• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • देश में 1.60 लाख से अधिक स्वास्थ्य प्रतिष्ठान बिना अनुमति के चल रहे: सीपीसीबी

देश में 1.60 लाख से अधिक स्वास्थ्य प्रतिष्ठान बिना अनुमति के चल रहे: सीपीसीबी

2,70,416 स्वास्थ्य देखभाल प्रतिष्ठानों में से केवल 1,10,356 प्रतिष्ठानों को ही वर्ष 2019 तक की अनुमति मिली. (सांकेतिक तस्वीर)

2,70,416 स्वास्थ्य देखभाल प्रतिष्ठानों में से केवल 1,10,356 प्रतिष्ठानों को ही वर्ष 2019 तक की अनुमति मिली. (सांकेतिक तस्वीर)

देश में 1.60 लाख से अधिक स्वास्थ्य देखरेख प्रतिष्ठान ऐसे हैं जिन्होंने जैव चिकित्सा कचरा प्रबंधन नियम, 2016 (Biomedical Waste Management Rules, 2016) के तहत आवश्यक अनुमति नहीं ली है और वे बिना मंजूरी के ही चल रहे हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (Central Pollution Control Board) ने  राष्ट्रीय हरित अधिकरण (National Green Tribunal) को मंगलवार को बताया कि देश में 1.60 लाख से अधिक स्वास्थ्य देखरेख प्रतिष्ठान ऐसे हैं जिन्होंने जैव चिकित्सा कचरा प्रबंधन नियम, 2016 (Biomedical Waste Management Rules, 2016) के तहत आवश्यक अनुमति नहीं ली है और वे बिना मंजूरी के ही चल रहे हैं. शीर्ष प्रदूषण निगरानी इकाई ने हरित इकाई को बताया कि राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्डों द्वारा सौंपी गई वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार 2,70,416 स्वास्थ्य देखभाल प्रतिष्ठानों में से केवल 1,11,122 इकाइयों ने ही अनुमति के लिए आवेदन किया है और 1,10,356 स्वास्थ्य देखरेख इकाइयों को जैव चिकित्सा कचरा प्रबंधन नियम, 2016 के तहत मंजूरी मिल चुकी है. इसने कहा कि इन 2,70,416 स्वास्थ्य देखभाल प्रतिष्ठानों में से केवल 1,10,356 प्रतिष्ठानों को ही वर्ष 2019 तक की अनुमति मिली.

    सीपीसीबी (CPCB) ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि अनुमति के लिए आवेदन कर चुके और अनुमति प्राप्त कर चुके स्वास्थ्य देखभाल प्रतिष्ठानों के अतिरिक्त लगभग 50 हजार स्वास्थ्य प्रतिष्ठान ऐसे हैं जिन्होंने न तो आवेदन किया है और न ही अनुमति प्राप्त की है. एनजीटी अध्यक्ष न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ ने राज्यों को प्रक्रिया तेज करने और इसे 31 अगस्त तक पूरा करने तथा सीपीसीबी को अनुपालन रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया. रिपोर्ट के अनुसार 25 राज्य और केंद्रशासित प्रदेश सभी स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों से संबंधित अपनी पड़ताल पूरी कर चुके हैं और 10 राज्यों-असम, केरल, मिजोरम, पश्चिम बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़, गोवा, गुजरात, मेघालय तथा उत्तराखंड को अभी यह कार्य पूरा करना बाकी है.

    ये भी पढ़ें- क्यों पानी से भी कम दाम पर बिक रहा पशुपालन करने वाले किसानों की गाय का दूध?

    31 अगस्त तक रिपोर्ट सौंपने के निर्देश
    अधिकरण ने इन राज्यों से प्रक्रिया में तेजी लाने और इसे 31 अगस्त 2020 तक पूरा करने तथा अनुपालन रिपोर्ट केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को सौंपने को कहा. रिपोर्ट में कहा गया कि जैवचिकित्सा कचरे के निस्तारण और शोधन के लिए सात राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों-अंडमान निकोबार, अरुणाचल प्रदेश, गोवा, लक्षद्वीप, मिजोरम, नगालैण्ड और सिक्किम में कोई सार्वजनिक जैवचिकित्सा कचरा शोधन प्रतिष्ठान नहीं है.

    एनजीटी ने सीपीसीबी को निर्देश दिया कि वह मामले से जुड़े सभी पहलुओं पर सभी राज्यों के प्रदूषण नियंत्रण बोर्डों से मिली सूचना के आधार पर 30 नवंबर तक एक समेकित रिपोर्ट दायर करे.

    अधिकरण ने उत्तर प्रदेश निवासी पत्रकार शैलेश सिंह की याचिका पर यह निर्देश दिया जिसमें आग्रह किया गया है कि ऐसे सभी अस्पतालों और चिकित्सा प्रतिष्ठानों तथा कचरा निस्तारण संयंत्रों को बंद किया जाए जो कचरा प्रबंधन नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज