बीेजेपी के लिए हमारे दरवाज़े अब भी खुले हैंः जे़लियांग

बीजेपी व एनपीएफ दोनों ने गठबंधन की संभावना से इनकार नहीं किया है.

News18Hindi
Updated: February 15, 2018, 7:36 AM IST
बीेजेपी के लिए हमारे दरवाज़े अब भी खुले हैंः जे़लियांग
अमित शाह के साथ टी.आर ज़ेलियांग
News18Hindi
Updated: February 15, 2018, 7:36 AM IST
नागालैंड के मुख्यमंत्री टीआर ज़ेलियांग ने बुधवार को कहा कि बीजेपी और एनपीएफ के बीच 15 साल पुराना गठबंधन अभी समाप्त नहीं हुआ है. भले ही दोनों पार्टियां एक-दूसरे के खिलाफ लड़ रही हैं फिर भी एनपीएफ के दरवाज़े बीजेपी के लिए बंद नहीं हुए हैं.

एनपीएफ का कैंपेन शुरू करते हुए उन्होंने कहा कि दोनों पार्टियों के बीच विश्वास अभी भी बना हुआ है. मेरी कैबिनेट में अभी भी पी. पाइवांग कोनयाक मंत्री हैं जो बीजेपी से हैं. इसके अलावा बीजेपी के ही एक सलाहकार टी.एन. लोथा भी कैबिनेट रैंक के मंत्री हैं. अब ये बीजेपी के ऊपर है कि उन्हें क्या करना है.

नागालैंड मे बीजेपी के राज्य प्रमुख विसासोली ल्होऊंगू ने भी एनपीएफ के साथ दुबारा गठबंधन की संभावनाओं से इंकार नहीं किया है. उन्होंने कहा कि अभी गठबंधन समाप्त नहीं हुआ है हमने एनपीएफ से साथ संबंध खत्म नहीं किए हैं और उनके लिए हमारे दरवाज़े खुले हैं.

नागालैंड की राजनीति में हुए हालिया बदलाव ने एक नया मोड़ ला दिया. इस बात पर विचार किया जाने लगा कि चुनाव के बाद बीजेपी-एनडीपीपी गठबंधन के वर्तमान मुख्यमंत्री उम्मीदवार नेफ्यू रियो का क्या होगा? उत्तरी अंगामी सीट-।। पर विरोधी पार्टी के उम्मीदवार द्वारा पहले से ही हट जाने के बाद ये सीट नेफ्यू की हो चुकी है.

जब पूछा गया कि क्या चुनाव बाद गठबंधन की संभावना है तो ज़ेलियांग ने कहा कि इसकी ज़रूरत नहीं पड़ेगी. एनपीएफ को पूर्ण बहुमत मिलेगा.

बता दें कि चुनाव पूर्व एनपीएफ व बीजेपी के बीच सीट शेयरिंग को लेकर असहमति हो गयी थी. इसके बाद एनडीपीपी ने बीजेपी को 40 में से 20 सीटों पर चुनाव लड़ने का प्रस्ताव देकर बीजेपी के साथ गठबंधन कर लिया. बीजेपी राज्य प्रमुख ल्होऊंगू ने कहा कि एनपीएफ के साथ गठबंधन हमारी प्राथमिकता में था पर वो हमें 10 सीटें भी नहीं देना चाहते थें. इसलिए हमने गठबंधन तोड़ लिया.

ये भी पढ़ेंः
Assembly election 2018 : कुछ ऐसी है मेघालय, त्रिपुरा और नगालैंड की राजनीति, इन तारीखों में होंगे चुनाव..!

VIDEO: नगालैंड में सिर्फ 20 ही सीटों पर क्यों लड़ रही है कांग्रेस?
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर