘कतर में भारतीय राजदूत दीपक मित्तल और तालिबान के दोहा स्थित राजनीतिक कार्यालय के प्रमुख शेर मोहम्मद अब्बास स्तानिकजई के बीच हुई बैठक के परिणामस्वरूप, तालिबान के प्रतिनिधियों ने भरोसा दिया है कि अफगान सिखों को भारत जाने के लिए सुरक्षित मार्ग दिया जाएगा. हम विदेश मंत्रालय के साथ संपर्क में हैं और लोगों को निकालने का अगला प्लान तैयार किया जा रहा है और इसे 10 दिनों में तैयार हो जाना चाहिए. ताकि गुरु तेग बहादुर जी की 400वीं जयंती पर अफगान सिख भारत आ सकें.’

    Tags: Afghanistan, Guru Teg Bahadur, India, Sikh-Hindu, Taliban

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें